The Lallantop
Advertisement

पति का एक्सीडेंट करवाया, बच गया तो गोली मरवा दी, ढाई साल बाद पत्नी और प्रेमी गिरफ्तार

5 अक्टूबर 2021 की शाम विनोद परमहंस कुटिया के गेट पर बैठा था. तभी पंजाब नंबर की एक गाड़ी ने विनोद को सीधी टक्कर मार दी. इस हादसे में विनोद की दोनों टांगें टूट गई थीं. फिर कुछ समय बाद पत्नी ने ही गोली मरवाकर विनोद की हत्या करवा दी.

Advertisement
panipat vinod barara case
पुलिस ने ढाई साल बाद इस मर्डर केस को सुलझाने का दावा किया है. (फ़ोटो- आजतक)
17 जून 2024
Updated: 17 जून 2024 23:59 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

हरियाणा के पानीपत में करीब ढाई साल पहले ‘हारट्रोन कंप्यूटर सेंटर’ के संचालक विनोद बराड़ा की हत्या हुई थी. पुलिस ने अब बताया है कि विनोद बराड़ा की पत्नी निधि बराड़ा ने ही अपने जिम ट्रेनर प्रेमी के साथ मिलकर उनकी हत्या कराई थी. इसके लिए 10 लाख रुपये की सुपारी दी गई थी. पुलिस का दावा है कि निधि ने पहले विनोद का एक्सीडेंट करवाया लेकिन इसमें वे बच गए. लेकिन ढाई महीने बाद निधि ने गोली मरवाकर उनकी हत्या करवा दी. पुलिस ने निधि और उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है. दोनों ने पूछताछ के दौरान अपना जुर्म कबूला है.

आजतक से जुड़े प्रदीप रेढू की रिपोर्ट के मुताबिक, 5 अक्टूबर 2021 को विनोद बराड़ा का एक्सीडेंट हुआ था. पुलिस अधीक्षक (SP) अजीत सिंह शेखावत ने आजतक को बताया कि दिसंबर 2021 में वीरेंद्र (विनोद के चाचा) ने एक शिकायत दर्ज करवाई थी. उन्होंने बताया था कि उनका भतीजा विनोद सुखदेव नगर में हॉरट्रोन कंप्यूटर सेंटर चलाता था. 5 अक्टूबर 2021 की शाम विनोद परमहंस कुटिया के गेट पर बैठा था. तभी पंजाब नंबर की एक गाड़ी ने विनोद को सीधी टक्कर मार दी. इस हादसे में विनोद की दोनों टांगें टूट गई थीं.

गाड़ी देव सुनार नाम के व्यक्ति के नाम थी. वो बठिंडा का रहने वाला है. करीब ढाई महीने बाद 15 दिसंबर 2021 को देव सुनार ने विनोद को घर में घुसकर गोली मार दी. जब देव घर में घुसा था तब निधि ने शोर मचाया. शोर सुनकर पड़ोसी आए. उन्होंने आरोपी देव सुनार को मौके पर ही काबू कर पुलिस के हवाले कर दिया था. विनोद को अस्पताल लेकर गए, लेकिन डॉक्टर्स ने वहां उन्हें मृत घोषित कर दिया.

यह भी पढ़ें: पत्नी का मोबाइल छीना तो पति को लगाए बिजली के झटके, बचाने आए बेटे को भी पीटा!

SP अजीत शेखावत ने बताया कि आरोपी देव सुनार पानीपत जेल बंद था. इस मामले की जांच हुई. इसके लिए एक टीम गठित की गई थी. जांच में पता चला कि आरोपी देव की सुमित नाम के युवक के साथ बातचीत थी. सुमित का निधि से कथित रूप से अफेयर चल रहा था. इस महीने की 7 तारीख को पुलिस ने सुमित को गिरफ्तार किया. पूछताछ में देव और सुमित ने हत्या की बात कबूल ली.

सुमित ने पुलिस को बताया कि साल 2021 में वह पानीपत में एक जिम में ट्रेनिंग देता था. उनकी पत्नी निधि भी वहां जिम करने के लिए आती थी. इसी दौरान दोनों की दोस्ती हो गई. विनोद को जब उन दोनों के बारे में पता चला तो झगड़ा शुरू हो गया था. सुमित ने आरोप लगाया कि विनोद घर पर अपनी पत्नी निधि के साथ झगड़ा करता था.

बाद में सुमित ने कबूला कि उसने और निधि ने विनोद की एक्सीडेंट में हत्या करवाने की साजिश रची. पूछताछ में सुमित ने बताया कि उसने ट्रक ड्राइवर देव सुनार को 10 लाख रुपये कैश दिए थे. विनोद का एक्सीडेंट करने के लिए. इसके बाद 15 दिसंबर 2021 को देव सुनार ने घर मे घुसकर पिस्तौल से विनोद बराड़ा की गोली मारकर हत्या कर दी.

पुलिस ने आरोपी निधि को 14 जून को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो उसने सुमित के साथ मिलकर वारदात को अंजाम देने की बात स्वीकार कर ली. दोनों आरोपियों को फिलहाल न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.

वीडियो: मध्य प्रदेश: पति पत्नी का ऐसा झगड़ा कभी सुना नहीं होगा

thumbnail

Advertisement

Advertisement