The Lallantop
Advertisement

अबु धाबी के शाही परिवार की दौलत जानकर दंग रह जाएंगे

यूनाइटेड अरब अमीरात यानि UAE के 7 अमीरातों में एक है अबू धाबी. और इसी अबू धाबी का शाही परिवार दुनिया का सबसे अमीर परिवार बन चुका है.

Advertisement
al nahyan family of abu dhabi
आसान भाषा में - अल नाहयान फैमिली
font-size
Small
Medium
Large
22 जनवरी 2024 (Updated: 30 जनवरी 2024, 10:46 IST)
Updated: 30 जनवरी 2024 10:46 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

80 के दशक में एक कार्टून बहुत प्रचलित हुआ, रिची रिच. उसमें रिची का करैक्टर बहुत अमीर था. उसके पास अकूत पैसा और प्रॉपर्टी थी. खेलने के लिए स्टेडियम से लेकर सिनेमा हॉल तक, सब उसके घर में ही था. रिची के परिवार के अमेरिकी प्रेसिडेंट से संबंध थे. खैर, ये तो थी कार्टून कैरेक्टर की बात.कैसा हो अगर असल जिंदगी में कोई रिची रिच जैसा हो. पर ऐसा है और सच है. 
 

तो आसान भाषा में आज बात करेंगे रिची रिच जैसे अमीर एक परिवार की. इस परिवार को दुनिया का सबसे अमीर परिवार घोषित किया गया है. ये परिवार है अबु धाबी का. नाम है, अल नाहयान परिवार.  
तो आज जानेंगे,
अल नाहयान परिवार की पूरी कहानी क्या है?
और उनके पास इतनी दौलत कहां से आई?

संयुक्त अरब अमीरात 7 अमीरात से मिलकर बना है. अमीरात को आप प्रांत समझ सकते हैं. इसलिए 7 प्रांतों के समूह को संयुक्त अरब अमीरात कहते हैं. अंग्रेजी में यूनाइटेड अरब अमीरात यानि UAE. इन 7 अमीरातों में एक है अबू धाबी. और इसी अबू धाबी का शाही परिवार दुनिया का सबसे अमीर परिवार बन चुका है. उसके बारे में आपको बताएंगे, लेकिन सबसे पहले UAE के बारे में बेसिक क्लियर कर लेते हैं.
जैसा हमने अभी बताया UAE 7 अमीरात से मिलकर बना है, कौन-कौन से हैं ये अमीरात - 
-अबू धाबी,
-दुबई, 
-शारजाह, 
-अजमान, 
-उम्म अल क्वैन, 
-रास अल खैमा 
-और फुजैराह. 
 

UAE पर कौन राज करता है?

UAE में एक नैशनल गवर्नमेंट है. इसके तीन अंग हैं, 
legislative 
Excecutive 
और Judicial. 
यानी विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका.  
Executive और Judicial, प्रेसिडेंट के अधीन होते हैं. और प्रेसिडेंट का चुनाव legislative करती है.  
 

प्रेसिडेंट का चुनाव कैसे होता है?

UAE में Federal Supreme Council बनाई जाती है. जो प्रेसिडेंट की नियुक्ति करती है. इसे Council of Rulers नाम से भी जाना जाता है. इस काउंसिल में यूएई के सातों अमीरात के अमीर यानि मुखिया होते हैं. साल में 4 बार इस काउंसिल की मीटिंग होती है. अगर कोई अमीर किसी कारण मौजूद न हों तो उनके प्रतिनिधि इस मीटिंग में हिस्सा लेते हैं. फिलहाल UAE के प्रेसिडेंट हैं मोहम्मद बिन ज़ायद अल नहयान, ये अबू धाबी के अमीर भी हैं. और इन्हीं का परिवार दुनिया का सबसे अमीर परिवार बना है. तो आइए जानते हैं इस परिवार के बारे में.

अल नाहयान परिवार की कहानी शुरू होती है 1960 के दशक में. इसी दशक में UAE में तेल मिला, उस समय ज़ायद बिन सुल्तान अल नहयान अबू धाबी के शासक थे.
उन्हीं ने सभी अमीरातों का एकीकरण किया और संयुक्त अरब अमीरात के नाम से एक देश बनाया. वही UAE के पहले राष्ट्रपति बने. यूएई में शेख़ ज़ायद बिन सुल्तान अल नहयान को 'राष्ट्रपिता' भी कहा जाता है.

 
फिर 2004 में उनके बेटे शेख़ ख़लीफ़ा बिन ज़ायद अल नाहयान UAE के प्रेसिडेंट चुने गए. उन्हीं के नाम पर दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज ख़लीफ़ा का नाम रखा गया है. साल 2022 में शेख खलीफा के छोटे भाई, शेख़ मोहम्मद बिन ज़ायद अल नाहयान को UAE का प्रेसिडेंट चुना गया. इन्हें MBZ नाम से भी जाना जाता है. 
 

 ये परिवार इतना अमीर कैसे बना?

1960 के दशक में तेल की खोज के बाद इस इलाके की दशा बदलने लगी. अबु धाबी के उस समय के शासक शेख ज़ायद बिन सुल्तान अल नाहयान एक दूरदर्शी व्यक्ति थे. उन्हें अंदाज़ा हो गया था कि तेल के कारोबार में कितना पैसा है. इसलिए उन्होंने देश में सड़कें, अस्पताल और इमारतें बनवानी शुरू कीं. खुद भी कमाया और आम लोगों को भी पैसे कमाने के खूब मौके दिलवाए. 
और इन सब के साथ कैलेंडर पर 1960 का दशक बीतने को था. ब्रिटेन, जिसका इन इलाकों पर एक समय राज चलता था, वो अब यहां से रुखसती ले रहा था. हालांकि अंग्रेज इन रेगिस्तानों मे कब्जे के इरादे से नहीं आए थे. उनके यहां आने के पीछे का मकसद था, कबायली लड़ाकों से अपने मालवाहक जहाजों की सुरक्षा करना. तब इस इलाके में कबायली लड़ाकों का आतंक था, जो इधर से गुजरने वाले जहाजों को लूट लिया करते थे. इनसे अपने जहाज बचाने के इरादे से अंग्रेज आए और तबसे यहीं रह गए. तेल की खोज होने के बाद अंग्रेजों को यहाँ फायदा तो दिखा, पर उससे कहीं अधिक खतरा उन्हें लुटेरों और 6 अमीरातों के शेखों के एक साथ मिलने से था. इसी साल शेखों ने अपने आपसी विवाद सुलझाने के लिए एक काउंसिल का गठन किया था.

फिर समय बीता और तारीख आई 16 जनवरी, 1968. अरब-इजरायल युद्ध और स्वेज़ नहर संकट के बाद ब्रिटेन ने खाड़ी देशों से हटने की घोषणा की. ब्रिटेन के हटने की घोषणा के बाद शेख़ ज़ैद बिन सुल्तान ने दूसरी अमीरातों के साथ क़रीबी संबंध स्थापित किए. 18 फरवरी, 1968 को वो दुबई के उस समय के शासक शेख़ राशिद बिन सईद अल मकतूम के साथ अमीरात के भविष्य पर विचार-विमर्श करने के लिए दुबई गए और दोनों ने अपने बीच फ़ेडरेशन के समझौते पर सहमति जताई. एक फ़ेडरेशन की मांग की जिसमें केवल वह सात अमीरात शामिल होंगी जो समझौते के लिए तैयार हैं. 
और इस तरह अबू धाबी के उस समय के अमीर ज़ैद बिन सुल्तान अल नाहयान को देश का पहला राष्ट्रपति चुना गया. 
 

चूंकि शेख ज़ैद के प्रयासों की वजह से ही 6 अमीरात एक साथ आए इसीलिए बाकी शासकों ने उन्हें सर्वसम्मति से अपना राष्ट्रपति चुन लिया. पर आप कहेंगे कि अमीरात तो 7 हैं फिर 6 ही क्यों साथ आए ?
तो इनमें से एक अमीरात रास अल खेमा ने शेख़ ज़ैद को राष्ट्रपति मानने से इनकार कर दिया. फिर कुछ समय बाद 10 फरवरी 1972 को रास अल खेमा संयुक्त अरब अमीरात में शामिल हुआ. वर्तमान में संयुक्त अरब अमीरात सात स्वतंत्र राज्यों वाला देश है जिनमें अबू धाबी, दुबई, शारजाह, उम्मूल क़वीन, फ़ुजैरा, अजमान और रास अल ख़ेमा शामिल हैं. अबू धाबी संयुक्त अरब अमीरात की सबसे बड़ी अमीरात (राज्य) है जोकि देश के 84 प्रतिशत हिस्से पर फैला है.
 

परिवार के इतिहास बाद अब आते हैं कि कैसे ये 7 अमीरात जो एक समय में रेगिस्तान हुआ करते थे, आज दुनिया के सबसे महंगे शहरों में शुमार हैं. 
तेल की खोज होने के बाद से ही शेख ज़ायद बिन सुल्तान ने यहाँ डेवलपमेंट प्रोजेक्ट्स शुरू कर दिए थे. जैसे-जैसे दुनिया आगे बढ़ी वैसे-वैसे तेल की मांग भी बढ़ी. और यूएई का सिक्का चल निकला. इस बीच अरब देशों में कई विवाद भी हुए. पर यूएई ने अपने आपको बचाकर रखा. 2011 का अरब स्प्रिंग हो या पर्शियन गल्फ में बढ़ता तनाव, यूएई ने सभी मुद्दों को बखूबी संभाला.

अब आते हैं परिवार की संपत्ति पर
अल नाहयान रॉयल फैमिली जिस महल में रहती है उसका नाम है कसर अल वतन. इस महल के कन्स्ट्रक्शन में  सोने का इस्तेमाल किया गया है. 94 एकड़ में फैले इस बड़े गुंबद वाले महल में 3 लाख 50 हजार क्रिस्टल से बना एक झूमर और कई बेशकीमती ऐतिहासिक कलाकृतियां हैं. ये महल आकार में अमेरिका के पेंटागन से तीन गुना बड़ा है. महल में रहते हैं MBZ और उनके 18 भाई और 11 बहनें . इस अमीराती शाही घराने के नौ बच्चे और 18 पोते-पोतियां भी हैं. पर बस यूएई में ही नहीं बल्कि इस परिवार की संपत्तियां लंदन और पेरिस जैसे शहरों में भी हैं. इस परिवार की लंदन के सबसे पॉश इलाके में संपत्ति होने के कारण ही इसके मुखिया को 'लैंडलॉर्ड ऑफ लंदन' तक कहा जाता था. 
 

पर एक चीज जिसके बिना पैसे का प्रदर्शन बेमानी सा लगता है वो है कारों का कलेक्शन. भारत में भी लोग तमाम एक्टर्स और सेलिब्रिटीज़ की गाड़ियों का कलेक्शन अक्सर चर्चा का विषय रहते हैं. पर क्या हो अगर ये कलेक्शन 700 कारों का हो. यानि हर दिन एक अलग कार से भी चले तो एक साल से अधिक लग जाएगा सारी गाड़ियां इस्तेमाल करने में.

अबू धाबी शासक के छोटे भाई शेख हमद बिन हमदान अल नाहयान के पास 700 से अधिक कारों का कलेक्शन है, जिसमें दुनिया की सबसे बड़ी एसयूवी के साथ पांच बुगाटी वेरॉन, एक लेम्बोर्गिनी रेवेंटन, एक मर्सिडीज-बेंज सीएलके जीटीआर, एक फेरारी 599XX और एक मैकलेरन एमसी12 शामिल हैं. बात करें बिजनस की तो तेल के अलावा इस परिवार के पास दुनिया की जानी मानी कंपनियों में हिस्सेदारी है. मसलन एलन मस्क की स्पेस X, मशहूर सिंगेर रिहाना के ब्यूटी ब्रांड Fenty.  इसके अलावा फुटबॉल क्लब Manchester में भी इनकी हिस्सेदारी है. साथ ही ये परिवार पूरी दुनिया के कुल तेल उत्पादन का 6 प्रतिशत ओन करता है. 


राष्ट्रपति के भाई तहनून बिन जायद अल नाहयान, परिवार की निवेश कंपनी के प्रमुख हैं, जिसका मूल्य पिछले पांच सालों में लगभग 28 हजार प्रतिशत बढ़ गया है. कंपनी का मूल्य वर्तमान में $235 बिलियन डॉलर यानि लगभग 19 लाख करोड़ रुपए है. 2015 में न्यूयॉर्कर की एक रिपोर्ट आई थी, इसके मुताबिक, दुबई के शाही परिवार के पास ब्रिटिश शाही परिवार के बराबर संपत्ति थी. 
2008 में, MBZ यानि अभी वाले प्रसीडेंट ने मैनचेस्टर सिटी फुटबॉल क्लब को  2122 करोड़ रूपए में खरीदा. कंपनी के पास सिटी फुटबॉल ग्रुप का 81 प्रतिशत हिस्सा भी है जो मैनचेस्टर सिटी, मुंबई सिटी, मेलबर्न सिटी और न्यूयॉर्क सिटी फुटबॉल क्लब भी संचालित करता है.

ब्लूमबर्ग, जिसकी रिपोर्ट में ये सब खुलासा हुआ है उसने कुछ अन्य परिवारों के बारे में भी जानकारी दी है जो इस लिस्ट में दूसरे और तीसरे नंबर पर हैं. 
दूसरे नंबर पर है Walton family. इस परिवार की कुल संपत्ति 259.7 बिलियन डॉलर लगभग 21 लाख करोड़ रुपए हैं. walton परिवार दुनिया की मशहूर कंज्यूमर रिटेल चेन Walmart का मालिक है. 
ब्लूमबर्ग लिस्ट में तीसरा नाम है HERMES का. इस परिवार की छठी पीढ़ी इस कारोबार में है जिसकी कुल संपत्ति लगभग 12 लाख करोड़ है. HERMES एक फैशन/लाइफस्टाइल ब्रांड है जो अपने Kelly Bags के लिए मशहूर है. 

thumbnail

Advertisement