The Lallantop
Advertisement

JSSC CGL परीक्षा का पेपर लीक, अगला एग्जाम भी रद्द, 8 सालों से यही सिलसिला है जारी

31 जनवरी को आयोग ने 28 जनवरी को हुई पूरी परीक्षा रद्द कर दी. 4 फरवरी को प्रस्तावित परीक्षा को भी रद्द कर दिया गया है. उधर अभ्यर्थियों की मांग है कि परीक्षा जल्द कराई जाए और नियुक्तियां दी जाएं.

Advertisement
jharkhand jssc cgl paper leak commission cancelled february 4 paper also probe ordered
JSSC के बाहर प्रदर्शन करते अभ्यर्थी (बाएं), फोन पर पेपर लीक हुआ. (फोटो- ट्विटर)
31 जनवरी 2024
Updated: 31 जनवरी 2024 19:24 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

झारखंड स्टाफ सेलेक्शन कमीशन (JSSC) की CGL परीक्षा का पेपर लीक हो गया है. परीक्षा में शामिल हुए उम्मीदवारों ने 28 जनवरी को हुई परीक्षा का पेपर 3 लीक होने का आरोप लगाया है. मामला सामने आने के बाद JSSC ने तीसरा पेपर रद्द करने का आदेश जारी किया. 8 साल बाद हुई भर्ती परीक्षा के उम्मीदवारों ने परीक्षा के बाद आयोग का घेराव किया. JSSC ने 4 फरवरी को प्रस्तावित परीक्षा को भी रद्द कर दिया है. पेपर लीक के विरोध में राज्य में अलग-अलग जगहों पर प्रदर्शन चल रहे हैं. JSSC CGL परीक्षा का पेपर लीक कैसे सामने आया और पूरा मामला क्या है, विस्तार से जानते हैं.

8 साल बाद हुई परीक्षा का पेपर लीक

JSSC सहायक शाखा अधिकारी, ब्लॉक आपूर्ति अधिकारी, ब्लॉक कल्याण अधिकारी, योजना सहायक, ब्लॉक पंचायत राज अधिकारी जैसे विभिन्न पदों के लिए भर्ती आयोजित करता है. 28 जनवरी को लीक हुए पेपर की कहानी 8 साल पहले से शुरू होती है. साल था 2016. प्रदेश में बीजेपी की अगुवाई में रघुबर दास की सरकार थी. JSSC की कंबाइन्ड ग्रेजुएट लेवल परीक्षा 21 अगस्त 2016 को प्रस्तावित थी. इसके लिए 6 अगस्त को एडमिड कार्ड जारी करने की बात हुई. लेकिन परीक्षा पूरी नहीं हो पाई.

आयोग ने साल 2017-18 में होने वाली परीक्षाओं का कैलेंडर जारी किया. CGL परीक्षा फरवरी-मार्च 2018 में कराने की बात हुई. पर परीक्षा नहीं हुई. फिर कहा गया परीक्षा नवंबर-दिसंबर 2019 में होगी. इस बार भी नहीं हो पाई. साल 2020 में प्रदेश में सरकार बदली. JMM की अगुवाई में हेमंत सोरेन की सरकार बनी. नई सरकार ने नए सिरे से परीक्षा कराने की बात कही. 5 मई 2021 को परीक्षा नोटिफिकेशन जारी किया गया. मई 2022 में परीक्षा होनी थी. फिर कहा गया 21 अगस्त 2022 को परीक्षा होगी. 28 जुलाई 2022 को आयोग ने नोटिस जारी किया. कहा CGL परीक्षा 2021 अपरिहार्य कारणों से स्थगित कर दी गई है.

14 नवंबर 2022 को आयोग ने नोटिस जारी कर कहा कि CGL परीक्षा 21, 22, 28 और 29 जनवरी 2023 को आयोजित की जाएगी. लेकिन परीक्षा का वहीं हाल रहा. फिर लटक गई. इसके बाद सितंबर 2023 में परीक्षा कराने की बात कही गई. इस तारीख पर भी परीक्षा नहीं हो पाई. आयोग ने नया नोटिफिकेशन निकाला. विज्ञापन संख्या-10/2023 के तहत कुल 2017 पदों पर भर्ती कराने की बात हुई. 28 जनवरी और 4 फरवरी 2024 को परीक्षा होना सुनिश्चित किया गया.

प्रश्न पत्र सोशल मीडिया पर वायरल

लेकिन 28 जनवरी को परीक्षा से पहले ही परीक्षा का पेपर-3 लीक हो गया. राज्य के 735 केंद्रों पर आयोजित परीक्षा का प्रश्न पत्र और आंसर की एक रात पहले ही सोशल मीडिया पर वायरल हो गए. CGL परीक्षा में तीन पेपर हुए. पेपर-1 क्वालिफाइंग था. जिसमें हिंदी व अंग्रेजी के सवाल थे. पेपर-2 रीजनल लैंग्वेज का था. जबकि पेपर-3 में जनरल नॉलेज के प्रश्न पूछे गए थे. पेपर-2 और 3 के नंबर फाइनल मेरिट में जोड़े जाते हैं. परीक्षा के पेपर-3 के सवाल लीक हो गए. परीक्षा के बाद सवालों का मिलान किया गया तो ज्यादातर सवाल और जवाब मिल रहे थे.

लल्लनटॉप ने पेपर लीक के बारे में परीक्षा में शामिल हुए आनंद से जब बात की तो उन्होंने बताया,

“8 साल बाद किसी तरह परीक्षा आयोजित कराई गई थी. लेकिन तीसरे पेपर के प्रश्न लीक हो गए. मेरे कई जानने वाले लोगों के पास एक रात पहले लगभग 50 सवालों की लिस्ट आई. पहले तो सभी को लगा कि ये सवाल ऐसे ही होंगे. लेकिन पेपर के बाद जब सवालों का मिलान किया गया, तो पता चला कि ज्यादातर सवाल पेपर में पूछे गए थे. पेपर लीक एजेंसी के माध्यम से किया गया.”

परीक्षा में शामिल हुए एक अन्य अभ्यर्थी ने नाम ना छापने की शर्त पर लल्लनटॉप से दावा करते हुए बताया कि पेपर-3 के अलावा बाकी पेपर भी लीक हुए हैं. उसने मांग की कि सरकार जल्द ही परीक्षा का नया नोटिफिकेशन जारी करे और नई तारीखों का ऐलान करे. परीक्षा पूरी करा कर अभ्यर्थियों को नियुक्ति दी जाए.

आयोग ने 4 फरवरी की परीक्षा भी रद्द की

आयोग ने 28 जनवरी को पेपर लीक का खुलासा होने के बाद तीसरे पेपर को रद्द कर दिया. 31 जनवरी को आयोग ने 28 जनवरी की पूरी परीक्षा रद्द कर दी. 4 फरवरी को प्रस्तावित परीक्षा को भी रद्द कर दिया गया है. लल्लनटॉप से अभ्यर्थी सौरभ ने बताया,

“सरकार पिछले 8 साल से एक परीक्षा नहीं पूरी करा पाई. पेपर लीक भी हो गया. अब तो सरकार ने भी मान लिया है कि परीक्षा में धांधली हुई है. सरकार नई एजेंसी द्वारा परीक्षा को जल्द ही पूरा कराए. ये सभी अभ्यर्थियों के भविष्य का सवाल है. सरकार को इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए और जरूरी कदम उठाने चाहिए.”

Image
JSSC ने नोटिस जारी कर 28 जनवरी और 4 फरवरी को होने वाली परीक्षा रद्द की.
पेपर लीक का बिहार कनेक्शन!

परीक्षा में शामिल हुए उम्मीदवारों ने दावा किया कि CGL परीक्षा पेपर लीक का बिहार कनेक्शन भी है. बताया गया कि परीक्षा माफियाओं के पास पहले से ही प्रश्न पत्र मौजूद था. उन्होंने सभी सवालों के जवाब भी तैयार कर लिए थे. बिहार, हरियाणा और राजस्थान के परीक्षा माफियाओं ने प्रश्न पत्र लीक करने के बाद अभ्यर्थियों से मोटी रकम लेकर उन्हें पेपर दिया. उम्मीदवारों का आरोप है कि पटना के एक बैंक्वेट हॉल में पेपर की आंसर की सभी को रटाई गई. इसी दौरान पेपर के सवाल ऑनलाइन सर्कुलेट किए गए.

CBI जांच की मांग

CGL परीक्षा में शामिल हुए अभ्यर्थियों का कहना है कि पेपर लीक की जांच एक उच्च स्तरीय कमेटी से कराई जाए. अभ्यर्थी इस मामले की CBI जांच कराने की मांग भी कर रहे हैं. इसके साथ ही जल्द ही नए सिरे से परीक्षा का आयोजन कराए जाने की मांग भी हो रही है. JSSC CGL परीक्षा पेपर लीक के बाद विपक्ष ने JMM सरकार को घेरा है. बीजेपी नेता भानु प्रताप शाही ने पेपर लीक का वीडियो शेयर करते हुए लिखा,

“हेमंत सोरेन जी, सिर्फ नई-नई नियमावली बना लेने से और लाखों फॉर्म भरवाने का दम भरने से अबुआ राज नहीं आएगा. ना ही युवाओं का कल्याण होगा. CGL परीक्षा में जिस तरह से प्रश्न पत्र को भेड़ बकरियों की तरह परीक्षा के एक रात पहले बेचा गया है और हर जगह वायरल किया गया है, उससे साफ पता चलता है कि आपकी सरकार हर मुद्दे पर फेल हो चुकी है.”

भानु प्रताप ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया कि इसके हर स्तर में भ्रष्टाचार कूट-कूट के भरा है. उन्होंने भी मामले की CBI जांच कराने की मांग की है.

वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने आरोप लगाया कि झारखंड के संसाधनों को बेचने वाली हेमंत सरकार अब नौकरियां भी बेच रही है. प्रतिवर्ष 5 लाख सरकारी नौकरियों देने का दावा करने वाले हेमंत सोरेन ने JSSC परीक्षा में गड़बड़ी करा कर युवाओं के साथ छल किया है. मरांडी ने कहा कि JSSC के प्रश्न पत्र 50 लाख रुपए तक में बेचे गए हैं. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने मांग की कि मामले को रफा-दफा करने की कोशिश में लगे JSSC अध्यक्ष पर केस दर्ज होना चाहिए.

JSSC CGL परीक्षा के पेपर लीक के संबंध में जानकारी के लिए हमने JSSC चेयरमैन नीरज सिन्हा से संपर्क करने की कोशिश की. लेकिन कई कोशिशों के बाद भी उनसे बात नहीं हो सकी. उनसे बात होते ही खबर को अपडेट किया जाएगा.

वीडियो: 'पेपर लीक,REET और नौकरी' राजस्थान चुनाव में गहलोत या BJP किसके साथ जाने को तैयार है?

thumbnail

Advertisement