The Lallantop
Advertisement

आपने जो मोबाइल, लैपटॉप खरीदा वो नकली तो नहीं, अंग्रेजी के एक अक्षर से पता चलेगा

एक सरकारी ऐप है जिससे चंद सेकंड में पता चलेगा कि फलां प्रोडक्ट है असली या नकली.

Advertisement
If you are worried about whether a product is real or fake, then the BIS app can help you find every detail in seconds via registration numbers.
इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्स के असली या नकली होने का पता लगाएं BIS ऐप से. (तस्वीर साभार: Unsplash.com)
3 जुलाई 2023 (Updated: 3 जुलाई 2023, 15:33 IST)
Updated: 3 जुलाई 2023 15:33 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्टस की नकली और घटिया कॉपी बनना कोई छिपी हुई बात नहीं है. फ्रिज से लेकर टीवी और स्मार्टफोन से लेकर हेडफोन तक के डुप्लिकेट मार्केट में खूब बेचे जाते हैं. डुप्लिकेट कॉपी इतने बारीक तरीके से बनाई जाती है कि खुद कंपनी वाले पहचानने में गच्चा खा जाते हैं. ऐसे में असली नकली का खेल प्रोडक्ट खरीदते समय ही पता चल जाए तो बला टले. वैसे इस काम में अंग्रेजी का R अक्षर आपकी खूब मदद कर सकता है. अंग्रेजी का R और कुछ नंबर्स, और पल भर में प्रोडक्ट की कुंडली आपके सामने. कैसे, वो हम बताते हैं.

BIS ऐप करेगा आपकी मदद

BIS मतलब "भारतीय मानक ब्यूरो" (Bureau of Indian Standards). एक सरकारी संस्था जहां देश में बनने वाले और बिकने वाले प्रोडक्ट का पंजीकरण होना अनिवार्य है. BIS उपभोक्ता मामलों, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के अधीन कार्य करती है. यह ब्यूरो कई तरह के उत्पादों के लैब टेस्ट से लेकर हॉलमार्किंग का काम करता है. आसान भाषा में कहें तो अगर प्रोडक्ट पर BIS का ठप्पा लगा है तो चिंता नक्को. यही ब्यूरो अब आपकी मदद करेगा असली और नकली प्रोडक्ट की पहचान करने में.

दरअसल भारत में बिकने वाले प्रोडक्ट्स के बॉक्स पर BIS के लोगो के साथ आठ अंकों वाले (R-12345678) नंबर अंकित होते ही हैं. R मतलब प्रोडक्ट के रजिस्ट्रेशन से है. ये नंबर इस बात का प्रूफ है कि फलां प्रोडक्ट भारतीय मानक ब्यूरो से सर्टिफाइड है. इसलिए जब भी कोई उत्पाद खरीदें तो सबसे पहले लोगो और नंबर्स चेक करें. अगर ये नहीं तो उस प्रोडक्ट से दूरी भली. लेकिन जैसा हमने पहले कहा कि नकली प्रोडक्ट बनाने वाले तो ये लोगो भी लगा सकते हैं. ऐसे में आपके काम आएगा BIS का ऐप. इस पर प्रोडक्ट से जुड़े तमाम डिटेल्स चुटकियों में मिल जाते हैं.

# BIS Care App गूगल प्ले स्टोर और ऐप स्टोर पर डाउनलोड के लिए उपलब्ध है.

# डाउनलोड करते ही होम स्क्रीन पर कई सारे ऑप्शन नजर आएंगे.

# आपने Verify R-No पर जाना है.

# अगली स्क्रीन पर आपको रजिस्ट्रेशन नंबर एंटर करना होगा.

# आप चाहें तो बॉक्स पर दिख रहे क्यूआर कोड को भी स्कैन कर सकते हैं.

# हमने समझने के लिए Nothing Ear (2) का नंबर R-41234389 एंटर किया.

# सारी कुंडली पलभर में सामने आ गई.

# बनाने वाली कंपनी का नाम, किस देश में बना और क्या प्रोडक्ट है. BIS स्टैंडर्ड से लेकर इस्तेमाल के लायक (Operative) तक है या नहीं, वो भी साफ पता चल रहा.

# आगे बताने की जरूरत नहीं क्योंकि अगर आपको ऐप पर ऐसे डिटेल नहीं मिलते तो प्रोडक्ट या तो नकली है या फिर इस्तेमाल के लायक नहीं है.

प्रोसेस समाप्त. ऐप को अपने मोबाइल पर डाउनलोड कीजिए और साथ में दूसरों को भी बता दीजिए.

वीडियो: सैमसंग और आईफोन किनारे पड़े रहे, बेस्ट स्मार्टफोन का 'अवॉर्ड' इसे मिल गया!

thumbnail

Advertisement