The Lallantop
Advertisement

तारीख: अगर जापान सरेंडर न करता तो क्या होता? हिरोशिमा नागासाकी के अलावा एक तीसरा परमाणु बम भी था

21 अगस्त 1945 की तारीख. तीसरे परमाणु बम 'रूफस' पर पहले परिक्षण की शुरुआत हुई. इस दौरान कुछ ऐसा हुआ जिसे वैज्ञानिक भूल नहीं पाए.

Advertisement
font-size
Small
Medium
Large
21 फ़रवरी 2024 (Updated: 21 फ़रवरी 2024, 10:13 IST)
Updated: 21 फ़रवरी 2024 10:13 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

6 अगस्त 1945 के रोज हिरोशिमा (Hiroshima) में जो परमाणु बम गिराया गया , उसका नाम था- लिटिल बॉय. इसके बाद 9 अगस्त को नागसाकी (Nagasaki) में ‘फैट मैन’ नाम का बम गिराया गया. पहले दो बमों की तरह तीसरे बम को भी एक नाम दिया गया था- रूफस. रूफस को पहले जापान भेजा जाना था. लेकिन उससे पहले ही युद्ध खत्म हो गया. इसलिए उसे न्यू मेक्सिको के लॉस एलमॉस रिर्सच सेंटर भेज दिया गया. वही जगह, जहां पहले परमाणु बम की टेस्टिंग हुई थी. लॉस एलमॉस में रूफस को स्टोर किया गया था ताकि उस पर परीक्षण किए जा सकें. इस तीसरे परमाणु बम का क्या हुआ? जानने के लिए वीडियो देखें.

thumbnail

Advertisement