The Lallantop
Advertisement

आंदोलन में शामिल इन किसानों के पासपोर्ट-वीजा रद्द करने की तैयारी में हरियाणा सरकार

रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल तीन तस्वीरों को अंबाला पुलिस पासपोर्ट कार्यालय और गृह मंत्रालय के साथ साझा करने जा रही है.

Advertisement
Haryana Police action on miscreants
हरियाणा पुलिस ने IPTV कैमरे और ड्रोन कैमरे इंस्टॉल किए हैं. (फोटो: आजतक)
28 फ़रवरी 2024
Updated: 28 फ़रवरी 2024 23:38 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

हरियाणा सरकार ने केंद्र के साथ मिलकर प्रदर्शन कर रहे किसानों (Farmers protest) के खिलाफ बड़ा एक्शन लेने का फैसला किया है. पंजाब-हरियाणा स्थित शंभू बॉर्डर (Shambhu Border) पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के पासपोर्ट और वीजा रद्द करने की तैयारी की जा रही है. प्रशासन ने कहा है कि उन लोगों के खिलाफ एक्शन लिया जाएगा, जो ‘उपद्रव’ कर रहे हैं. इनकी पहचान की जा रही है. बता दें कि 13 फरवरी से शंभू बॉर्डर पर किसान अपनी मांगों को लेकर आंदोलन (Kisan Andolan) कर रहे हैं.

इंडिया टुडे से जुड़े कमलप्रीत सभरवाल की रिपोर्ट के मुताबिक, शंभू बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों पर बैरिकेड्स को तोड़ने का आरोप लगा है. ये भी आरोप है कि उन्होंने कई सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया. ऐसे किसानों की पहचान के लिए हरियाणा पुलिस ने IPTV कैमरे और ड्रोन कैमरे इंस्टॉल किए हैं. तोड़फोड़ कर रहे किसानों के चेहरे कैमरे में रिकॉर्ड कर उनकी पहचान की जा रही है.

रिपोर्ट के अनुसार, ऐसे किसानों की तस्वीरें गृह मंत्रालय और एम्बेसी के साथ साझा की जाएगी. इसके बाद उनके वीजा और पासपोर्ट रद्द किए जा सकते हैं. मामले की जानकारी देते हुए अंबाला के DSP जोगिंदर शर्मा ने आजतक से बात की. उन्होंने बताया

“पंजाब से हरियाणा की तरफ आ रहे जिन भी किसानों ने बैरिकेडिंग तोड़ी है या और किसी तरह से उपद्रव किया है. हम लोगों ने उनकी पहचान कर फोटो जारी की हैं. उनका नाम और पता निकाल कर गृह मंत्रालय और पासपोर्ट ऑफिस के साथ साझा कर रहे हैं ताकि उनके पासपोर्ट और वीजा रद्द हो सके.”

रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल तीन तस्वीरों को अंबाला पुलिस पासपोर्ट कार्यालय और गृह मंत्रालय के साथ साझा करने जा रही है.

ये भी पढ़ें: Farmers Protest: किसानों के बीच हो सकते हैं 'उपद्रवी' हरियाणा पुलिस का दावा! बॉर्डर पर जेसीबी क्यों?

आंदोलन के 15 दिन...

किसानों ने 13 फरवरी को 'दिल्ली चलो मार्च' का आगाज किया था. किसान लगातार एमएसपी की गारंटी और कई मांगों के साथ लगातार आंदोलन कर रहे हैं. किसान केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन के लिए दिल्ली जाने की तैयारी में हैं. लेकिन किसानों को पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर सशस्त्र सेना बल से रोका गया है.

बीती 13 फरवरी से किसान वहीं आंदोलन पर बैठे हैं. इस बीच बॉर्डर से किसान और हरियाणा पुलिस के बीच कई बार संघर्ष को लेकर खबरें सामने आ चुकी है. किसानों द्वारा कथित तौर पर उपद्रव किए जाने के बाद सशस्त्र बल उन पर आंसू गैस के गोले बरसाते हैं. बीते दिनों प्रदर्शन के दौरान एक किसान की मौत भी हुई थी.

वीडियो: Farmers Protest: किसानों के पास आंसू गैस के मास्क और बैरिकेड तोड़ने की मशीनें कहां से आईं?

thumbnail

Advertisement