The Lallantop
Advertisement

अगर पूजा-पाठ का सच जानना है, तो भारत के इस प्रेसिडेंट की बात जरूर पढ़ें

सर्वपल्ली राधाकृष्णन के 10 कोट्स.

Advertisement
Img The Lallantop
font-size
Small
Medium
Large
5 सितंबर 2018 (Updated: 4 सितंबर 2018, 05:11 IST)
Updated: 4 सितंबर 2018 05:11 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share
भारतरत्न सर्वपल्ली डॉ. राधाकृष्णन. उम्दा फिलॉसफर और महान शिक्षक.  जिनके जन्मदिन को हम 'टीचर्स डे' के तौर पर मनाते हैं. इनका दर्शन अद्वैत वेदांत पर आधारित है. अद्वैत वेदांत में आत्मन यानी अपने अंदर के सत्य को सबसे ऊपर माना जाता है. 05 सितंबर को इनका जन्मदिन होता है, जिसे शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है. राधाकृष्णन दार्शनिक होने के साथ-साथ कूटनीति की भी बारीक समझ रखते थे. 1957 की बात है. राधाकृष्णन तब भारत के उपराष्ट्रपति थे. वो चीन के दौरे पर गए थे. उस वक्त माओ चीन के बड़े नेता थे. माओ ने राधाकृष्णन अपने घर पर खाने पर बुलाया था. राधाकृष्णन जब वहां पहुंचे तो माओ उनकी अगवानी के लिए आए. दोनों नेताओं ने हाथ मिलाया. इसके बाद राधाकृष्णन ने माओ के गाल थपथपा दिए. माओ कुछ बोलने ही वाले थे कि राधाकृष्णन ने ऐसी बात कह दी कि शायद वो चाहकर भी कुछ नहीं बोल पाए. उन्होंने माओ से कहा, 'प्रेसिडेंट साहब, आप परेशान मत होइए. मैंने यही स्टालिन और पोप के साथ भी किया है.' ये एक उदाहरण ही काफी है उनके डिप्लोमैटिक अंदाज को समझने के लिए. अब यहां पढ़िए उनके कुछ विचार, जो हर उम्र, वर्ग के लोगों के लिए जरूरी है: #1RK 1#2RK 2#3RK 5#4RK 3#5RK 7#6RK4#7RK6#8RK9#9RK8#10RK10
ये भी पढ़ें:

104 सैटेलाइट भेज इसरो ने नाम ऊंचा किया, गर्व करना है तो इनकी कहानी पर करो

राजेंद्र प्रसाद को इस मजेदार सी बात का सबसे ज्यादा मलाल रहता था

नेता, जिसने प्रधानमंत्री बनने से इनकार कर दिया

भारत में ओबामा जैसा कूल लीडर सिर्फ एक है, और वो मोदी नहीं केजरीवाल है

गोलमाल फिल्म का वो एक्टर, जो नक्सल समर्थक था!


वीडियो देखें: महामहिम- सर्वपल्ली राधाकृष्णन

thumbnail

Advertisement