The Lallantop
Advertisement

बिहार: एक मिनट लेट हुए छात्र एग्जाम सेंटर के आगे रो-रोकर थक गए, लेकिन एंट्री नहीं मिली

छात्रों का कहना है कि वो 2 घंटे पहले अपने-अपने घरों से निकले थे, लेकिन सड़क पर जाम के कारण सेंटर पर समय से नहीं पहुंच सके.

Advertisement
bihar board exam students get late due to traffic administration denies entry
कैमूर जिले के मोहनिया शहर में भी 10 छात्राओं की बोर्ड परीक्षा छूट गई. (फोटो- आजतक)
1 फ़रवरी 2024
Updated: 1 फ़रवरी 2024 16:18 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

बिहार में 12वीं बोर्ड की परीक्षा देने गए कुछ छात्रों को एग्जाम सेंटर में एंट्री नहीं दी गई. छात्र सेंटर पर एक मिनट की देरी से पहुंचे थे (Bihar Board students denied entry). देरी का कारण सड़क जाम था. सेंटर पर पहुंचे छात्रों ने प्रशासन से लगातार आग्रह किया कि उन्हें एंट्री दे दी जाए. लेकिन उन्हें एंट्री नहीं दी गई. एग्जाम सेंटर पर एंट्री न मिलने से छात्रों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया. छात्रों और अभिभावकों ने एंट्री न मिलने पर सड़क पर प्रदर्शन भी किया.

100 से अधिक छात्रों को एंट्री नहीं मिली

मामला बिहार के मधेपुरा के ठाकुर प्रसाद महाविद्यालय का है. यहां 12वीं की बोर्ड परीक्षा देने के लिए आए 100 से अधिक छात्रों को एग्जाम सेंटर में एंट्री नहीं दी गई. छात्र सड़क पर लगे जाम के कारण एक मिनट देरी से सेंटर पर पहुंचे थे. प्रशासन ने उन्हें दिशानिर्देशों की अनदेखी करने के कारण सेंटर पर एंट्री नहीं दी. 11 बजे तक छात्र प्रशासन से गुहार करते रहे, लेकिन फिर भी उन्हें परीक्षा देने नहीं दी गई.

आजतक से जुड़े रंजन कुमार त्रिगुण की रिपोर्ट के मुताबिक सेंटर पर एंट्री न दिए जाने के बाद छात्रों ने प्रशासन पर आरोप लगाया कि उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है. छात्रों ने बताया कि सड़क जाम की वजह से सेंटर पर पहुंचने में देरी हुई. छात्रों का कहना है कि वो 2 घंटे पहले अपने-अपने घरों से निकले थे, लेकिन सड़क पर जाम के कारण सेंटर पर समय से नहीं पहुंच सके. एंट्री न मिलने के बाद से छात्र और अभिभावक लगातार सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं. सड़क से उन्हें हटाने के लिए पुलिस ने उनके ऊपर कार्रवाई भी की.

कैमूर में 10 छात्राओं की बोर्ड परीक्षा छूटी

उधर कैमूर जिले के मोहनिया शहर में भी 10 छात्राओं की बोर्ड परीक्षा छूट गई. प्रशासन ने इन छात्राओं को भी सेंटर में एंट्री नहीं दी. छात्रों के परिजनों ने कथित तौर पर बताया कि जाम में फंसने के कारण छात्राएं सेंटर पर 10 मिनट लेट पहुंची थीं. अमित यादव की बहन परीक्षा में शामिल होने के लिए सेंटर पर देर से पहुंचीं. अमित ने आजतक से बताया कि मोहनिया शहर में भीषण जाम लगने के कारण वो सेंटर पर 9 बजकर 5 मिनट पहुंचे थे, इस कारण उन्हें प्रवेश नहीं मिला.

बता दें कि बिहार बोर्ड की 12वीं की परीक्षा 1 फरवरी से शुरू हुई हैं. परीक्षा 12 फरवरी 2024 तक चलेंगी. परीक्षा के पहले दिन 12वीं क्लास के बायोलॉजी, फिलॉसफी और इकोनॉमिक्स के पेपर होने थे. एग्जाम दो शिफ्ट में कराया जा रहा है. पहली सुबह साढ़े 9 बजे से दोपहर 12 बजकर 45 मिनट तक. दूसरा 2 बजे से शाम 5 बजकर 15 मिनट तक. एग्जाम के लिए छात्रों को कुछ दिशा-निर्देश भी दिए गए हैं. इनके मुताबिक छात्रों को सेंटर पर परीक्षा शुरू होने से 30 मिनट पहले पहुंचना होता है. माने सुबह की शिफ्ट के लिए 9 बजे और दूसरी शिफ्ट के लिए डेढ़ बजे.

वीडियो: बिहार में नकल का नया तरीका, 5जी मोबाइल का इस्तेमाल

thumbnail

Advertisement