The Lallantop
Advertisement

'इंडियन' के किस्से: जब 'गदर' के बाद सनी देओल की अगली फिल्म आई और उसके सामने शाहरुख की फिल्म उड़ गई

'गदर' देशभक्ति वाले सेंटीमेंट को आसमान में ले गई, जो कमी बची थी वो 'इंडियन' ने पूरी कर दी.

Advertisement
sunny deol movie indian anecdotes aishwarya rai gadar
सनी देओल ने 1997 में 'इंडियन' बनने की कोशिश की थी लेकिन किसी कारण से फिल्म को बंद करना पड़ा. फोटो - ट्विटर/Cinestaan
font-size
Small
Medium
Large
14 जून 2023 (Updated: 14 जून 2023, 14:24 IST)
Updated: 14 जून 2023 14:24 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

तारीख थी 15 जून, 2001. एक फिल्म सिनेमाघरों में लगने वाली थी. देश की दो फेवरेट चीज़ें उसमें थीं – क्रिकेट और आमिर खान. फिल्म का नाम था ‘लगान’. कई महीनों तक फिल्म की टीम ने गुजरात की गर्मी में शूटिंग की थी. हर पहलू तराशने में कसर नहीं छोड़ी थी. फिल्म रिलीज़ हुई. उम्मीद के विपरीत सिनेमाघर भर नहीं रहे थे. कई जगह ऐसा हुआ कि लोग ‘लगान’ की जगह उसी दिन रिलीज़ हुई दूसरी फिल्म चुन रहे थे. ‘लगान’ आज़ादी से पहले की कहानी बता रही थी. और ये दूसरी फिल्म आज़ादी के बाद की. तारा सिंह नाम का ट्रक ड्राइवर पाकिस्तान पहुंच गया. वहां जाकर दहाड़ा. हैंडपम्प उखाड़ लाया. ‘गदर’ का ये देशभक्ति सर्वोपरि वाला सेंटीमेंट काम कर गया. 

फिल्म ब्लॉकबस्टर बन गई. सनी देओल को सात फ्लॉप फिल्मों के बाद बड़ी हिट मिली थी. ‘गदर’ ने सिर्फ उसके बनाने वालों का ही भला नहीं किया. उसने मुख्यधारा में बन रहे हिंदी सिनेमा में नए ट्रेंड की शुरुआत भी की. अब सबको देशभक्ति वाली फिल्में बनानी थीं. सनी देओल ने जब ‘बॉर्डर’ की थी, तभी मीडिया वाले उनसे सवाल करते कि आप देशभक्ति वाले सेंटीमेंट को भुनाने की कोशिश कर रहे हैं क्या. सनी बस इतना कहते कि हम इंडियन हैं और हमें इस बात पर गर्व होना चाहिए. ‘गदर’ ने उन फालतू जोक्स की भी शुरुआत की, जहां बात होती है कि जितने खर्च में इंडिया में बाल कटते हैं, उतनी वहां की अर्थव्यवस्था है. फलां-फलां छाती ठोकने वाली बातें. 

gadar
‘गदर’ के बाद सब जानना चाहते थे कि सनी देओल अब क्या करने वाले हैं. 

अधिकांश जनता को इस बात से आपत्ति नहीं थी. वो बस ये देखना चाहते थे कि ‘गदर’ के बाद सनी देओल क्या करेंगे. उनकी अगली फिल्म भी उतनी ही लाउड होगी या नहीं. मीडिया वाले लिख रहे थे कि सनी ‘गदर’ के बाद वाली फिल्म पर पूरा ज़ोर लगा रहे हैं. हॉलीवुड से स्टंटमैन बुला रहे हैं. उनकी ये अगली फिल्म आई ‘गदर’ के करीब चार महीने बाद. एक और देशभक्ति पर केंद्रित फिल्म. नाम था ‘इंडियन’. यहां वो DCP राजशेखर आज़ाद बने थे. मीडिया इंटरव्यूज़ में सनी ने बताया कि उनका किरदार चंद्रशेखर आज़ाद पर आधारित था. फिल्म के क्लाइमैक्स में भी वो आज़ाद के गेटअप में नज़र आते हैं. खैर ‘गदर’ की तरह ये फिल्म भी चल निकली. ‘इंडियन’ को बनाया था एन महाराजन ने. बेसिकली उन्होंने अपनी तमिल फिल्म ‘वल्लारासू’ को ही हिंदी में ‘इंडियन’ के टाइटल से बनाया. ये वो दौर नहीं था, जब लोग रीमेक का नाम सुनकर खीज खाएं. 

‘इंडियन’ ने बाजे फाड़ दिए. साल 2001 की सबसे ज़्यादा कमाई करने वाली हिंदी फिल्मों में चौथे नंबर पर रही. उसके ऊपर ‘कभी खुशी कभी गम’, ‘गदर’ और ‘लगान’ जैसे नाम थे. ‘इंडियन’ बनकर 2001 में रिलीज़ हुई लेकिन उसकी नींव चार साल पहले ही पड़ चुकी थी. एक पूरी तरह अलग फिल्म के रूप में. जहां सनी देओल डबल रोल में दिखने वाले थे. ‘इंडियन’ से जुड़े कुछ ऐसे ही सुने, अनसुने और कमसुने किस्से आपको बताएंगे. 

# जब कमल हासन को ‘इंडियन’ से ‘हिंदुस्तानी’ होना पड़ा 

09 मई, 1996 को शंकर की फिल्म ‘इंडियन’ आई थी. कमल हासन ने यहां डबल रोल किया. इस तमिल फिल्म ने हर तरफ तहलका मचा दिया. सिनेमाघरों में छप्परफाड़ कमाई की. इंडिया की तरफ से फिल्म को ऑस्कर अवॉर्ड की ऑफिशियल एंट्री बनाकर भेजा गया. पैन इंडिया शब्द जब मेनस्ट्रीम नहीं हुआ था, उस दौर में कमल हासन को आइडिया आया. उन्होंने सोचा कि ऐसी फिल्म को हिंदी भाषी ऑडियंस के बीच मज़बूत मार्केट ज़रूर मिलेगा. वो इसे हिंदी में डब करके रिलीज़ करना चाहते थे. 

kamal haasan
कमल हासन की फिल्म ‘इंडियन’ जिसे हिंदी में ‘हिंदुस्तानी’ के टाइटल से रिलीज़ किया गया. 

फिल्म का टाइटल बदले बिना उसे रिलीज़ करने का प्लान था. लेकिन एक समस्या हो गई. हिंदी फिल्म के लिए ‘इंडियन’ नाम का टाइटल उपलब्ध नहीं था. उसे किसी और ने रजिस्टर करवा रखा था. पता लगाया तो खबर मिली कि ये टाइटल सनी देओल के पास है. उन्होंने सनी से संपर्क किया. पूरा मामला बताया. कि हम अपनी फिल्म उतारना चाहते हैं. सनी ने बात सुनी लेकिन उसी वक्त मना कर दिया. वो ‘इंडियन’ टाइटल छोड़ने को तैयार नहीं थे. सनी ने बताया कि वो इस नाम से एक बड़ी फिल्म बनाने जा रहे हैं. कमल हासन ने मनाने की कोशिश की मगर बात नहीं बनी. 

अंत में आकर ‘इंडियन’ को हिंदी में ‘हिंदुस्तानी’ के नाम से रिलीज़ किया गया. सनी देओल और कमल हासन का कनेक्शन सिर्फ ‘इंडियन’ तक ही नहीं था. बताया जाता है कि ‘घायल’ और ‘घातक’ जैसी फिल्में कमल हासन को ध्यान में रखकर लिखी गई थीं. आगे किसी वजह से बात नहीं बनी और ये फिल्में सनी देओल के हिस्से आईं. 

# ऐश्वर्या राय की करोड़ी फिल्म, जो कभी बनी ही नहीं 

साल 1997 की बात है. मुंबई शहर में एक फिल्म का मुहूरत था. फिल्म इंडस्ट्री से बड़ी हस्तियां शिरकत देने पहुंचीं. शत्रुघ्न सिन्हा वहां दिखे. धर्मेंद्र ने फिल्म के मुहूरत शॉट की पहली क्लैप दी. इवेंट में शत्रुघ्न सिन्हा का वॉइसओवर सुनाई दिया. जहां वो कहते हैं कि देश की व्यवस्था चरमरा रही है. ऐसे में उसे बचाने की ज़रूरत है. इवेंट में आए लोगों को इंडिया का मैप दिखा, जो बेड़ियों से बंधा था. इतने में एंट्री होती है सनी देओल की. सिर पर पगड़ी बांधे. ऐसा ही लुक उन्होंने आगे ‘गदर’ में भी अपनाया था. 

चंद मोमेंट्स बाद एक नई लड़की नज़र आती है. उसकी नारंगी साड़ी तेज रोशनी में चमचमा रही थी. उस लड़की के पीछे बच्चों का झुंड था, जो अपने हाथ में इंडिया के झंडे लिए चल रहे थे. ये लड़की मणि रत्नम की फिल्म ‘इरुवर’ से सिनेमा में कदम रख चुकी थी. उससे मुहूरत पर मीडिया वालों ने पूछा कि ये आपकी पहली हिंदी फिल्म होने वाली है. उसने ना में जवाब देते हुए कहा कि ‘और प्यार हो गया’ जल्द ही रिलीज़ होने वाली है. उस लिहाज़ से ये उनकी दूसरी हिंदी फिल्म होने वाली थी. लेकिन ये कभी उनकी दूसरी हिंदी फिल्म नहीं बन पाई. क्योंकि ये फिल्म कभी पूरी ही नहीं हुई. 

indian movie sunny deol
‘इंडियन’ के मुहूरत में सनी जिस लुक में नज़र आए वो बाद में ‘गदर’ में इस्तेमाल हुआ. 

ऐश्वर्या राय नाम की उस लड़की ने आगे चलकर अपनी अलग जगह बनाई. रही बात मुहूरत वाली फिल्म की, तो उसे ‘इंडियन’ के नाम से लॉन्च किया गया था. पदम कुमार इस फिल्म को बना रहे थे. फिल्म पर पैसा लगा था पहलाज निहलानी का. लीड में सनी देओल और ऐश्वर्या राय थे. बताया गया कि ‘इंडियन’ नाम की इस फिल्म में सनी डबल रोल करेंगे. एक होगा पुलिसवाले का और दूसरा आतंकवादी का. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो फिल्म की शूटिंग शुरू हो गई थी. फिल्म पर करीब 4.6 करोड़ रुपया भी खर्च हो चुका था. मेकर्स ने सनी और ऐश्वर्या को लेकर एक बड़े स्केल का गाना भी शूट किया था, जिसमें 1.75 करोड़ रुपए झोंक दिए गए थे. 

‘इंडियन’ नाम की इस फिल्म के बारे में सिर्फ इतना ही पढ़ने और सुनने को मिलता है. फिल्म के मुहूरत वाले इवेंट के कई दिन बाद खबर आती है कि फिल्म डिब्बाबंद हो गई. किसी ने कोई कारण नहीं बताया. हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक फिल्म का बजट लगातार आसमान छूता जा रहा था. पैसा लगाने वाले बर्दाश्त करने को राज़ी नहीं थे. पहले तय हुए नंबर से मामला काफी ऊपर चला गया. उसके चलते उन्होंने अपने हाथ वापस खींच लिए. फिल्म पर करोड़ों रुपया लगने के बाद उसे अंत में बंद कर दिया गया. 

sunny deol
बताया जाता है कि ‘इंडियन’ की शूटिंग शुरू हो गई थी. बस फिल्म कभी पूरी नहीं हुई. 

सनी देओल ने कुछ साल बाद ‘इंडियन’ नाम से एक और फिल्म शुरू की. लेकिन यहां ऐश्वर्या की जगह शिल्पा शेट्टी थीं. कहानी भी पूरी तरह बदल चुकी थी. सनी ने कई साल बाद एक इंटरव्यू दिया. अपने नब्बे के दशक के सिनेमाई करियर पर बात की. वहां बताया कि श्रीदेवी और ऐश्वर्या राय जैसी एक्ट्रेस उनके साथ काम नहीं करना चाहती थीं. सनी के मुताबिक वो एक फिल्म लेकर ऐश्वर्या के पास गए थे. लेकिन ऐश्वर्या ने मना कर दिया. उन्होंने कहा कि ऐश्वर्या को लगता है सनी की फिल्में सिर्फ पुरुष प्रधान होती हैं. इसलिए उन्होंने उनके साथ काम नहीं किया. इस इंटरव्यू के बाद मीडिया में खबरें उछली. कि ऐश्वर्या और सनी के बीच खटपट के चलते ‘इंडियन’ बंद हो गई. लेकिन बनाने वालों ने कभी ऐसी बातों की पुष्टि नहीं की.    

# जब देशभक्ति ने इतिहास को हरा दिया 

‘इंडियन’ की रिलीज़ से पहले रेडिफ ने सनी देओल से बात की थी. पूछा कि आपकी आनेवाली फिल्म ‘इंडियन’ के साथ शाहरुख खान की फिल्म क्लैश करने वाली है. क्या आपको इस बात की चिंता नहीं. सनी के करियर में ये पहला क्लैश नहीं था. पिछली बार उनकी फिल्म आमिर खान की फिल्म से भिड़ी थी और नतीजा ब्लॉकबस्टर था. सनी ने जवाब दिया कि उन्हें कोई स्ट्रेस नहीं. जिनको शाहरुख की फिल्म देखनी है, वो उनकी फिल्म देखेंगे. मेरी फिल्म देखने वाले ‘इंडियन’ देखेंगे. लोग हम दोनों की ही फिल्में देखेंगे. 

asoka shahrukh
शाहरुख की फिल्म ‘अशोका’ भी ‘इंडियन’ के साथ रिलीज़ हुई थी. 

सनी की बात सही साबित नहीं हुई. क्योंकि जब ‘इंडियन’ के साथ शाहरुख की ‘अशोका’ रिलीज़ हुई तो बिल्कुल भी नहीं चली. लोगों ने ‘अशोका’ नहीं देखी. सम्राट अशोक पर आधारित इस फिल्म को बनाने में करीब 12.5 करोड़ रुपए खर्च हुए. बॉलीवुड हंगामा की रिपोर्ट के मुताबिक ‘अशोका’ इंडिया में सिर्फ 11.54 करोड़ रुपए ही कमा पाई. एक तरह से देशभक्ति की कहानी ने इतिहास को हरा दिया था. 

‘इंडियन’ सनी देओल के करियर में खास जगह रखती है. ये ‘घायल’, ‘घातक’ के दर्जे की नहीं लेकिन बॉक्स ऑफिस पर फिल्म ने जमकर तूफान मचाया. लोगों को आज तक याद है. उसी को भुनाने के चक्कर में साल 2018 में ‘इंडियन’ का सीक्वल भी अनाउंस किया गया था. बताया गया कि लीड में सनी देओल होंगे और ओरिजनल फिल्म के डायरेक्टर एन महाराजन ही डायरेक्ट करेंगे. हालांकि इस अपडेट के बाद फिल्म पर कोई खबर नहीं आई. अब इसके बन पाने के चांस भी लगभग ना के बराबर हैं. 

वीडियो: सनी देओल की 'गदर' अमृतसर में शूट हो रही थी, भीड़ में मौजूद सरदार रोने लगे.

thumbnail

Advertisement