The Lallantop
Advertisement

बर्फ में दबे ट्रेकर तो 48 घंटे तक भौंककर कुत्ते ने बताई लोकेशन

बचाव दल को कुत्ते के भौंकने से ही लोकेशन का पता मिला, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी.

Advertisement
himachal dog news
6 फ़रवरी को बचाव दल वहां पहुंचा, तब तक कुत्ता उनके शव की हिफ़ाजत करता रहा. (फ़ोटो/इंडिया टुडे)
8 फ़रवरी 2024
Updated: 8 फ़रवरी 2024 24:20 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा के पास बीर बिलिंग में दो ट्रेकर्स की मौत हो गई. जिनमें से एक महिला थी. ट्रेकर्स के साथ उनका पालतू जर्मन शेफर्ड कुत्ता भी गया था. वो लगभग 48 घंटों तक शवों के पास भौंकता रहा. 6 फ़रवरी को बचाव दल वहां पहुंचा, तब तक कुत्ता उनके शव की हिफ़ाजत करता रहा.

इंडिया टुडे से जुड़े मृत्युंजय पुरी की रिपोर्ट के मुताबिक़ ट्रेकर्स की पहचान अभिनंदन गुप्ता और प्रणिता वाला के रूप में हुई है. अभी अनुमान लगाया जा रहा है कि दोनों की मौत पैर फ़िसलने के कारण नीचे गिरने से हुई है लेकिन अधिकारियों ने कहा है कि पोस्टमार्टम से मौत का असली कारण पता चल पाएगा.

अभिनंदन पंजाब के पठानकोट के रहने वाले थे, वहीं प्रणिता पुणे की. 5,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित बीर बिलिंग, अपने ट्रेक्स और पैराग्लाइडिंग के लिए फेमस है. कांगड़ा पुलिस अधीक्षक वीर बहादुर ने बताया कि अभिनंदन पैराग्लाइडिंग और ट्रेकिंग एक्टिविटीज के लिए पिछले चार से उसी एरिया में रह रहे थे लेकिन प्रणिता कुछ दिन पहले ही वहां आई थी. वीर बहादुर ने आगे कहा,

"प्रारंभिक जांच से पता चला है कि चार लोगों का एक ग्रुप कार से बाहर निकला था. ग्रुप में दो महिलाएं थी. लेकिन कार एक प्वाइंट से आगे नहीं बढ़ पाई. इसलिए वो लोग पैदल चलने लगे. लेकिन मौसम ख़राब होने के चलते दो लोग ग्रुप से अलग हो गए. और कुछ लोगों की मदद से वापस घर आ गए. लेकिन अभिनंदन ने कहा कि उन्हें वहां का रास्ता पता है इसलिए वो प्रणिता और कुत्ते के साथ आगे निकल गए." 

4 फ़रवरी को जब अभिनंदन के परिवार ने पुलिस को बताया कि उनका फ़ोन बंद आ रहा है. 5 फ़रवरी की सुबह से बचाव दल ने पुलिस अधिकारियों के साथ तलाशी अभियान शुरू किया. और 6 फ़रवरी को बचाव दल ने जर्मन शेफर्ड के लगातार भौंकने की आवाज सुनी. और वहां जाकर दोनों मृतकों के शव बरामद किए. 

पुलिस चीफ़ वीर बहादुर ने आगे कहा कि कांगड़ा जिले में भारी बर्फबारी हो रही है. मौसम बदल रहा है. इसलिए सभी पर्यटक एक स्थानीय निवासी या एक गाइड अपने साथ लेकर जाएं. ट्रेक बर्फ से ढके हुए हैं. यहां खराब कनेक्टिविटी के कारण फोन किसी काम के नहीं हैं. पर्यटक यहां बाहर जाने से बचें, मौसम खराब है. 

ये भी पढ़ें: साढ़े 3 लाख रुपये खा गया कुत्ता, पता है फिर निकाले कैसे गए? 

वीडियो: 'कुत्ते...' 12th फेल डीआईजी मनोज शर्मा का ये वाला सच फिल्म में क्यों नहीं दिखाया गया?

thumbnail

Advertisement