The Lallantop
Advertisement

Rajasthan Assembly Result 2023: अशोक गहलोत के वो 17 मंत्री, जो अपनी सीट न बचा पाए

गहलोत हार को अप्रत्याशित बता रहे हैं. लेकिन ये सब इतना भी अप्रत्याशित नहीं था. गहलोत के मंत्री बड़ी संख्या में अपने चुनाव हारे हैं.

Advertisement
Rajasthan Assembly Result 2023
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इस्तीफ़ा दे चुके हैं. (फ़ोटो/आजतक)
3 दिसंबर 2023 (Updated: 3 दिसंबर 2023, 23:53 IST)
Updated: 3 दिसंबर 2023 23:53 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

राजस्थान विधानसभा चुनाव (Rajasthan Assembly Result 2023) में जनता ने एक बार फिर पांच साल में सरकार बदली है. चुनाव आयोग के मुताबिक़ BJP ने 115 और कांग्रेस ने 69 सीटें जीत ली हैं. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 3 दिसंबर की शाम राजभवन जाकर इस्तीफ़ा दे दिया.

पार्टी की हार स्वीकारते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि काम करने के बाद भी हम कामयाब नहीं हुए, इसका मतलब यह नहीं है कि वे काम न करें. यह परिणाम सभी के लिए अप्रत्याशित हैं. 

गहलोत हार को अप्रत्याशित बता रहे हैं. लेकिन ये कितना अप्रत्याशित था, कहना मुश्किल है क्योंकि गहलोत के मंत्री भी बड़ी संख्या में अपने चुनाव हारे हैं. कांग्रेस ने 29 मंत्रियों में से कुल 26 मंत्रियों को टिकट दिया था. इनमें से 17 मंत्री चुनाव हार गए हैं. गौर कीजिए - 

1. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा

लालसोट में कांग्रेस के परसादी लाल मीणा को मिले 73894 वोट. वो BJP के रामबिलास से 47,068 वोटों से हार गए हैं, जिन्हें 120962 मत मिले. मीणा अशोक गहलोत सरकार में चिकित्सा मंत्री थे.

2. फूड एवं सिविल सप्लाई मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास 

जयपुर की सिविल लाइंस सीट पर कांग्रेस के प्रताप सिंह खाचरियावास को BJP के गोपाल शर्मा ने 28,329 वोटों से हरा दिया है. खाचरियावास के पास फूड एंड सिविल सप्लाई के साथ-साथ परिवहन विभाग भी है. खाचरियावास को मिले कुल 70332 वोट. और गोपाल शर्मा को 98661 वोट मिले.

3. उद्योग मंत्री शकुंतला रावत

बानसूर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस ने शकुंतला रावत को टिकट दिया था. रावत 2013 और 2018 में भी जीती थीं. उद्योग मंत्री शकुंतला रावत गुर्जर समाज से पार्टी में बड़ा चेहरा हैं. उन्हें 45639 वोट मिले, लेकिन वो 15,966 वोट से हार गई हैं. उन्हें बीजेपी के देवी सिंह शेखावत ने हराया है. शेखावत को 61,605 वोट मिले हैं. 

4. ऊर्जा राज्यमंत्री भवरसिंह भाटी 

कोलायत विधानसभा सीट से भवरसिंह भाटी को 68160 वोट मिले. वो BJP के अंशुमान सिंह भाटी से 32,933 वोट से हार गए हैं, जिन्हें कुल 101093 वोट मिले. 

5. पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास मंत्री रमेश चंद मीणा 

सपोटरा विधानसभा सीट पर रमेश चंद मीणा को 67,551 वोट मिले, वहीं बीजेपी के हंसराज मीणा को 111385 वोट मिले. माने मीणा 43834 वोट से हार गए हैं.

6. अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री सालेह मोहम्मद

जैसलमेर ज़िले की पोखरण विधानसभी सीट पर बीजेपी के प्रताप पुरी ने कांग्रेस के सालेह मोहम्मद को 35,427 वोटों से हराया है. 2018 में इस सीट से सालेह मोहम्मद जीते थे. उनके ख़िलाफ़ बीजेपी ने तातरपुर मठ के स्वामी प्रतापपुरी को मैदान में उतारा था. इस बार सालेह को 77498 वोट मिले. और प्रताप पुरी को 112925 वोट मिले. 

7. आपदा प्रबंधन मंत्री गोविंदराम मेघवाल

खाजूवाला से कांग्रेस नेता गोविंदराम मेघवाल बीजेपी के डॉ विश्वनाथ मेघवाल से 17,374 वोट से हार गए हैं. विश्वनाथ मेघवाल को कुल 91,276 वोट मिले और गोविंदराम मेघवाल को 73902 वोट मिले.

8. संसदीय मामलों की राज्य मंत्री ज़ाहिदा ख़ान

कामां में जाहिदा के पक्ष में 58130 वोट पड़े. बीजेपी की नौक्षम चौधरी को 78646 वोट मिले. इस तरह ज़ाहिदा कुल 20,516 वोट से हारीं. निर्दलीय उम्मीदवार मुख्तियार अहमद को 64740 वोट मिले.  

9. शिक्षा मंत्री बुलाकी दास कल्ला

बीकानेर पश्चिम से कांग्रेस के बुलाकी दास कल्ला को मिले 78454 वोट. वो बीजेपी के जेठानंद व्यास से 20,194 वोट से हार गए हैं, जिन्हें 98648 वोट मिले.

10. राजस्व मंत्री राम लाल जाट

मांडल में कांग्रेस नेता राम लाल जाट बीजेपी के उदयलाल भड़ाना से 35,878 वोट से हार. 2018 के चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रामलाल जाट ने स्वतंत्र उम्मीदवार प्रद्युम्न सिंह को 8 हजार मतों के अंतर से हराकर यह सीट जीती थी. इस बार उदयलाल को मिले 126291 वोट लेकिन राम लाल जाट की गिनती 90413 पर ही रुक गई.

11.  गृह राज्य मंत्री राजेंद्र सिंह यादव

कोटपूतली से कांग्रेस नेता और गहलोत सरकार में गृहराज्य मंत्री राजेंद्र सिंह यादव बीजेपी के हंसराज पटेल से सिर्फ 321 वोट से हार गए हैं. हालांकि इस सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार मुकेश गोयल ने 38,850 वोट काटे थे. यहां बीजेपी को 67716 वोट मिले, कांग्रेस को 67395 वोट मिले हैं. 

12. राज्य मंत्री (श्रम) सुखराम विश्नोई 

सांचौर विधानसभा सीट पर कांग्रेस के सुखराम विश्नोई निर्दलीय उम्मीदवार जीवा राम चौधरी से 4,671 वोट से हार गए हैं. कांग्रेस को 90847 वोट मिले, निर्दलीय उम्मीदवार को 95518 वोट मिले और बीजेपी के देवजी पटेल को 30535 वोट मिले. 

13. सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना

निंबाहेड़ा से कांग्रेस नेता उदयलाल आंजना बीजेपी के श्रीचंद कृपलानी से 3,845 वोट से हारे हैं. श्रीचंद कृपलानी को 116640 वोट मिले हैं. आंजना को 112795 वोट मिले. 

14. पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन मंत्री विश्वेंद्र सिंह 

राजस्थान के भरतपुर जिले की डीग-कुम्हेर सीट भी हॉट सीट मानी जाती है. यहां से कांग्रेस के प्रत्याशी विश्वेंद्र सिंह को BJP के प्रत्याशी शैलेश सिंह ने 7895 वोटों के अंतर से हराया है. साल 2018 के विधानसभा चुनाव में विश्वेंद्र सिंह 8000 वोटों से चुनाव जीते थे. इस बार विश्वेंद्र सिंह को 81168 वोट मिले. और शैलेश सिंह को 89063 वोट मिले.

15. महिला एवं बाल कल्याण मंत्री ममता भूपेश

सिकराय से कांग्रेस नेता ममता भूपेश बीजेपी के विक्रम बंसीवाल से 9,567 वोट से हर गईं हैं. बंसीवाल को यहां 91,996 वोट मिले हैं. ममता भूपेश को 82568 वोट मिले. 

16. लोक निर्माण विभाग मंत्री भजनलाल जाटव 

वैर विधानसभा सीट पर कैबिनेट मंत्री भजनलाल जाटव चुनाव हार गए हैं. उन्हें बीजेपी के बहादुर सिंह कोली ने हराया है. कोली को 94056 वोट मिले और जाटव को 87084. इस तरह कोली को 6972 वोटों से जीत मिली है.  

17. खनन एवं पेट्रोलियम मंत्री प्रमोद जैन

अंता सीट से कांग्रेस के प्रमोद जैन बीजेपी के कंवरलाल से 5,861 वोट से हार गए हैं. कंवरलाल को कुल 87,390 वोट मिले हैं. और प्रमोद जैन को 81529 वोट मिले. 

ये भी पढ़ें: राजस्थान में राजघरानों से आने वाले उम्मीदवारों का क्या हुआ? बीजेपी ने कितनी सीटें जीती?

वीडियो: राजस्थान विधानसभा चुनाव के नतीजों से पहले गिनती का क्या किस्सा खुल गया?

thumbnail

Advertisement