The Lallantop
Advertisement

लोहिया, जो कहा करते थे- भारतीय औरत का आदर्श सावित्री नहीं, द्रौपदी होनी चाहिए

इस शख्स ने जिसके कंधे पर हाथ रखा, वो देश का बड़ा नेता बन गया

Advertisement
Img The Lallantop
font-size
Small
Medium
Large
12 अक्तूबर 2020 (Updated: 12 अक्तूबर 2020, 06:19 IST)
Updated: 12 अक्तूबर 2020 06:19 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

23 मार्च को भगत सिंह शहीद हुए थे और इसी तारीख को राम मनोहर लोहिया का जन्म हुआ था. पर उन्होंने कभी अपना जन्मदिन नहीं मनाया. क्योंकि उनके हिसाब से ये शहीदी दिवस था. आज यानी 12 अक्टूबर को लोहिया की बरसी होती है. भारत की समाजवादी राजनीति में राम मनोहर लोहिया को आखिरी चिंतक माना जा सकता है. उनके विचार हमेशा ही भारतीय राजनीति में अलग रहे थे.

वो जेपी की तरह राजनीति से अलग नहीं रहे थे. वो आजादी के बाद कांग्रेस की सरकार को हराने का 7 वर्षीय प्लान भी बना चुके थे. हालांकि, प्लान सफल नहीं हो पाया. उन्होंने नेहरू की नीतियों के खिलाफ जंग छेड़ी, और इतने कद्दावर नेता के खिलाफ उन्हीं की लोकसभा सीट फूलपुर से चुनाव भी लड़ा. इरादा था कि नेहरू की गलतियां सबके सामने लाई जाएं.

लोहिया के समाजवाद पर चढ़कर बहुत सारे नेता निकले थे. चौधरी चरण सिंह, मुलायम सिंह और बिहार के लालू यादव, नीतीश कुमार सब लोग इनके ही गुण गाते थे. कहा जाता था कि लोहिया जिसके कंधे पर हाथ रख देते, वो नेता बन जाता था.

आइए पढ़ते हैं राम मनोहर लोहिया के कुछ बयान :

1.

राम मनोहर लोहिया 1

2.

राम मनोहर लोहिया 2

3.

राम मनोहर लोहिया 4

4.

राम मनोहर लोहिया 3

5.

राम मनोहर लोहिया 6

6.

राम मनोहर लोहिया 5

7.

राम मनोहर लोहिया 7

8.

राम मनोहर लोहिया 8

9.

राम मनोहर लोहिया 9


ये स्टोरी दी लल्लनटॉप के साथी रहे ऋषभ ने की है.


ये भी पढ़ें:

इस क्रांतिकारी को भगत सिंह के साथ फांसी नहीं हुई तो हमने भुला दिया

CM आदित्यनाथ वही कर रहे हैं जो दादरी में राजनाथ ने किया था

पुलिस में सुधार चाहते हैं योगी, तो मुल्ला की बात मान लें

thumbnail

Advertisement

Advertisement