The Lallantop
Advertisement

गाड़ी की नन्नू सी खरोंच पर इंश्योरेंस क्लेम लेकर खुशियां मना लीं, अब कटेगी जेब!

गाड़ी का insurance renew करवाने की बारी आई मगर जोर का झटका लगा. क्योंकि प्रीमियम बहुत बढ़ गया. आप गाड़ी बेच रहे और जांच करने वाले ने बताया ये तो एक्सीडेंट वाली गाड़ी है. हालांकि आपको कछु समझ में नहीं आ रहा होगा कि क्यों आपकी गाड़ी का प्रीमियम बढ़ गया या क्यों वो एक्सीडेंट वाली घोषित हो गई. हम बताते.

Advertisement
Insurance Claim: How to Avoid an Increased Premium and Accompanying Marks on Vehicles
इंश्योरेंस क्लेम का गुणा-गणित.
27 जून 2024
Updated: 27 जून 2024 21:11 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

सर आप परेशान मत हो. चिंता नक्को. आपका एक पैसा खर्च नहीं होगा. आपकी गाड़ी की मरम्मत मुफ़्त में हो जाएगी. अपन सारा क्लेम इंश्योरेंस कंपनी (Insurance Claim) से लेंगे. ऐसे सारे डायलॉग आपने तब सुने होंगे जब आपने अपनी गाड़ी को रिपेयरिंग के लिए दिया होगा. अब लेते हैं एक अल्पविराम. अब आई इंश्योरेंस रिन्यू करने की बारी. जोर का झटका. प्रीमियम बहुत बढ़ गया. एक और अल्पविराम. आप गाड़ी बेच रहे. जांच करने वाले ने बताया ये तो एक्सीडेंट वाली गाड़ी है.  

सुनकर आपको कैसा लगा होगा वो बताने की जरूरत नहीं. झटके से उबरने के लिए एक पूर्णविराम ले लेते हैं. हालांकि आपको कछु समझ में नहीं आ रहा होगा कि क्यों आपकी गाड़ी का प्रीमियम बढ़ गया या क्यों वो एक्सीडेंट वाली घोषित हो गई. हम बताते.

आज के फायदे में परसों का घाटा 

दरअसल आप अपने लालच और गाड़ी रिपेयर करने वाले की चालाकी के शिकार बने हैं. आपको लगा कि चलो रिपेयर का खर्च बच जाएगा. ना सोचा ना पढ़ा और साइन कर दिए. वही साइन जो आप गाड़ी देते समय करते हैं. इसके बाद होता है असल खेला. आपकी गाड़ी के जिस हिस्से की मरम्मत होनी है उसे तबीयत से तोड़ा जाता है. पहले से खराब को और खराब और बदतर किया जाता है. गाड़ी के एक्सीडेंट की कहानी बनाई जाती है.

Free Broken Car Stock Photo
सांकेतिक तस्वीर 

इसके बाद लिया जाता है क्लेम. अब चूंकि आपने साइन किए तो आपकी सहमति. वही सहमति जिसमें एक्सीडेंट से लेकर गाड़ी की तोड़फोडड का जिक्र होता है. तब तो आपको पता नहीं चलता, मगर अगले प्रीमियम पर जेब फट जाती है. ऐसा इसलिए क्योंकि जैसे ही आपने क्लेम लिया तो NCB मतलब No Clame Bonus गया. ये कई बार 45 फीसदी तक होता है.

ये भी पढ़ें: "कागज नहीं तो भी मिलेगा बीमा का पैसा..."- नियम बदल गए हैं, एक-एक बात जान लीजिए!

आगे गुणा-गणित आप खुद लगा लीजिए. एक्सीडेंटल गाड़ी का ठप्पा लगता है सो अलग. क्योंकि आजकल सब ऑनलाइन है तो गाड़ी खरीदने वाले को सब पता करना कोई मुश्किल नहीं. आपको लग रहा होगा कि बहुत देर से हमने आपको दुखी कर रखा है. चिंता मत कीजिए, हम इससे बचने का उपाय बताते हैं.

गुणा-गणित कीजिए

माने कि गाड़ी के रिपेयर की कॉस्ट पता कीजिए. बोले तो पूरी गाड़ी में अगर एक दरवाजा पेंट होना है तो फिर जेब से पैसा देकर काम चला लीजिए. क्यों रिकॉर्ड में क्लेम और एक्सीडेंटल चढ़वाना. मतलब कुछ सौ और हजार के खर्चे के लिए बड़ा बिल क्यों फड़वाना.

हां जो वाकई में खर्चा लंबा है तो फिर इंश्योरेंस बना ही इसलिए है. मगर छोटू सी खरोंच के लिए क्यों अपना जी खरोंचना.

वीडियो: Prabhas की Kalki 2898 AD की एडवांस बुकिंग तगड़ी रही,मगर Baahubali 2 का रिकॉर्ड नहीं तोड़ पाई

thumbnail

Advertisement

Advertisement