The Lallantop
Advertisement

'परिवार के गुलाम नहीं बन सकते', कर्नाटक कांग्रेस में क्या संकट चल रहा है?

ऐसा माना जा रहा है कि कांग्रेस कोलार से कर्नाटक के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री केएच मुनियप्पा के दामाद चिक्का पेद्दन्ना को टिकट देगी. इसी के विरोध में कम से कम तीन विधायकों और विधान परिषद के 2 सदस्यों ने इस्तीफा देने की धमकी दी है.

Advertisement
Karnataka Congress revolt
कर्नाटक की 28 लोकसभा सीटों पर दो चरणों में चुनाव होने हैं. (कर्नाटक के CM सिद्दारमैया और डिप्टी CM डी.के शिवकुमार की फाइल फोटो: PTI)
27 मार्च 2024
Updated: 27 मार्च 2024 20:37 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

लोकसभा चुनाव के लिए टिकट बंटवारे को लेकर कर्नाटक कांग्रेस में बगावत के संकेत सामने आ रहे हैं. प्रदेश कांग्रेस के कम से कम तीन विधायकों और विधान परिषद के 2 सदस्यों ने इस्तीफा देने की धमकी दी है. ये विवाद कर्नाटक की कोलार लोकसभा सीट को लेकर चल रहा है. ऐसा माना जा रहा है कि पार्टी कोलार से कर्नाटक के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री केएच मुनियप्पा के दामाद चिक्का पेद्दन्ना को टिकट देगी. इस पर कई विधायकों और MLC ने पहले ही नाराजगी जता दी है. इनमें कर्नाटक के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. एमसी सुधाकर भी शामिल हैं.

'हम एक परिवार के गुलाम नहीं…'

इंडिया टुडे के सगाय राज के साथ हुई बातचीत में डॉ. एमसी सुधाकर ने कहा,

"हम बेहद निराश हैं. हम (मुनियप्पा) परिवार के गुलाम नहीं बन सकते. हम काफी कुछ सह चुके हैं. हमारे पास राजनीति छोड़कर घर बैठने के अलावा कोई विकल्प नहीं है."

नाराज विधायकों में कोलार के विधायक कोथुर जी मंजूनाथ, मालूर के विधायक केवाई नानजेगौड़ा, चिंतामणि के विधायक एमसी सुधाकर हैं. वहीं दो MLC अनिल कुमार और नसीर अहमद ने भी केएच मुनियप्पा के दामाद की संभावित उम्मीदवारी पर नाराजगी जताई है.

ये भी पढ़ें- कांग्रेस से 135 करोड़ के बाद 524 करोड़ वसूलने की तैयारी, चुनाव से पहले बहुत बड़ी 'गाज' गिरने वाली है

डॉ. एमसी सुधाकर ने न्यूज एजेंसी ANI से कहा,

“हम चाहते हैं कि पार्टी में अन्य लोगों को मौका मिले. हम मुख्यमंत्री सिद्दारमैया से बात करेंगे. हम इस (मुनियप्पा) परिवार के अलावा किसी और की उम्मीदवारी चाहते हैं.”

न्यूज एजेंसी PTI की रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस पार्टी के एक अंदरूनी सूत्र ने कहा,

“ये कोलार कांग्रेस के दो गुटों के बीच की लड़ाई है. इनमें से एक गुट का नेतृत्व केएच मुनियप्पा और दूसरे गुट का नेतृत्व कर्नाटक विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष केआर रमेश कुमार कर रहे हैं, जो कोलार जिले में वर्चस्व की होड़ में हैं.”

क्या बोले केएच मुनियप्पा?

वहीं कुछ लोग इसे कोलार में मुनियप्पा और उनकी 'पारिवारिक राजनीति' के खिलाफ दबाव की रणनीति बता रहे हैं. इस बीच पूरे विवाद पर केएच मुनियप्पा ने भी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा है कि पार्टी आलाकमान का जो भी फैसला होगा, वो उसका पालन करेंगे.

कर्नाटक की 28 लोकसभा सीटों पर दो चरणों (26 अप्रैल और 7 मई) में चुनाव होने हैं. कांग्रेस 28 में से 24 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी है. वहीं कोलार, चिक्कबल्लापुर, चामराजनगर और बेल्लारी से उम्मीदवारों की घोषणा बाकी है.

वीडियो: कर्नाटक विधानसभा में लगे पाकिस्तान के समर्थन में नारे, फॉरेंसिक रिपोर्ट में पुष्टि

thumbnail

Advertisement

election-iconचुनाव यात्रा
और देखे

Advertisement

Advertisement