Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

लवर्स को प्रपोज क्यों करना पड़ता है. प्रपोज करते ही लव तो नहीं होता न

लाइफ में कुछ चीजें अचानक आती हैं. कहीं एडमिशन के लिए अप्लाई किया और भूल गए. फिर एक दिन कॉल लेटर आ गया. अलमारी में अखबार के नीचे 100 रुपये का नोट मिल गया. या फिर पप्पू गुड़िया वाले की गली में वो दिख गई. तब जब आप तैयार नहीं थे. अपने बेस्ट रूप में नहीं थे. गोया होते तो वो वहीं निसार हो जाती. हल्लू चक्की वाले के डेक पर गाना बजने लगता. सारे रिश्ते नाते मैं तोड़ के आ गई. ले मैं तेरे वास्ते सब छोड़के आ गई.

आना तय करके कितना हो पाता है. और फिर वो अचानक की धुकधुकी भी तो नहीं होती उसके पास.

डीपीडी उर्फ दिव्य प्रकाश दुबे
डीपीडी उर्फ दिव्य प्रकाश दुबे

डीपीडी मेरा दोस्त अचानक से बन गया है. ये मेरी तरफ का बयान है. दी लल्लनटॉप शुरू होने के पहले हम फेसबुक पर जुड़ चुके थे. आधी हकीकत और आधा फसाना जहां मलबे से गुत्थमगुत्था हैं. फिर ये साइट शुरू हुई और इक रोज बात हुई.

कल रात हम देर तक बतियाते रहे. वो नाटक देखकर लौटा था. और मैं नेटफ्लिक्स का विक्टिम, बीवी की सुझाई एक सीरीज जेसिका जोंस निपटा रहा था.

और आज ये आपके सामने है. श्री दिव्य प्रकाश दुबे लखनऊ वाले की चिट्ठी. डीपीडी ये चिट्ठी हर इतवार लिखता है. बल्कि बांचता है. पहले ये उसके फेसबुक पेज पर होता था, अब यहां होगा.

अब इसके लिए थैंक्स नहीं बोलूंगा. मिलेगा तो एक चाय एक्स्ट्रा पी लूंगा. ये कोड वर्ड भी हो सकता है सिंगल मॉल्ट स्कॉच या वोडका शॉट का. पर शराब पर बात करना चरित्र के लिए हानिकारक है.

आप कहेंगे कि ये सौरभ सुबह सुबह किससे मिलवाने लगा. सही भी है. सब सब को नहीं जानते. दुरुस्त, वर्ना धऱती क्यों कर हचर मचर हिलती रहे.

डीपीडी इंजीनियर भी है. राइटर तो है ही. मसाला चाय और टर्म्स एंड कंडिशंस अप्लाई नाम से उनकी दो किताबें आ चुकी हैं. प्यार का नाता है, इसलिए झूठ नहीं बोलूंगा. मैंने एक भी नहीं पढ़ी.

पर हम दोनों ने कुछ साझा ढंग से पढ़ा है. कल ही सुराग लगा. राही मासूम रजा. शोख फरिश्ता. मंटो, इस्मत और कृष्णा सोबती की दुनिया का एक बाशिंदा. उसका बुत भी लगवा दो तो डर, कहीं भरे उजाले में चलन की बेकद्री कर किस्सा न सुनाने लग जाए संगतराश की बेहूदी मजेदार हरकतों का. वक्त को किरदार बनाने वाला गाजीपुरिया. अरे हां. डीपीडी भी वहीं से है.

और ये कोना तो उसका है. तो मैं क्यों मन पसेरी कर रहा हूं. आप खत पढ़िए. आज पढ़िए. हर इतवार पढ़िए.

इस सिलसिले का नाम है, संडे वाली चिट्ठी. और आज ये मिल रही है टी को. ये टी कौन. अपने रंग आप भरिए. झलक दिख जाएगी.

– सौरभ द्ववेदी


डियर टी,

मैं सबकुछ लिख के कुछ भी आसान नहीं करना चाहता न तुम्हारे लिए न अपने लिए।

कभी-कभी सामने दिखती खूबसूरत सड़कों के किनारे पड़ने वाली टुच्ची सी पगडंडियाँ हमें उन पहाड़ों पर लेकर जाती हैं जिसके बारे में हम लाख सोच के भी सोच नहीं सकते। वैसे भी सड़कों और पगडंडियों में बस इतना सा फर्क होता है। सड़कें जहां भी ले जाएँ वो हमेशा जल्दी में रहती हैं और पगडंडियों अलसाई हुई सी ठहरी हुई। वो ठहर कर हम सुस्ता सकते हैं, सादा पानी पी सकते हैं, बातें कर सकते हैं।

प्यार और सुस्ताने में मुझे कोई फर्क नहीं लगता है।

जब सब कुछ मिल जाये तो आदमी पहली चीज यही कर सकता है। थोड़ा ठहर कर जी भर सुस्ता सकता है। आगे कहाँ जाना है उसके बारे में चाहे तो सोच सकता है। पिछली गलतियाँ याद करके हँस सकता है, रो सकता है। और इन सबसे ज़्यादा जरूरी काम कर सकता है। वो उस पूरे पल में थोड़ा ‘सुस्ता’ सकता है या फिर अपने अधूरेपन वाले सैकड़ों पलों को सुस्ताकर पूरा कर सकता है।

पता नहीं जो मैं लिख रहा हूँ वो तुम समझोगी या नहीं। मैं समझा पाऊँगा या नहीं। कोई और पढ़ेगा कभी तो वो वहाँ तक पहुँचेगा भी या नहीं जहां पर आज हम खड़े हैं।

जब मैं स्कूल, कॉलेज, ट्यूशन में किसी लड़के को किसी लड़की से प्रपोज़ करते हुए देखता था तो हमेशा सोचता था कि कितना टुच्चा है इनका प्यार कि अगर लड़के ने बोला नहीं होता तो लड़की कभी मानती ही नहीं। या फिर ऐसे सोचता था कि प्यार लड़के के बोलने की वजह से हुआ है क्या? और अगर लड़की भी प्यार नहीं करती थी तो वो क्या सोचकर हाँ बोल रही थी। बोलने से ऐसा क्या हो गया कि वो मान गयी। मुझे लड़कियों का ऐसे मान जाना हमेशा झूठ लगता रहा, लगता है और शायद लगता रहेगा। मुझे हमेशा ही लगता था कि जब तक दो लोगों में एक ऐसी स्टेज न आ जाये कि जब बोलना उस पूरे रास्ते का बहुत छोटा हिस्सा हो जाये तब होता होगा प्यार।

ये जो शब्द प्यार है न, इसको इतने लोग इतनी बार बोल चुके हैं कि मुझे ये दुनिया का सबसे खराब शब्द लगता है। मैं तुम्हारे लिए कोई नया शब्द गढ़ना चाहता हूँ। एक ऐसा शब्द जो हमारे बीच का सबकुछ समेट ले। हमेशा तो खैर कुछ नहीं नहीं रहता लेकिन मैं चाहता हूँ कि हम जब इस दुनिया से जाएँ न तो एक दूसरे की वसीयत में बस वो एक शब्द लिख जाएँ।

मैं तुम्हें जहां तक छू चुका, मैं जानता हूँ कोई और नहीं छू पाएगा। तुम लाख कोशिश कर लो। मैं ये बात तुम्हें बताना नहीं चाहता था लेकिन अगर मैं नहीं बताता तो ये ‘तिल’ जितनी बात मुझको हमेशा बेचैन करती रहती।

पता है हम पगडंडी के उस हिस्से में खड़े होकर दुनिया को देख रहे हैं, जहां पर हमारा एक दूसरे को गले लगा लेना, अपने हाथ से एक बार सही में छूकर देख लेना इतना पीछे छूट चुका है कि अब बचकाना लगता है।

मुझे मालूम है जब तुम लौटोगी तो मुझे सबसे ज़्यादा याद नहीं करोगी। तुम्हें मेरी याद उस दिन आएगी जिस दिन तुम्हें ये एहसास होगा कि तुम जो जिंदगी जी रही हो वो ऐसी है जैसे सड़क पे चलना, जहां चाहकर भी तुम अपनी रफ्तार धीमे नहीं कर सकती। तुम्हारी गाड़ी में अब पहिये दो हैं और तुम उस दुनिया में होगी जहां स्पीड पहिये नहीं जिंदगी डिसाइड करती है।

खैर, तुम आओ कभी हम मिलेंगे। मैं आया तो मिलूंगा। कहीं घूमने चलेंगे। तुम घर पे आकर खाना बनाना। या मैं तुम्हारे होटल में रुक जाऊंगा। ये सारी बातें बस एवें ही हैं। ये सब कुछ कभी असली में नहीं भी होगा तो गम नहीं क्यूंकि मुझे हमेशा लगता है ये सबकुछ तो हम दोनों पता नहीं कितनी बार जी चुके हैं।

इन तमाम बातों में बस एक बात सच है कि मैं 2032 तक तुम्हारा नहीं ‘हमारा’ इंतज़ार करूंगा। तुम्हीं ने कहा था मिलने के 15 साल तक अगर हम टच में रहे तो तुम सब छोड़ कर आ जाओगी मेरे पास

तुम इसका जवाब अभी तुरंत मत लिखना। कभी बाद में लिखना।

मिलते है कभी किसी पगडंडी पर…

दिव्य प्रकाश

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

विजय, अमिताभ बच्चन नहीं, जितेंद्र थे. क्विज खेलो और जानो कैसे!

आज जितेंद्र का बड्डे है, 75 साल के हो गए.

पापा के सामने गलती से भी ये क्विज न खेलने लगना

बियर तो आप देखते ही गटक लेते हैं. लेकिन बियर के बारे में कुछ जानते भी हैं. बोलो बोलो टेल टेल.

सत्ता किसी की भी हो इस शख्स़ ने किसी के आगे सरेंडर नहीं किया

मौकापरस्ती को अपने जूते की नोक पर रखने वाले शख्स़ की सालगिरह है आज.

सुखदेव,राजगुरु और भगत सिंह पर नाज़ तो है लेकिन ज्ञान कितना है?

आज तीनों क्रांतिकारियों का शहीदी दिवस है.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

Quiz: विराट कोहली को कितने अच्छे से जानते हैं आप?

कोहली को मिला पद्मश्री, समझते हो, बड़ी चीज है. आओ टेस्टिंग हो जाए तुम्हाई.

'काबिल' देखने जाओगे? पहले ये क्विज खेल के खुद को काबिल साबित करो

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? खेल लो. जान लो.

न्यू मॉन्क

असली बाहुबली फिल्म वाला नहीं, ये है!

अगली बार जब आप बाहुबली सुनें तो सिर्फ प्रभाष के बारे में सोच कर ही ना रह जाएं.

द्रौपदी के स्वयंवर में दुर्योधन क्यों नहीं गए थे?

महाभारत के दस रोचक तथ्य.

परशुराम ने मां की हत्या क्यों की थी और क्षत्रियों को क्यों मारते थे, यहां जानो

परशुराम से जुड़े वो सारे मिथ, जो लोग आपको बिना किसी प्रूफ के बताते हैं. आज जयंती है.

कहानी कार्तवीर्य की, जिसने रावण को दबोचा, जिसको परशुराम ने मारा

रावण को बांध के पीटने वालों में एक ये भी था.

इक्ष्वाकु और भगवान राम में था 53 पीढ़ियों का जेनरेशन गैप

भगवान राम के पूर्वजों का फ्लोचार्ट भी बड़ा इंटरेस्टिंग है.

नाम रखने की खातिर प्रकट होते ही रोने लगे थे शिव!

शिव के सात नाम हैं. उनका रहस्य जानो, सीधे पुराणों के हवाले से.

अपनी चतुराई से ब्रह्मा जी को भी 'टहलाया' नारद ने

नारद कितने होशियार हैं इसका अंदाजा लगा लो.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.

नारद के खानदान में एक और नारद

पुराणों में इन दोनों नारदों का जिक्र है एक साथ.

नारद कनफ्यूज हुए कि ये शाप है या वरदान

नारद को मिला वासना का गुलाम बनने का श्राप.