कोरियन सिनेमा से प्रेरित हिंदी फिल्में

फ़िल्म का कांसेप्ट 2007 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘द हैपी लाइफ’ से बहुत मिलता है. ये भी एक बैंड की कहानी है, जो टूटता है और फिर जुड़ता है.

रॉक ऑन

रणबीर कपूर, प्रियंका चोपड़ा की इस फिल्म की कहानी कोरियन फ़िल्म ‘लवर्स कॉन्सर्ट’से काफी मिलती-जुलती है. 

बर्फी 

2008 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘द चेज़र’का प्लॉट लगभग 'मर्डर 2' जैसा ही था. लेकिन महेश भट्ट ने इस बात को नकार दिया था. 

मर्डर 2 

ये फ़िल्म ‘ऑफिशियल’ एडाप्टेशन है 2010 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘द मैन फ्रॉम नोवेयर’की. ये फ़िल्म उस साल कोरिया की सबसे बड़ी फिल्म थी. 

रॉकी हैंडसम

'आवारापन’ 2005 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘अ बिटर स्वीट लाइफ’ की कॉपी थी. लेकिन मोहित सूरी इस फैक्ट से साफ़ इनकार करते रहते हैं. 

आवारापन

फिल्म की कहानी 2010 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘आय सॉ द डेविल’ पर आधारित है. फिल्म में पहली बार रितेश देशमुख नेगेटिव किरदार में दिखे थे. 

एक विलन

‘प्रेम रतन धन पायो’ का प्लॉट सूरज बडजात्या ने 2012 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘मास्क्रेड’ से मेल खाता है. 

प्रेम रतन धन पायो 

सलमान खान की ये फिल्म साउथ कोरियन फ़िल्म ‘ओड टू माय फादर’ पर बेस्ड थी. फिल्म में कैरेक्टर की 8 साल से 70 साल तक की जर्नी है. 

भारत 

रोचक ख़बरों का एक
मात्र ठिकाना