The Lallantop
Advertisement

कांग्रेस ने संजय निरुपम को बाहर का रास्ता दिखाया

संजय निरुपम बार-बार कांग्रेस हाईकमान के खिलाफ बयानबाजी कर रहे थे.

Advertisement
sanjay nirupam expelled from congress
संजय निरुपम कांग्रेस से बाहर किए गए. (तस्वीर- पीटीआई)
3 अप्रैल 2024 (Updated: 3 अप्रैल 2024, 23:57 IST)
Updated: 3 अप्रैल 2024 23:57 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

कांग्रेस पार्टी ने महाराष्ट्र में अपने प्रमुख नेता संजय निरुपम को 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया है. वे लगातार पार्टी हाईकमान के खिलाफ बोल रहे थे. उन पर ‘INDIA’ गठबंधन की सहयोगी शिवसेना (उद्धव गुट) के खिलाफ भी बोलने का आरोप लगाया गया था. इससे पहले संजय निरुपम को पार्टी के स्टार प्रचारकों की सूची से भी हटाने का फैसला लिया गया था.

महाराष्ट्र कांग्रेस ने ही संजय के निष्कासन की मांग की थी. उन्हें लेकर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा था,

"जिस तरह से वह टिप्पणी कर रहे हैं, ऐसा लगता है कि उन्होंने पार्टी के ख़िलाफ़ बोलने का ठेका ले लिया है. एक या दो दिन के अंदर उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी. उन्हें कोई नोटिस नहीं भेजा जाएगा."

महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष के इस बयान का जवाब देते हुए निरुपम ने अपने X अकाउंट पर लिखा था,

"कांग्रेस पार्टी मेरे लिए ज़्यादा ऊर्जा और स्टेशनरी नष्ट ना करे. बल्कि अपनी बची-खुची ऊर्जा और स्टेशनरी का इस्तेमाल पार्टी को बचाने के लिए करे. वैसे भी पार्टी भीषण आर्थिक संकट के दौर से गुजर रही है. मैंने जो एक हफ़्ते की अवधि दी थी, वह आज पूरी हो गई है. कल मैं खुद फ़ैसला ले लूंगा."

प्रेस नोट में क्या लिखा गया?

बाद में कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल द्वारा जारी एक पत्र में कहा गया,

“अनुशासनहीनता और पार्टी विरोधी बयानों की शिकायतों को ध्यान में रखते हुए माननीय कांग्रेस अध्यक्ष ने श्री संजय निरुपम को तत्काल प्रभाव से छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित करने की मंजूरी दे दी है.”

 

क्यों नाराज हैं संजय निरुपम?

विवाद उस दिन शुरू हुआ, जब उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना ने मुंबई की छह लोकसभा सीटों में से चार के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा की थी. इसमें मुंबई उत्तर पश्चिम की लोकसभा सीट भी शामिल थी. निरुपम यहां से चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन शिवसेना ने वहां से अमोल कीर्तिकर को उम्मीदवार बना दिया. उस समय इंडिया टुडे से बात करते हुए संजय निरुपम ने कहा था,

"जिस तरह शिवसेना (यूबीटी) ने मुंबई में एक तरफ़ा टिकटों की घोषणा की है, अगर हम उसे स्वीकार कर लें तो यह कांग्रेस की बर्बादी को स्वीकार करने जैसा होगा."

मुंबई उत्तर-पश्चिम लोकसभा सीट पर अभी शिवसेना के गजानन कीर्तिकर सांसद हैं, जिन्होंने 2019 के चुनाव में निरुपम को हराया था.

वीडियो: महाराष्ट्र में कांग्रेस को झटका...दिग्गज नेता अशोक चव्हाण ने पार्टी छोड़ ये इशारा कर दिया है

thumbnail

Advertisement