Submit your post

Follow Us

जब वो आदमी चीफ जस्टिस बना जिसे पीएम नेहरू कतई नहीं चाहते थे

341
शेयर्स

Abhishek Kumar

यह लेख दी लल्लनटॉप के लिए अभिषेक कुमार ने लिखा है. अभिषेक दिल्ली में रहते हैं और सिविल सेवाओं की तैयारी करते हैं. रहने वाले बिहार के हैं. फिलहाल वो अलग-अलग कोचिंग में छात्रों को पढ़ाते हैं.


साल था 1951. नवंबर का महीना. तब सुप्रीम कोर्ट में सिर्फ आठ जज हुआ करते थे. संसद का सेन्ट्रल हॉल में ही सुप्रीम कोर्ट अस्थाई तौर पर चला करता था जहां से 1956 में अपने वर्तमान बिल्डिंग में शिफ्ट हुआ. प्रधानमंत्री नेहरू नहीं चाहते थे कि वरिष्ठतम न्यायाधीश पतंजलि शास्त्री चीफ जस्टिस बनें. तब उन्हें समझाया गया कि यदि शास्त्री की जगह किसी अन्य को नियुक्त किया गया तो सुप्रीम कोर्ट के 6 जज एक साथ इस्तीफा दे देंगे. नेहरू को झुकना पड़ा और पतंजलि शास्त्री ही चीफ जस्टिस बने.

पतंजली शास्त्री को शपथ दिलाते राजेंद्र प्रसाद.
पतंजली शास्त्री को शपथ दिलाते राजेंद्र प्रसाद.

दूसरा वाकया, 1973 का है जब सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की वरिष्ठता की अनदेखी कर ए. एन. रे को चीफ जस्टिस बनाया गया. नाराज तीनों जजों ने इस्तीफा दे दिया. इस्तीफा देने वालो में जस्टिस के एस हेगडे़ भी शामिल थे. हेगड़े 1977 में लोकसभा अध्यक्ष बनाए गये एवं 1977 में ही (जब प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने राष्ट्रपति के उम्मीदवार के तौर पर रुक्मिणी देवी अरुण्डेल के नाम को हवा दे दी).चंद्रशेखर ने आचार्य कृपलानी के साथ जस्टिस हेगड़े का नाम भी राष्ट्रपति पद के लिये सुझाया. लेकिन अंततः सहमति बनी लोकसभा अध्यक्ष नीलम संजीव रेड्डी के नाम पर (बाद मे 1979 में यही रेड्डी जनता पार्टी के काल बने). तब हेगडे़ को लोकसभा अध्यक्ष बनाया गया. बाद में के एस हेगडे़ के सुपुत्र संतोष हेगडे़ भी सुप्रीम कोर्ट में जज बने.

तीसरा वाकया इमरजेन्सी के दौर का है जब वरिष्ठतम जज एच. आर. खन्ना की अनदेखी कर एम. एच. बेग को चीफ जस्टिस बनाया गया. दरअसल उन दिनों शिवकान्त शुक्ला vs ADM जबलपुर का केस सुप्रीम कोर्ट में आया था. जिसमें तीन जजों की बेंच ने 2-1 से फैसला दिया था कि ‘Right to life can be suspended during emergency’, जिसमें खन्ना का मत इसके विपरीत था जिससे यह फैसला सर्वसम्मत न होकर 2-1 से हुआ. इस फैसले के परिप्रेक्ष्य में खन्ना ने अपनी बेटी को लिखे पत्र में उद्धृत किया ‘I am going to cost Chief Justiceship of India’. आखिर में खन्ना की आशंका ही सच साबित हुई.


वीडियो-राम मंदिर केस पर अयोध्या केस में आए इस फैसले का एक ही असर पड़ेगा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.