The Lallantop
Advertisement

ISIS की आतंकी साज़िश: NIA ने 44 ठिकानों पर मारे छापे, क्या-क्या बरामद हुआ?

अधिकारी ने बताया कि आरोपियों से बरामद सामान और उनकी ट्रेनिंग से लगता है कि वो जल्द ही बड़ा हमला करने की फिराक में थे.

Advertisement
raids-at-44-places-in-maharashtra-karnataka-nia-in-action-regarding-terrorist-conspiracy
NIA (फोटो- इंडिया टुडे)
9 दिसंबर 2023
Updated: 9 दिसंबर 2023 17:24 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने शनिवार, 9 दिसंबर की सुबह देशभर में लगभग 44 जगहों पर छापेमारी शुरू की. महाराष्ट्र में ठाणे, पुणे से लेकर मीरा भायंदर तक कई ठिकानों पर रेड की. कर्नाटक में भी एजेंसी ने कई जगहों पर छापे मारे. 

बताया जा रहा है कि इन छापों का संबंध आतंकी समूह इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया (ISIS) से जुड़े एक मामले में पड़ रहे हैं. अब तक कुल 13 लोगों को इस मामले में गिरफ्तार किया गया है. 

क्या था इनका मकसद?

न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक, पकड़े गए आरोपी आतंकी साज़िश में शामिल थे. कुछ दिनों पहले ही एजेंसी ने कुछ और लोगों को गिरफ्तार किया था, जिनपर कट्टर विचारधारा फैलाने और भारत में आतंकी संगठन बनाने का आरोप था. इस संगठन ने भारत में इस्लामिक चरमपंथ को बढ़ाने के मकसद से कई युवाओं को भर्ती किया था. 

अधिकारियों के हवाले से ये जानाकारी भी आई है कि इस्लामिक स्टेट के कुछ आतंकी अभी भी एक्टिव हैं, जिनके भारत में भी होने की संभावना है.

अभी छापेमारी चल ही रही है. अगर अधिकारियों को कोई लीड या सबूत मिलता है, तो और जगहों पर भी छापे पड़ सकते हैं. 

ड्रोन से ब्लास्ट करने वाले थे आतंकी

महाराष्ट्र ATS के एक अधिकारी ने अखबार दैनिक भास्कर को बताया कि पकड़े गए आतंकियों से एक पेन ड्राइव मिली है. उन्होंने डेटा डिलीट कर दिया था, जिसे रिकवर किया जा रहा है. पूछताछ में पता चला है कि उन्हें अटैक के अलग-अलग तरीकों की ट्रेनिंग दी गई थी. बम ब्लास्ट का ट्रायल पुणे, कोल्हापुर और सतारा के जंगलों में किया गया था. जंगल में ये टेंट में रहते थे. ड्रोन के जरिए एरियल ब्लास्ट की तकनीक सीख रहे थे. अधिकारी ने बताया कि आरोपियों से बरामद सामान और उनकी ट्रेनिंग से लगता है कि वो जल्द ही बड़ा हमला करने की फिराक में थे.

अधिकारी के मुताबिक, गिरफ्तार आरोपियों में से एक - मोहम्मद इमरान - ग्राफिक्स डिजाइनर है. NIA ने उस पर 5 लाख का इनाम रखा था. इमरान और उसके दोनों साथियों के खिलाफ राजस्थान के कोथरुड पुलिस स्टेशन में चोरी, जालसाजी, इंडियन आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया था. बाद में सभी पर UAPA के तहत केस दर्ज किया गया.

कोंडवा के फ्लैट में ली IED बनाने की ट्रेनिंग

NIA ने कोर्ट में दी रिमांड एप्लीकेशन में कहा कि आरोपियों ने ISIS की आतंकी गतिविधियों को आगे बढ़ाने की साजिश रची थी. ये देश में ISIS का महाराष्ट्र मॉड्यूल तैयार कर रहे थे और सारा काम ISIS के इशारे पर हो रहा था.

thumbnail

Advertisement