The Lallantop
Advertisement

प. बंगाल: संदेशखाली में प्रदर्शनकारी महिलाओं से मिले राज्यपाल, कहा- 'अंतरात्मा को हिला देने वाला था...'

Sandeshkhali Women Protest: प्रदर्शनकारी महिलाओं ने TMC नेता शाहजहां शेख और उनके सहयोगियों पर जमीनें हड़पने और यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है.

Advertisement
West Bengal Governor CV Ananda Bose
राज्यपाल ने महिलाओं से वादा किया है कि वो कानून के मुताबिक लड़ाई लड़ेंगे.
12 फ़रवरी 2024 (Updated: 12 फ़रवरी 2024, 24:07 IST)
Updated: 12 फ़रवरी 2024 24:07 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सी.वी आनंदबोस ने 12 फरवरी को नॉर्थ-24 परगना जिले के संदेशखाली (Sandeshkhali) में प्रदर्शन कर रही महिलाओं से मुलाकात की. इस इलाके में कई महिलाएं TMC नेता शेख शाहजहां और उनके सहयोगियों की गिरफ्तारी की मांग कर रही हैं. प्रदर्शनकारी महिलाओं ने शाहजहां शेख और उनके सहयोगियों पर जमीनें हड़पने और यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. 

राज्यपाल से क्या बोलीं महिलाएं?

इस सिलसिले में राज्यपाल सी.वी आनंदबोस महिलाओं से मिलने पहुंचे. महिलाओं ने राज्यपाल से शिकायत की कि स्थानीय गुंडे और उनके गिरोह कई साल से उन्हें प्रताड़ित कर रहे हैं. महिलाओं ने कहा कि अब तक जिन गुंडों को गिरफ्तार किया गया है, अगर उन्हें छोड़ दिया गया तो उन्हें फिर परेशान किया जा सकता है. राज्यपाल को महिलाओं ने राखी बांधी और उनसे न्याय दिलाने की गुहार लगाई. जवाब में राज्यपाल ने भी महिलाओं से वादा किया कि कानून के मुताबिक लड़ाई लड़ेंगे.

ये भी पढ़ें- बंगाल में दो गुटों में झड़प, धारा 144 लागू; जानिए ये सब हुआ क्यों

महिलाओं से मिलने के बाद राज्यपाल सी.वी. आनंदबोस ने मीडिया को बताया,

“मैंने जो देखा वो भयावह, स्तब्ध करने वाला और मेरी अंतरात्मा को हिला देने वाला था. मैंने वो कुछ देखा जो कभी नहीं देखना चाहिए था. मैंने कई चीजें सुनी थीं जो कभी नहीं सुननी चाहिए थीं.”

उन्होंने आगे कहा,

"जब मैंने वहां अपनी माताओं और बहनों की बातें सुनीं...कल्पना कीजिए एक खुशहाल घर है, पति-पत्नी, बच्चे और बच्चियां हैं. लेकिन कुछ गुंडे आते हैं, बच्ची को पकड़ लेते हैं, पति के सामने पत्नी का शोषण करते हैं और पति को पीटते हैं...यह कोई कल्पना नहीं है. मुझे बताया गया कि पिछले कुछ दिनों में इस गांव में यही हुआ. वो ये जानते हैं कि ये सब किसने किया..."

प्रदर्शनकारी महिलाओं से मिलने से पहले आनंद बोस ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ भी बैठक की. उन्होंने हालात की जानकारी ली और सख्त कदम उठाने का निर्देश दिया. राज्यपाल ने पहले ही राज्य सरकार से संदेशखाली की स्थिति पर एक व्यापक रिपोर्ट मांगी है.

पुलिस बोली- ‘अब तक रेप का कोई केस नहीं'

पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार ने इस मामले की जांच के लिए DIG रैंक की महिला IPS अधिकारी की अध्यक्षता में 10 सदस्यों की टीम बनाई है. ये टीम संदेशखाली का दौरा करेगी और उन महिलाओं से बात करेगी, जिन्होंने आरोप लगाया है कि उनका यौन उत्पीड़न किया गया. 

न्यूज एजेंसी PTI की रिपोर्ट के मुताबिक एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि पश्चिम बंगाल पुलिस को हिंसा प्रभावित संदेशखाली में लोगों से केवल चार शिकायतें मिली हैं, लेकिन उनमें से किसी में भी बलात्कार या यौन उत्पीड़न का जिक्र नहीं है. अधिकारी ने महिलाओं को पूरी सुरक्षा का आश्वासन दिया और उनसे आग्रह किया कि अगर वे शिकायत दर्ज कराना चाहती हैं तो पुलिस से संपर्क करें.

TMC के जिस नेता शेख शाहजहां पर महिलाओं ने आरोप लगाया है, वो पिछले महीने से फरार हैं. ये वही नेता हैं, जिनके यहां 5 जनवरी को ED के अफसर छापा मारने पहुंचे थे. खबर आई थी कि इस दौरान शेख शाहजहां के समर्थकों ने टीम पर हमला कर दिया.

वीडियो: 'योगी आएंगे तो घेर लेंगे'...ममता के मंत्री ने योगी आदित्यनाथ को दी धमकी

thumbnail

Advertisement