The Lallantop
Advertisement

बाढ़ में डटी रहीं, 47 को बचाया, इतना बड़ा मेडल पाने वालीं IAF ऑफिसर दीपिका की कहानी जानिए

दीपिका मिश्रा एयरफोर्स की पहली महिला ऑफिसर हैं, जिन्हें ये मेडल मिला है.

Advertisement
IAF's first woman gallantry award winner Wing Commander Deepika Misra received Vayu Sena Medal
विंग कमांडर दीपिका मिश्रा को मिला वीरता पुरस्कार. (फोटो-आजतक/ANI)
21 अप्रैल 2023 (Updated: 21 अप्रैल 2023, 15:35 IST)
Updated: 21 अप्रैल 2023 15:35 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

पहली बार एयर फोर्स की महिला अधिकारी को गैलेंटरी अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है. विंग कमांडर दीपिका मिश्रा को वायु सेना मेडल मिला है (Wing Commander Deepika Misra). वो एक हेलीकॉप्टर पायलट हैं. 2021 में मध्य प्रदेश में एक आपदा राहत अभियान के दौरान विंग कमांडर मिश्रा ने 47 लोगों की जान बचाई थी. इसी बहादुरी और साहस के लिए उन्हें वायु सेना पदक के लिए चुना गया.

एयर फोर्स के चीफ एयर मार्शल VR चौधरी ने 20 अप्रैल को दिल्ली के सुब्रतो पार्क स्थित वायु सेना ऑडिटोरियम में आयोजित एक समारोह में कई अधिकारियों और वायु योद्धाओं को अलग-अलग पुरस्कार दिए. इसी दौरान विंग कमांडर दीपिका मिश्रा को वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

भारतीय वायुसेना द्वारा साझा की गई जानकारी के मुताबिक,

विंग कमांडर मिश्रा को अगस्त 2021 में उत्तरी मध्य प्रदेश में अचानक आई बाढ़ के दौरान मानवीय सहायता और आपदा राहत अभियान चलाने के लिए तैनात किया गया था. आठ दिनों तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन में उन्होंने महिलाओं और बच्चों सहित 47 लोगों की जान बचाई. उनकी बहादुरी और साहस के प्रयासों ने न केवल प्राकृतिक आपदा में कीमती जानें बचाईं, बल्कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में आम जनता के बीच सुरक्षा की भावना भी पैदा की.

GNT की एक रिपोर्ट के मुताबकि, विंग कमांडर दीपिका मिश्रा राजस्थान की रहने वाली हैं. भारतीय वायुसेना में कार्यरत महिलाओं को पहले भी कई पुरस्कार मिले हैं, लेकिन ये पहली बार है कि भारतीय वायुसेना की किसी महिला अधिकारी को वीरता पुरस्कार मिला हो. 

शुरुआत कब हुई?

भारत सरकार ने 26 जनवरी, 1950 को प्रथम तीन वीरता पुरस्कार यानी परम वीर चक्र, महावीर चक्र और वीर चक्र की शुरुआत की थी. इसके बाद 4 जनवरी, 1952 को अन्य तीन वीरता पुरस्कार यानी अशोक चक्र श्रेणी – I, अशोक चक्र श्रेणी-II और अशोक चक्र श्रेणी-III शुरु किए गए. इन पुरस्कारों को बाद में अशोक चक्र, कीर्ति चक्र और शौर्य चक्र का नाम दिया गया.

हर बार साल में दो बार ये वीरता पुरस्कार घोषित किए जाते हैं. एक गणतंत्र दिवस के मौके पर और फिर स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर. इन पुरस्कारों का वरीयता क्रम परमवीर चक्र, अशोक चक्र, महावीर चक्र, कीर्ति चक्र, वीर चक्र, शौर्य चक्र और सेना मेडल है. सेना मेडल को ही एयर फोर्स में वायु सेना मेडल और नेवी में नौसेना मेडल कहा जाता है. 

वीडियो: अतीक की सताई महिला ने लल्लनटॉप से उसके जुल्म की दास्तां बताई

thumbnail

Advertisement