The Lallantop
Advertisement

यश नहीं ये 4 लोग थे, जिन्होंने 'KGF 2' को ऐसी ग्रैंड सफलता दिलाई

Yash starrer KGF 2 is breaking old ones and creating new records at the box office. You might be a huge fan of Rocky Bhai, but how well do you know about those who made Yash into Rocky Bhai.

Advertisement
prashanth neel-ujjwal-kulkarni-bhuvan-gowda-kgf-2-ravi-basrur
यश को रॉकी भाई बनाने वालों के बारे में कितना जानते हैं आप.
font-size
Small
Medium
Large
25 अप्रैल 2022 (Updated: 26 अप्रैल 2022, 14:54 IST)
Updated: 26 अप्रैल 2022 14:54 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

KGF 2. सिर्फ एक फिल्म नहीं, रेज बन चुकी है. रॉकी भाई का स्वैग काम कर गया. कर तो तीन साल पहले ही गया था, जब KGF 1 के बाद से लड़कों ने बाल और दाढ़ी काटने वालों से दूरी बनानी शुरू कर दी थी. ‘KGF’ से पहले यश कन्नडा फिल्म इंडस्ट्री में खासे पॉपुलर थे, उन्हें फैन्स ‘रॉकिंग स्टार’ का टाइटल दे चुके थे. फिल्म आई और फिर वक्त था हिंदी बेल्ट वाली जनता के बौरा जाने का. यश के रॉकी भाई की चाल भले ही वसूली भाई से 19-20 हो, लेकिन उनका स्वैग अक्खे इंडिया को भा गया.

KGF यूनिवर्स में कैमरा के सामने जो घटता है, वो सबको पता है. फिर चाहे वो रॉकी का गुंडे के हाथ से अपनी ज़ुल्फ़ें संवारना हो, या फिर धूल धूसरित होकर गुर्गों को हवाई दर्शन करवाने हों, सब पर इतनी सीटियां बजी कि कान झन्नाने लगे. ये था कैमरे के आगे चलने वाला ‘मैजिक’, लेकिन इसकी छड़ी घुमा रहे थे कैमरे के पीछे मौजूद कुछ लोग. कौन हैं ये लोग, जिन्होंने यश को रॉकी भाई बनाया? आइए जानते हैं.

#1. प्रशांत नील (राइटर-डायरेक्टर)

70 और 80 का दशक. वो दौर जब सिनेमा का हीरो खुद से बड़ा दिखता था और यहां हम अमिताभ बच्चन की हाइट की बात नहीं कर रहे. ये वो समय था, जब एक अकेला हीरो कईयों को कूट डालता था और उसके बाद हाथ झाड़कर दिखाता कि ये तो आम बात थी. कर्नाटक में एक बच्चा इसी दौर की फिल्में देखकर बड़ा हो रहा था. बड़े होने पर फिल्मों में आने का कोई प्लान नहीं था. लेकिन फिर पैसा कमाने के लिए फिल्मों में आ गया. प्रशांत नील नाम के इस लड़के ने अपनी पहली फिल्म लिखी और बनाई. ये फिल्म थी 2014 में आई ‘उग्रम’.

उग्रम के सेट पर प्रशांत नील.  


फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर वैसा रिस्पॉन्स नहीं मिला, जैसा कोई भी फर्स्ट टाइम फिल्ममेकर चाहता है. बॉक्स ऑफिस पर मामला भले ही कमजोर पड़ गया लेकिन फिल्म ने प्रशांत को भरोसा दिला दिया कि इस इंडस्ट्री में उनकी भी जगह होगी. प्रशांत ने अपनी अगली कन्नडा फिल्म पर काम करना शुरू कर दिया. फिल्म की रिलीज़ से ठीक छह महीने पहले एक फैसला लिया गया कि इस कन्नडा फिल्म को पूरे देश को दिखाया जाए. ये फिल्म थी ‘KGF चैप्टर 1’. प्रशांत जिन हीरोज़ को देखकर बड़े हुए थे, ठीक वैसा ही उन्होंने अपनी फिल्म में उतार दिया. जब प्रशांत से KGF के एंटी ग्रैविटी वाले पक्ष पर पूछा जाता है तो वो कहते हैं कि ये फिल्म का एक पहलू है. ‘द हिन्दू’ को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि उनकी कहानी में एक मज़बूत इमोशनल कनेक्ट है, यही वजह है कि लोग रॉकी को अपना पाए.

#2. भुवन गौड़ा (सिनेमैटोग्राफर)

भुवन और प्रशांत के साथ आने की स्टोरी बड़ी फिल्मी थी. प्रशांत अपनी पहली फिल्म ‘उग्रम’ बना रहे थे. भुवन उस फिल्म के क्रू में बतौर स्टिल फोटोग्राफर काम कर रहे थे. किसी वजह से फिल्म के सिनेमैटोग्राफर ने बीच शूटिंग ही फिल्म छोड़ दी. उनका रिप्लेसमेंट चाहिए था, वो भी तुरंत प्रभाव से. प्रशांत ने भुवन को ज़िम्मेदारी सौंप दी. भुवन ने इससे पहले कभी किसी फिल्म पर सिनेमैटोग्राफी नहीं संभाली थी. न्यू इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि उनके पास भले ही एक्सपीरियेंस नहीं था, फिर भी प्रशांत ने उन पर भरोसा दिखाया. भुवन ने फिल्म पूरी की. जिसका रिज़ल्ट देखकर प्रशांत खुश थे.


इसलिए जब KGF बनाने का फैसला लिया तो सिनेमैटोग्राफर का नाम तय था. KGF के विज़ुअल और उसकी फ़ील फिल्म के बड़े हाइलाइटिंग पॉइंट में से थे. फिल्म की टोन को डार्क रखा जाना था, जिसके लिए भुवन ने आउटडोर शूट में आर्टीफिशियल लाइटिंग का इस्तेमाल नहीं किया. लाइट पूरी तरह नैचुरल सोर्स से लेने का फैसला लिया. जैसे एक सीन में झोपड़ियां बनाई गई और उन्हें आग लगा दी. ताकि आग की रोशनी को लाइट के सोर्स की तरह यूज़ किया जा सके. भुवन बताते हैं कि उन्होंने फिल्म का अधिकतर हिस्सा शोल्डर माउंट कैमरा पर शूट किया. यानी कैमरे को कंधे पर रखकर शूट किया. इस कैमरे का वज़न था करीब 40 किलो. अपने इंटरव्यू में भुवन ने बताया कि कई लंबे सीक्वेंसेज़ के दौरान उनके कंधे में इंजरी भी आ जाती थी.

अपने यही एक्सपेरिमेंट भुवन ने ‘KGF चैप्टर 2’ में भी जारी रखे और नतीजा सबके सामने है.

#3. रवि बसरूर (म्यूज़िक कम्पोज़र)  

सिनेमा में एक हीरो की एंट्री कैसे सार्थक होती है. वो चले, तो जूतों के दबाव से धूल के कण हवा में गोते लगाएं. ये तो हुई आम ज़िंदगी. उसे मेंटोस बनाती है उसकी एंट्री से जुड़ी कोई आवाज़, कोई धुन. जिसे गुनगुनाने पर आम आदमी अपने आप को उस हीरो जैसा मानने लगता है. ‘KGF’ के लिए ऐसा दमदार म्यूज़िक दिया था रवि बसरूर ने. दूसरे चैप्टर का भी ज़िम्मा उन्होंने ही संभाला. प्रशांत की फिल्म ‘उग्रम’ से ही रवि बसरूर ने बतौर म्यूज़िक कम्पोज़र अपना डेब्यू किया था. हालांकि, उनकी इस फिल्म तक की जर्नी आसान नहीं थी.

प्रशांत नील, यश और रवि बसरूर (बाएं से दाएं)

रवि के परिवार में मूर्तियों की शिल्पकारी करने का काम था. यही उम्मीद उनसे भी की गई. लेकिन वो घर और ये दुनिया पीछे छोड़कर निकल गए. म्यूज़िक में कुछ करना चाहते थे, पर यहां भी मुश्किलें कम नहीं थी. जिस ज़माने में दुनिया कंप्युटर पर म्यूज़िक बना रही थी, रवि के पास उस वक्त बस एक कीबोर्ड था. हर दरवाजे से लौटा दिया जाता. ऊपर से पैसे खत्म हो चुके थे. उनका कोई जानकार एक दिन किसी जूलर के पास ले गया. जूलर ने सूरत देखकर भविष्य बताने का दावा किया. रवि को देखकर कहा कि एक दिन इस लड़के से मिलने के लिए वक्त लेना पड़ेगा. रवि ने अपनी कहानी सुनाई. जूलर ने बिना ज्यादा सोचे उन्हें 35 हज़ार रुपए थमा दिए. उस दिन से पहले तक दुनिया उन्हें किरण के नाम से पहचानती थी. अब उनका नाम रवि बसरूर हो गया था. जो KGF उनके करियर का मील का पत्थर साबित हुई, उसके म्यूज़िक पर उन्होंने तीन साल तक काम किया था. रवि ने अपने एक इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने फिल्म के गानों को भाषा के बंधन में नहीं बांधा. ऐसी धुन बनाई जिसे हर भाषा के शब्दों में पिरोया जा सकता था, वो भी बिना उसके मर्म के साथ खिलवाड़ किए.


KGF के बाद सिर्फ यश ही पैन इंडिया नाम नहीं बने. रवि बसरूर ने सलमान की पिछली फिल्म ‘अंतिम: द फाइनल ट्रूथ’ के लिए म्यूज़िक दिया था. अब वो प्रशांत की अगली फिल्म ‘सालार’ पर काम कर रहे हैं.

#4. उज्ज्वल कुलकर्णी (एडिटर)

2018 में KGF चैप्टर 1 रिलीज़ हुई. फिल्म ने बहुत लोगों के एहसास जगा दिए. ऐसे ही भाव को एक लड़के ने अपनी प्रेरणा बनाकर एक वीडियो बना डाला. मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो उज्ज्वल कुलकर्णी ने KGF फिल्म के सीन्स निकालकर एक फैन मेड ट्रेलर बना डाला. ये ट्रेलर किसी तरह प्रशांत नील तक पहुंच गया. उन्होंने इसे सोशल मीडिया पर शेयर कर, उज्ज्वल की तारीफ करना ज़रूरी नहीं समझा. उन्होंने कुछ बड़ा किया. अपनी अगली फिल्म ‘KGF चैप्टर 2’ का एडिटर उज्ज्वल को बना दिया.


उज्ज्वल ने इससे पहले सिर्फ कुछ शॉर्ट फिल्में एडिट की थी. पहली फीचर फिल्म मिली, वो भी ‘KGF चैप्टर 2’.

KGF 2 से पहले यश को इन्हीं फिल्मों ने कन्नड़ा इंडस्ट्री का रॉकिंग स्टार बनाया था

thumbnail

Advertisement

Advertisement