Submit your post

Follow Us

जब वो आदमी चीफ जस्टिस बना जिसे पीएम नेहरू कतई नहीं चाहते थे

Abhishek Kumar

यह लेख दी लल्लनटॉप के लिए अभिषेक कुमार ने लिखा है. अभिषेक दिल्ली में रहते हैं और सिविल सेवाओं की तैयारी करते हैं. रहने वाले बिहार के हैं. फिलहाल वो अलग-अलग कोचिंग में छात्रों को पढ़ाते हैं.


साल था 1951. नवंबर का महीना. तब सुप्रीम कोर्ट में सिर्फ आठ जज हुआ करते थे. संसद का सेन्ट्रल हॉल में ही सुप्रीम कोर्ट अस्थाई तौर पर चला करता था जहां से 1956 में अपने वर्तमान बिल्डिंग में शिफ्ट हुआ. प्रधानमंत्री नेहरू नहीं चाहते थे कि वरिष्ठतम न्यायाधीश पतंजलि शास्त्री चीफ जस्टिस बनें. तब उन्हें समझाया गया कि यदि शास्त्री की जगह किसी अन्य को नियुक्त किया गया तो सुप्रीम कोर्ट के 6 जज एक साथ इस्तीफा दे देंगे. नेहरू को झुकना पड़ा और पतंजलि शास्त्री ही चीफ जस्टिस बने.

पतंजली शास्त्री को शपथ दिलाते राजेंद्र प्रसाद.
पतंजली शास्त्री को शपथ दिलाते राजेंद्र प्रसाद.

दूसरा वाकया, 1973 का है जब सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की वरिष्ठता की अनदेखी कर ए. एन. रे को चीफ जस्टिस बनाया गया. नाराज तीनों जजों ने इस्तीफा दे दिया. इस्तीफा देने वालो में जस्टिस के एस हेगडे़ भी शामिल थे. हेगड़े 1977 में लोकसभा अध्यक्ष बनाए गये एवं 1977 में ही (जब प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने राष्ट्रपति के उम्मीदवार के तौर पर रुक्मिणी देवी अरुण्डेल के नाम को हवा दे दी).चंद्रशेखर ने आचार्य कृपलानी के साथ जस्टिस हेगड़े का नाम भी राष्ट्रपति पद के लिये सुझाया. लेकिन अंततः सहमति बनी लोकसभा अध्यक्ष नीलम संजीव रेड्डी के नाम पर (बाद मे 1979 में यही रेड्डी जनता पार्टी के काल बने). तब हेगडे़ को लोकसभा अध्यक्ष बनाया गया. बाद में के एस हेगडे़ के सुपुत्र संतोष हेगडे़ भी सुप्रीम कोर्ट में जज बने.

तीसरा वाकया इमरजेन्सी के दौर का है जब वरिष्ठतम जज एच. आर. खन्ना की अनदेखी कर एम. एच. बेग को चीफ जस्टिस बनाया गया. दरअसल उन दिनों शिवकान्त शुक्ला vs ADM जबलपुर का केस सुप्रीम कोर्ट में आया था. जिसमें तीन जजों की बेंच ने 2-1 से फैसला दिया था कि ‘Right to life can be suspended during emergency’, जिसमें खन्ना का मत इसके विपरीत था जिससे यह फैसला सर्वसम्मत न होकर 2-1 से हुआ. इस फैसले के परिप्रेक्ष्य में खन्ना ने अपनी बेटी को लिखे पत्र में उद्धृत किया ‘I am going to cost Chief Justiceship of India’. आखिर में खन्ना की आशंका ही सच साबित हुई.


वीडियो-राम मंदिर केस पर अयोध्या केस में आए इस फैसले का एक ही असर पड़ेगा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

किस्सा ख़तरनाक थ्रिलर मैच का, जब टीम जीतते-जीतते रह गई और बल्लेबाज़ फूट-फूटकर रोने लगा

रणजी के इतिहास का ये बेस्ट फाइनल मैच था.

जब एक अंग्रेज़ ने चेन्नई में मनाया पोंगल और गावस्कर की टीम को रौंद डाला

रिचर्ड्स और मियांदाद को ज़ीरो पर आउट करने वाला इकलौता बोलर.

विवियन रिचर्ड्स की फैन, वो महिला क्रिकेटर, जो पुरुषों से तेज रन बनाती हैं

कई गोल्ड मेडल जीतने वाली एथलीट, जिन्हें क्रिकेट पसंद नहीं था.

जिस विकेट पर दो दिन में 20 विकेट गिरे, उस पर 226 रन बनाने वाले बल्लेबाज़ की कहानी

जिस बल्लेबाज़ ने अंग्रेज़ों के खिलाफ 'ब्लैकवॉश' करवा दिया.

रिकी पॉन्टिंग का पड़ोसी जिसने ईशांत शर्मा से अपने कप्तान का बदला लिया

ईशांत का वनडे करियर 'खत्म' करने वाले फॉकनर.

32 साल पहले वसीम अकरम ने विव रिचर्ड्स के पैरों पर गिरकर माफी क्यों मांगी थी?

जब अकरम को सबक मिला- पंगा उसी से लो, जिससे निपट पाओ.

जब एक अजीब शॉट के सदके ये क्रिकेटर इंडिया से मैच छीन ले गया

वो क्रिकेटर, जिसने क्रिकेट में एक नया शॉट ही जोड़ दिया.

कहानी उस कमाल के शख्स की, जिसने सचिन तेंडुलकर को अरबपति बनाया

सचिन को 'ब्रांड सचिन' बनाने वाले दिग्गज के किस्से, जिसने कहा था- जब यूरोप के दिग्गज सो रहे थे, हमने राजाओं का गेम ही खरीद लिया.

जब मैच से ठीक पहले दुबई से गायब हुआ पाकिस्तानी क्रिकेटर और लंदन में मिला

जिसके गायब होने पर कप्तान ने कहा, 'टीम को कोई फर्क नहीं पड़ा'.

क्रिस गेल की वो पारी, जिसका रिकॉर्ड सात सालों से कोई नहीं तोड़ पाया है

उस दिन बेंगलुरू में एक तूफान आया था.