The Lallantop
Advertisement

दी लल्लनटॉप शो: बेंगलुरू की फ्लाइट, 2 नेता...Himachal में Rahul Gandhi के उस आदमी ने कैसे सरकार बचा ली?

राज्यसभा चुनाव में मुकाबला टाई हो जाता है तो दोनों कैंडिडेट के नाम की पर्ची डाली जाती है.

Advertisement
28 फ़रवरी 2024
Updated: 28 फ़रवरी 2024 22:55 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

हिमाचल प्रदेश में सरकार संकट में है. या यूं कहें कि मुख्यमंत्री सुक्खू की कुर्सी संकट में है. ये सारी कहानी शुरू हुई थी 27 फरवरी को राज्यसभा सीट पर हुए चुनाव में कांग्रेस की हार से. कांग्रेस कैंडिडेट अभिषेक मनु सिंघवी और बीजेपी कैंडिडेट हर्ष महाजन के बीच 34-34 मतों से मुकाबला टाई हो गया था.  इसके बाद पर्ची सिस्टम से हर्ष महाजन की जीत हो गई. जब राज्यसभा चुनाव में मुकाबला टाई हो जाता है तो दोनों कैंडिडेट के नाम की पर्ची डाली जाती है. जिसके नाम की पर्ची निकलती है, वो चुनाव हार जाता है. न प्रबंधन कांग्रेस के पक्ष में था, न ही भाग्य.

thumbnail

Advertisement