The Lallantop
Advertisement

क्या हेयर रिमूवल स्प्रे से बाल हटाने पर खुजली और दाने हो जाते हैं?

अगर स्किन पर पहले से ही कोई रिएक्शन हो तो हेयर रिमूवल स्प्रे इस्तेमाल न करें. क्योंकि पहले से मौजूद स्किन इन्फेक्शन पर हेयर रिमूवल स्प्रे लगाने से खाल पर जलन होगी, रूखी हो जाएगी.

Advertisement
hair removal spray
हेयर रिमूवल स्प्रे के अलावा बाल हटाने के और भी कई तरीके हैं (सांकेतिक फोटो)
31 जनवरी 2024
Updated: 31 जनवरी 2024 16:03 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

सोशल मीडिया पर आजकल हेयर रिमूवल स्प्रे के काफी विज्ञापन दिखाई दे रहे हैं. और इन विज्ञापनों में ये दावा किया जाता है कि हेयर रिमूवल स्प्रे इस्तेमाल करने से शरीर के बालों को आसानी से हटाया जा सकता है. इसमें वैक्सिंग जैसा दर्द भी नहीं होता और किसी तरह का कट लगने का भी खतरा नहीं होता. लेकिन सेहत के व्यूअर शुभम का सवाल है कि क्या हेयर रिमूवल स्प्रे का इस्तेमाल करने से स्किन पर खुजली या कोई और समस्या हो सकती है. वो भी बिना दर्द के आसानी से बॉडी के बालों को हटाना चाहते हैं, लेकिन उन्हें ये भी डर है कि हेयर रिमूवल स्प्रे यूज करने से उन्हें कहीं कोई स्किन इन्फेक्शन न हो जाए. तो चलिए डॉक्टर से जानते हैं कि क्या सच में हेयर रिमूवल स्प्रे स्किन को डार्क करते हैं और खुजली कर देते हैं? हेयर रिमूवल स्प्रे लेते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? और स्प्रे के अलावा कौन से ऐसे सेफ तरीके हैं, जिनसे शरीर के बालों को हटाया जा सकता है?

हेयर रिमूवल स्प्रे कैसे काम करते हैं?

ये हमें बताया डॉक्टर अप्रतिम गोयल ने.

(डॉक्टर अप्रतिम गोयल, सेलिब्रिटी डर्मेटोलॉजिस्ट)

हेयर रिमूवल स्प्रे बाल हटाने का एक नया प्रोडक्ट है. इसमें बहुत सारे केमिकल होते हैं, जिनमें सबसे जरूरी होता है सोडियम थियोग्लाइकोलेट (Sodium Thioglycolate) या थियोग्लाइकोलिक एसिड. ये केमिकल बालों को हटाने के लिए बालों में मौजूद सल्फर के बॉन्ड को तोड़ देते हैं.

हेयर रिमूवल स्प्रे से स्किन काली पड़ जाती है? खुजली होती है?

हेयर रिमूवल स्प्रे में मौजूद सोडियम थियोग्लाइकोलेट या थियोग्लाइकोलिक एसिड स्किन के लिए अच्छा नहीं होता. इससे स्किन पर खुजली या दाद हो सकता है. स्किन लाल हो जाती है, निकलने लगती है. यहां तक कि छाले भी पड़ सकते हैं. फिलहाल जो प्रोडक्ट मार्केट में मिल रहा है उसमें काफी सारे बदलाव किए गए हैं. अब हेयर रिमूवल स्प्रे में स्किन को राहत पहुंचाने के लिए एलोवेरा और मॉइस्चराइज़र मिलाए जा रहे हैं. हेयर रिमूवल स्प्रे को कभी-कभी इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन इसे लगातार इस्तेमाल करने से स्किन रिएक्शन हो सकता है. इसलिए हेयर रिमूवल स्प्रे के लगातार इस्तेमाल से बचें.

हेयर रिमूवल स्प्रे लेते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

हेयर रिमूवल स्प्रे खरीदते समय ये जरूर चेक करें कि इसमें कौन से केमिकल्स मौजूद हैं. क्या स्प्रे में सिर्फ थियोग्लाइकोलिक एसिड ही है या फिर इसमें स्किन को राहत देने वाले और सूरज से बचाने वाली चीजें भी शामिल हैं. क्योंकि हेयर रिमूवल स्प्रे में बाल हटाने के लिए थियोग्लाइकोलिक एसिड तो होगा ही. और थियोग्लाइकोलिक एसिड स्किन के लिए अच्छा नहीं होता. लेकिन अगर स्प्रे के अंदर स्किन को बचाने वाली चीजें भी होंगी तो थियोग्लाइकोलिक एसिड का स्किन पर असर कम हो जाएगा.

किन लोगों को हेयर स्प्रे इस्तेमाल नहीं करना चाहिए?

अगर स्किन पर पहले से ही कोई रिएक्शन हो, तो हेयर रिमूवल स्प्रे इस्तेमाल न करें. फॉलिक्यूलाइटिस (Folliculitis)  या किसी तरह की स्किन एलर्जी है, तो हेयर रिमूवल स्प्रे से दूर रहें. क्योंकि पहले से मौजूद स्किन इन्फेक्शन पर हेयर रिमूवल स्प्रे लगाने से खाल पर जलन होगी, रूखी हो जाएगी.

स्प्रे के अलावा बाल हटाने के कौन से सेफ तरीके हैं?

बाल हटाने के कई सारे तरीके होते हैं. जैसे कि थ्रेडिंग, वैक्सिंग, शेविंग, ब्लीचिंग, हेयर रिमूवल स्प्रे और लेज़र. इनमें सबसे ज्यादा सेफ और असरदार है लेज़र हेयर रिमूवल. इसके लिए डर्मेटोलॉजिस्ट के पास जाकर ट्रिपल लेयर लेज़र से हमेशा के लिए बालों को हटाया जा सकता है. करीब 7 से 10 सेशन में बाल हमेशा के लिए हट जाते हैं. ये बाल हटाने का बहुत सेफ तरीका है. क्योंकि ये काम डॉक्टर की देख-रेख में होता है इसलिए किसी तरह की एलर्जी या इन्फेक्शन की संभावना नहीं होती. लेकिन अगर लेज़र हेयर रिमूवल का ऑप्शन नहीं है तो बाल हटाने का दूसरा सुरक्षित तरीका है शेविंग. बाल शेव करने से पहले स्किन को अच्छे से मॉइश्चराइज़ करें. इसके बाद स्किन पर थोड़े से झाग बनाएं और फिर शेव करें. इस तरह स्किन को कोई नुकसान नहीं होगा और बाल सुरक्षित तरीके से हट जाते हैं. बाल हटाने के बाद स्किन पर विटामिन E या एलोवेरा वाला मॉइश्चराइजर लगाएं.

(यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछें. ‘दी लल्लनटॉप ’आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

thumbnail

Advertisement