The Lallantop
Advertisement

पुलिस बैरिकेडिंग तोड़कर किसान प्रदर्शन कर रहे हैं? वायरल वीडियो का सच ये है

सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो में ट्रैक्टर पर बैठे प्रदर्शनकारी पुलिस की बैरिकेडिंग हटाते नज़र आ रहे हैं. यूजर्स इसे हालिया किसान प्रदर्शन से जोड़कर शेयर कर रहे हैं.

Advertisement
protestors removing police barricade video unrelated with current farmers protest
किसानों के प्रदर्शन से जोड़कर पुलिस की बैरकेडिंग तोड़ने का वीडियो वायरल.(तस्वीर:सोशल मीडिया)
13 फ़रवरी 2024
Updated: 13 फ़रवरी 2024 18:45 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share
दावा:

देश के किसान अपनी मांगों को लेकर एक बार फिर से विरोध प्रदर्शन पर बैठे हैं. पंजाब-हरियाणा समेत कई राज्यों के किसान दिल्ली कूच कर चुके हैं. सरकार ने किसानों को दिल्ली प्रवेश करने से रोकने के लिए सड़कों पर कीलें बिछाने के अलावा जगह-जगह पर बैरिकेडिंग लगा दिए हैं. इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल है जिसमें ट्रैक्टर पर बैठे प्रदर्शनकारी बैरिकेडिंग हटाते नज़र आ रहे हैं. वीडियो में प्रदर्शनकारियों के अलावा बड़ी संख्या में पुलिस के लोग भी मौजूद हैं. लोग इसको हालिया किसान प्रदर्शन से जोड़कर शेयर कर रहे हैं.

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘एक्स’ पर एक यूजर ने वायरल वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “यह बैरिकेड्स किसानों का रास्ता नहीं रोक सकते! बेरिकेड्स तोड़ते हुए किसान लगातार दिल्ली की ओर बढ़ रहे हैं.”

इसके अलावा वीडियो को कई अन्य यूजर्स ने भी किसानों के हालिया प्रदर्शन का बताते हुए शेयर किया है.

पड़ताल

क्या है ट्रैक्टर से पुलिस की बैरिकेंडिग हटाते प्रदर्शनकारियों के वीडियो का सच? इसे जानने के लिए हमने INVID टूल की मदद ली. वायरल वीडियो के एक कीफ्रेम को रिवर्स सर्च करने पर हमें हतिंद्र सिंह नाम के एक यूजर का 3 फरवरी को किया गया ट्वीट मिला. इसमें वायरल वीडियो से मिलते-जुलते सीन नज़र आ रहे हैं. वीडियो के साथ लिखे कैप्शन में बताया गया है कि पंजाब के लोग पुलिस बैरिकेड तोड़कर विरोध स्थल के सामने पहुंच गए. इसमें बताया गया है कि यह विरोध मुख्यमंत्री भगवंत मान के खिलाफ उनके घर के बाहर हो रहा था. जिसे भाना सिद्धू के समर्थन में निकाला गया था.

इससे मदद लेते हुए हमने YouTube पर भाना सिद्धू (Bhaana Sidhu) से जुड़े कुछ कीवर्ड सर्च किए. हमें ‘Gemm TV’ के यूट्यूब चैनल पर 3 फरवरी, 2024 को अपलोड किया गया एक वीडियो मिला. इसमें वायरल हो रहे वीडियो का हिस्सा देखा जा सकता है. वीडियो पंजाब के संगरूर के पास का बताया गया है जहां भाना सिद्धू और लाखा सिधाना के समर्थकों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किए. इससे यह तो साफ है कि वीडियो लगभग 10 दिन से अधिक पुराना है. जबकि हालिया किसान आंदोलन की तैयारी 10-11 फरवरी से शुरू की गई थी.

GEMM TV के वीडियो का स्क्रीनश़ॉट.

इसके अलावा हमने इंडिया टुडे से जुड़े संगरूर के स्थानीय पत्रकार बलवंत को भी वायरल वीडियो भेजा. उन्होंने वीडियो देखकर बताया कि यह 3 फरवरी को हुए प्रदर्शन का है. बलवंत ने कहा,

 “यह वीडियो पंजाब के संगरूर का है जहां 3 फरवरी को भाना सिद्धू के पक्ष में प्रदर्शन हुए थे. वीडियो में नज़र आ रहे लोग भाना के समर्थक हैं जो मुख्यमंत्री के घर का घेराव करने के लिए जा रहे थे. पंजाब में कहीं भी बैरिकेडिंग को तोड़ा नहीं गया है.”

इंडियन एक्सप्रेस की 5 फरवरी को छपी रिपोर्ट के मुताबिक, भाना सिद्धू को जेल से छुड़ाने के लिए विरोध प्रदर्शन किया गया था. इस दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प भी हुई थी. रिपोर्ट के अनुसार, भाना सिद्धू के सोशल मीडिया पर लाखों फॉलोअर्स हैं और पंजाब के युवाओं के बीच वो काफी लोकप्रिय हैं. दैनिक भास्कर में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब पुलिस ने 20 जनवरी को ट्रैवेल एजेंट से ब्लैकमेलिंग के आरोप में भाना सिद्धू को गिरफ्तार कर लिया था. 

भाना को 26 जनवरी को जमानत मिलने वाली थी लेकिन उसके खिलाफ पटियाला में एक और मामला दर्ज कर उसे दोबारा गिरफ्तार कर लिया गया. इसके बाद विपक्ष के कई नेताओं और उनके समर्थकों ने भाना सिद्धू को छुड़वाने के लिए आम आदमी पार्टी के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भाना सिद्धू को कोर्ट ने 12 फरवरी को जमानत दे दी है.

निष्कर्ष

कुल मिलाकर, ट्रैक्टर से बैरिकेडिंग तोड़ रहे प्रदर्शनकारियों का वीडियो हालिया शुरू हुए किसान आंदोलन से पहले का है. यह पंजाब के सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर भाना सिद्धू के समर्थन में सीएम भगवंत मान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का है. 

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.

वीडियो: पड़ताल: राजस्थान डिप्टी CM दिया कुमारी ने की तलवारबाज़ी?

thumbnail

Advertisement