Submit your post

Follow Us

जब महात्मा गांधी को क्वारंटीन किया गया था

कोरोना वायरस का संक्रमण काल चल रहा है. दुनिया लॉकडाउन में है. जिनके भी वायरस से संक्रमित होने का शक है, उन्हें क्वारंटीन किया जा रहा है. तीन महीने पहले जब ये शब्द सुना तो काफी नया-नया लगा था. लेकिन क्वारंटीन कोई नया कॉन्सेप्ट नहीं है, कई साल पुराना है.

घर के बुजुर्गों से सुना और रिपोर्टों में पढ़ा है, कि सालों पहले प्लेग और हैजा जैसी महामारियां गांव के गांव ख़त्म कर देती थीं. प्रेमचंद ने भी लिखा है, ‘गर्मी का महीना आम और तरबूज के साथ-साथ हैजा का भी मौसम साथ लाता है.’ ये किस्सा उसी दौर का है. जब महात्मा गांधी को क्वारंटीन होना पड़ा था.

Gandhi Durban 1897
1897 में इसी जगह कोर्टलैंड और नादेरी जहाज को रोका गया था. (फोटो: भारतीय हाई कमिशन, प्रिटोरिया, साउथ अफ्रीका)

ये तब की बात है, जब गांधी तब दक्षिण अफ्रीका में रह रहे थे

डरबन के पूर्वी तट पर ब्रिटेन का एक उपनिवेश था- नताल कॉलोनी. ये इलाका अब ‘क्वाजुलु नताल प्रांत’ कहलाता है. उस दौर में भारत से गिरमिटिया मजदूर ब्रिटेन के अलग-अलग उपनिवेशों में काम के लिए जाया करते थे. असल में ले जाए जाते थे. यहां उनके साथ ज़्यादती होती. शोषण होता उनका. इन मजदूरों की हालत से गांधी परेशान थे.

1896 की बात है. गांधी साउथ अफ्रीका से भारत लौटे. उन्होंने सोचा पत्नी कस्तूरबा और बच्चों को अपने साथ दक्षिण अफ्रीका ले जाएंगे. वापसी का सफ़र शुरू हुआ दिसंबर, 1896 में. जहाज़ पर गांधी के साथ थीं कस्तूरबा, बेटे हरिलाल और मणिलाल. गांधी की विधवा बहन का बेटा गोकुलदास भी साथ था. जनवरी, 1897 में ये जहाज़ डरबन के किनारे लगा. लेकिन जहाज से लोगों को उतरने नहीं दिया गया.

असल में जब गांधी अफ्रीका के लिए निकले थे, तब राजकोट समेत दुनिया के कई हिस्सों में प्लेग फैला था. तब महामारी फैलना आम बात थी. ऐसे में व्यवस्था थी कि महामारी वाले इलाकों से आ रहे जहाज़ या स्टीमर बंदरगाह पर लंगर डालने से पहले पीला झंडा दिखाएंगे. ये झंडा दिखाने के बाद जहाज के लोगों की मेडिकल जांच होती. सब ठीक रहने के बाद ही वो पीला झंडा उतारा जाता.

Kwazulu Natal
मौजूदा वक्त में नताल क्षेत्र क्वाजुलु नताल के नाम से जाना जाता है. यह अफ्रीका का एक प्रांत है. (फोटो: गूगल मैप्स स्क्रीनशॉट)

वहां के मेडिकल विशेषज्ञ मानते थे कि प्लेग के जीवाणु 23 दिनों तक ज़िंदा रह सकते जब जहाज को हैं. इसीलिए जहाज को भारत से चले 24 दिन पूरे होने तक अलग-थलग रखा जाता था. जिस जहाज में गांधी थे, उसके साथ भी ऐसा ही हुआ. 13 जनवरी, 1897 को जहाज से लोग निकाले गए.

एमकेगांधी ओआरजी पर छपे एक डॉक्यूमेंट में इस वक़्त का क़िस्सा मिलता है. इसके मुताबिक, गांधी जब जहाज से उतरे तो ‘गोरों’ ने उनके साथ बुरा व्यवहार किया. उन पर अंडे और पत्थर फेंके. भीड़ ने उन्हें पीटा भी. वहां के एक पुलिस सुपरिटेंडेंट की पत्नी ने बीच-बचाव करके गांधी की जान बचाई. मामला बढ़ा, तो लंदन से निर्देश आया. इसमें नताल सरकार से कहा गया कि वो गांधी पर हमला करने वालों पर कार्रवाई करे. कार्रवाई हुई भी. कुछ लोगों को पकड़ा भी गया. मगर गांधी ने आरोपियों की शिनाख़्त करने से इनकार कर दिया. कहा,

वे गुमराह किए गए हैं. जब उन्हें सच्चाई का पता चलेगा, तब उन्हें अपने किये पर पश्चाताप होगा. मैं उन्हें क्षमा करता हूं.

Durban Mahatma Gandhi Road
अफ्रीका में महात्मा गांधी का बहुत नाम है. ये एक बानगी देख सकते हैं कि डरबन के एक रोड का नाम महात्मा गांधी रोड है. (फोटो: गूगल मैप्स स्क्रीनशॉट)

अच्छा, एक और चीज है. क्या क्वारंटीन के लिए हिंदी में कोई शब्द नहीं है? क्या गांधी के प्रसंग में भी इसी शब्द का इस्तेमाल हुआ था?

अभी तो हिंदी में भी लोग ‘क्वारंटीन’ ही लिख रहे हैं. लेकिन गांधी ने इसके लिए ‘सूतक’ शब्द का इस्तेमाल किया था. ये ‘सूतक’ भारतीय परंपरा का एक हिस्सा है. पहले क्या होता था कि बच्चे को जन्म देने के बाद मां करीब पांच हफ़्ते अलग रहती थी. उनके कमरे में बहुत कम लोग जाते थे. जो जाते थे, वो बहुत एहतियात बरतते थे. ऐसे ही जब किसी की मौत होती, तो सनातन परंपरा में मुखाग्नि देने वाले को 10 दिनों तक अलग-थलग रहना पड़ता था. इसे सूतक कहा जाता है. कई लोग इसे अंधविश्वास मानते हैं, तो कई इसके पीछे वैज्ञानिक कारण बताते हैं.

Natal Congress
इंडियन नटाल कांग्रेस की अधिकतर बैठकें यहीं होती थी. (फोटो: भारतीय हाई कमिशन, प्रिटोरिया, साउथ अफ्रीका)

ट्रिविया

भारतीयों के साथ हो रहे भेदभाव के ख़िलाफ़ गांधी ने साउथ अफ्रीका में संगठन बनाया. उसका नाम रखा- नताल नेशनल कांग्रेस. बाद में यही संगठन ‘साउथ अफ्रीकन इंडियन कांग्रेस’ के नाम से जाना गया. सरकार की नीतियों का विरोध करने के कारण इस संस्था को लगातार निशाना बनाया जाता. 1960 के दशक में यह संस्था निष्क्रिय हो गई. बाद में इसने अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस से गठबंधन कर लिया. अफ्रीका में कई सालों से इसी पार्टी की सरकार है.


विडियो- अफ्रीकी मूल के गुजराती लोगों को फौज में जाने से कौन रोक रहा है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

रिकी पॉन्टिंग का पड़ोसी जिसने ईशांत शर्मा से अपने कप्तान का बदला लिया

ईशांत का वनडे करियर 'खत्म' करने वाले फॉकनर.

32 साल पहले वसीम अकरम ने विव रिचर्ड्स के पैरों पर गिरकर माफी क्यों मांगी थी?

जब अकरम को सबक मिला- पंगा उसी से लो, जिससे निपट पाओ.

जब एक अजीब शॉट के सदके ये क्रिकेटर इंडिया से मैच छीन ले गया

वो क्रिकेटर, जिसने क्रिकेट में एक नया शॉट ही जोड़ दिया.

कहानी उस कमाल के शख्स की, जिसने सचिन तेंडुलकर को अरबपति बनाया

सचिन को 'ब्रांड सचिन' बनाने वाले दिग्गज के किस्से, जिसने कहा था- जब यूरोप के दिग्गज सो रहे थे, हमने राजाओं का गेम ही खरीद लिया.

जब मैच से ठीक पहले दुबई से गायब हुआ पाकिस्तानी क्रिकेटर और लंदन में मिला

जिसके गायब होने पर कप्तान ने कहा, 'टीम को कोई फर्क नहीं पड़ा'.

क्रिस गेल की वो पारी, जिसका रिकॉर्ड सात सालों से कोई नहीं तोड़ पाया है

उस दिन बेंगलुरू में एक तूफान आया था.

जब जनरल जिया-उल-हक के एक फैसले ने वेस्टइंडीज़ क्रिकेट का 15 साल का किला हिला दिया

और जब पाकिस्तान की वजह से विवियन रिचर्ड्स की आंखों में आंसू आ गए.

22 अप्रैल 1998, वो दिन जब शारजाह में सचिन नाम का तूफ़ान आया और ऑस्ट्रेलियन टीम उड़ गई

उस मैच को आज तक 'डेजर्ट स्टॉर्म' मैच कहा जाता है.

सहवाग के उतरे कंधे की वजह से सालों साल खेल गया टीम इंडिया का ये बल्लेबाज़!

जब मांजरेकर ने जॉन राइट से कहा, इसकी रेप्युटेशन 50 वाली नहीं 200-300 रन वाली है.

चेन्नई टेस्ट : जब 'ख़ुदा' ने चुना पाकिस्तान का दामन और रो पड़ा क्रिकेट का भगवान

जिस मैच को याद कर आज भी दुखी हो जाते हैं हम.