The Lallantop
Advertisement

रूस में पढ़ने गए 4 भारतीय छात्रों की नदी में डूब कर मौत

सेंट पीटर्सबर्ग में भारत के कॉन्सुलेट जनरल ने इस बारे में X पर लिखा कि मृतकों के घरवालों तक उनके पार्थिव शरीर जल्द से जल्द पहुंचाने के लिए स्थानीय प्रशासन के साथ काम किया जा रहा है. 

Advertisement
russia four indian students died drowned in river saint petersburg mea
मृतकों के पार्थिव शरीरों को भारत भेजा जाएगा. (सांकेतिक फोटो)
font-size
Small
Medium
Large
7 जून 2024
Updated: 7 जून 2024 19:11 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में 6 जून को एक नदी में डूबने से 4 भारतीय स्टूडेंट्स की मौत (Indian Students Died Abroad) हो गई. वहीं एक छात्र को बचा लिया गया. ये स्टूडेंट्स वेलिकी नोवगोरोड शहर में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे थे. सेंट पीटर्सबर्ग में भारत के कॉन्सुलेट जनरल ने इस बारे में X पर लिखा कि मृतकों के घरवालों तक उनके पार्थिव शरीर जल्द से जल्द पहुंचाने के लिए स्थानीय प्रशासन के साथ काम किया जा रहा है.

यह भी कहा गया कि पीड़ित परिवारों से संपर्क साधा जा चुका है और उन्हें हर तरह की सहायता देने का आश्वासन दिया गया है. आगे कहा गया,

"जिस स्टूडेंट की जिंदगी बचाई गई है उसको समुचित इलाज उपलब्ध कराया जा रहा है."

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मृतकों में दो लड़के और दो लड़कियां शामिल हैं. सभी की उम्र 18 से 20 साल के बीच थी. ये सभी स्टूडेंट्स वेलिकी नोवगोरोड स्टेट यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रहे थे.

ये भी पढ़ें- रूसी सेना में जबरन धकेले गए भारतीय की मौत हुई, नाम भी सामने आया

इस पूरे घटनाक्रम के बारे में जलगांव के जिला कलेक्टर आयुष प्रसाद ने न्यूज एजेंसी ANI को बताया,

"हमने विदेश मंत्रालय की सहायता से रूस में हमारे दूतावास और सेंट पीटर्सबर्ग में कॉन्सुलेट जनरल से संपर्क साधा. उन लोगों ने पीड़ित परिवारों की बहुत सहायता की. हम भी पुलिस और आपदा प्रबंधन अधिकारियों के साथ सहयोग कर रहे हैं. हम यह आशा कर रहे हैं कि इंटरनेशनल प्रोटोकॉल के तहत पार्थिव शरीरों को भारत वापस भेज दिया जाएगा."

साल 2020 में भी रूस में एक ऐसा ही घटनाक्रम हुआ था. उस समय रूस में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे 4 भारतीय स्टूडेंट्स की वोल्गा नदी में डूबने से मौत हो गई थी. वो सभी स्टूडेंट्स तमिलनाडु के थे.

वहीं इस घटना से पहले, दिसंबर 2023 में केंद्र सरकार ने संसद में बताया था कि साल 2018 से 403 भारतीय स्टूडेंट्स की अलग-अलग कारणों से विदेश में मौत हो चुकी है. 

वीडियो: नौकरी के नाम पर भारतीयों को जंग में शामिल होने के लिए मजबूर कर रहे रूस पर विदेश मंत्रालय सख्त

thumbnail

Advertisement

Advertisement