The Lallantop
Advertisement

महिलाओं के साथ अर्धनग्न अवस्था में पकड़ा गया शख्स 'हिंदू संत' नहीं, वायरल वीडियो की पूरी कहानी

वीडियो में एक कमरे के अंदर एक अर्धनग्न व्यक्ति की पिटाई हो रही है. उस व्यक्ति के साथ दो महिलाएं भी हैं. पिटाई करने वाले लोग महिलाओं पर भी थप्पड़ चला रहे हैं.

Advertisement
viral video of buddhist monk beaten is not hindu saint swami anand swaroop
आपत्तिजनक अवस्था में पकड़े गए एक व्यक्ति के वीडियो को भारत का हिंदू संत बताया गया है. (तस्वीर:सोशल मीडिया)
28 जून 2024 (Updated: 28 जून 2024, 24:03 IST)
Updated: 28 जून 2024 24:03 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

सोशल मीडिया पर आज एक वीडियो सुबह से सर्कुलेट हो रहा है. वीडियो में एक कमरे के अंदर एक अर्धनग्न व्यक्ति की पिटाई हो रही है. उस व्यक्ति के साथ दो महिलाएं भी हैं. पिटाई करने वाले लोग महिलाओं पर भी थप्पड़ चला रहे हैं. इसे शेयर करके दावा किया जा रहा कि वीडियो में जिस व्यक्ति की पिटाई हो रही है वो एक ‘हिंदू साधु’ है. कहा जा रहा कि साधु का नाम ‘शंकराचार्य परिषद के अध्यक्ष स्वामी आनंद स्वरूप महाराज’ है.

एक्स पर नवीन मिश्रा नाम के एक यूजर ने वायरल वीडियो को पोस्ट करते हुए लिखा,“महिलाओं के साथ रंगे हाथ पकड़े गए - मुसलमानों और ईसाइयों को भारत से चले जाने का उपदेश देने वाले श्रीलंका में…"

इसके बाद नवीन ने ऐसी बात लिखी जिसे यहां लिखा नहीं जा सकता. 

*वीडियो कई लोगों की निजता से जुड़ा है, इसलिए हम उसे यहां दिखा नहीं रहे हैं.

इसी तरह कई अन्य यूजर्स ने वायरल वीडियो में मौजूद व्यक्ति को 'हिंदू संत' बताया है.

पड़ताल

जिस शख्स की पिटाई हो रही है, आखिर वो कौन है? इसकी तह तक जाने के लिए हमने वीडियो के एक कीफ्रेम को रिवर्स सर्च किया. हमें कई मीडिया रिपोर्ट्स मिलीं जिनमें वायरल वीडियो के बारे में बताया गया है. लेकिन इनमें दावे से ठीक उलट बात लिखी है. 8 जुलाई, 2023 को पब्लिश हुई ‘Asian Mirror’ की रिपोर्ट में लिखा है कि वायरल वीडियो श्रीलंका के नावागुमा इलाके की है. दूसरी और सबसे जरूरी बात ये लिखी है, कि जिस व्यक्ति की पिटाई हो रही है उसका नाम पल्लेगामा सुमना थेरो है. रिपोर्ट के अनुसार, थेरो एक बौद्ध भिक्षुक हैं. उनकी पिटाई करने वाले लोगों को गिरफ्तार किया गया था. बाद में उन लोगों को जमानत पर रिहा कर दिया गया.

इसके बाद हमने श्रीलंकाई मीडिया की कुछ रिपोर्ट्स खंगालीं. इनमें भी यही जानकारी दी गई है. जैसे श्रीलंकाई मीडिया ‘LankaSara’ की 8 अगस्त, 2023 को छपी रिपोर्ट में बताया गया है कि पल्लेगामा सुमना थेरो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. दो महिलाओं के साथ ‘आपत्तिजनक’ अवस्था में उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. इसके बाद कई स्थानीय लोगों ने उनके खिलाफ इलाके की कई महिलाओं के साथ गैर जिम्मेदाराना बर्ताव करने का आरोप लगाया था.

SrilankaMirror’ में 9 अगस्त, 2023 को छपी रिपोर्ट की मानें तो पल्लेगामा को अगले दिन जमानत भी मिल गई. उन्हें कडुवेला की अदालत ने 1 लाख के मुचलके पर रिहाई दे दी.  

ऐसा नहीं है कि यह वीडियो पहली बार वायरल हुआ है. पिछले साल जुलाई में भी यह वीडियो लगभग इसी दावे के साथ वायरल हुआ था. तब भारत के लगभग सभी फैक्ट चेकिंग संस्थानों ने इस दावे को भ्रामक बताया था. इन रिपोर्ट में इस बात की तस्दीक की गई थी कि वीडियो में मौजूद व्यक्ति एक बौद्ध भिक्षु है.

नतीजा

कुल मिलाकर, वीडियो में महिलाओं के साथ आपत्तिजनक अवस्था में नज़र आ रहा व्यक्ति श्रीलंका का एक बौद्ध भिक्षु है. उसे हिंदू संत बताकर भ्रामक दावे के साथ वायरल किया जा रहा. 

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.

वीडियो: संसद में शपथ समारोह, हिंदु राष्ट्र से लेकर फिलिस्तीन तक के नारे लगे

thumbnail

Advertisement

Advertisement