The Lallantop
Advertisement

पिता मुख्यमंत्री की सिक्योरिटी में, बेटे ने 35 लाख की नौकरी ठुकरा UPSC फोड़ दिया

IIT बॉम्बे से पासआउट, था बड़ा ऑफर मगर अभिजीत ने...

Advertisement
UPSC result success story of Abhijeet from Jaipur, left 35 lakh package
अभिजीत की सफलता में परिवार का अहम योगदान रहा है (आजतक फोटो)
24 मई 2023 (Updated: 24 मई 2023, 18:30 IST)
Updated: 24 मई 2023 18:30 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

23 मई को संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने सिविल सेवा परीक्षा (CSE) 2022 के परिणाम जारी किए. इसके साथ ही जयपुर के अर्जुन नगर के एक परिवार में खुशी की लहर दौड़ गई. पुलिस अधिकारी अनूप सिंह के बेटे ने UPSC सिविल सेवा परीक्षा में 440वीं रैंक हासिल की. दिलचस्प बात ये है कि लगभग दो साल पहले अनूप के बेटे अभिजीत के पास 35 लाख का ऑफर था. पर उन्होंने उसे ठुकराकर इस परीक्षा पर फोकस करने का फैसला लिया था.

IIT के पासआउट हैं अभिजीत

राजस्थान तक में छपी विशाल शर्मा की रिपोर्ट के मुताबिक IIT पास करने के बाद अभिजीत एक प्रतिष्ठित कंपनी में नौकरी कर रहे थे. कोविड के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक भाषण में 'आपदा को अवसर में बदलो'  की बात कही थी. इसके बाद ही 23 साल के अभिजीत ने कुछ अलग करने की ठान ली. इसके बाद उन्होंने UPSC को अपना लक्ष्य बनाया और इसमें सफलता हासिल की.

हालांकि, ये इतना आसान नहीं रहा. विशाल से बात करते हुए अभिजीत कहते हैं-

“काफी मेहनत के बाद (ऐसा) रिज़ल्ट आया है. दो-ढाई साल तक हम इसके साथ जूझते रहे. लगातार मेहनत की. इसमें घरवालों का बहुत साथ रहा, ख़ासकर मम्मी का. हर दिन उन्होंने खयाल रखा है. मेरे टीचर्स ने फर्स्ट अटेंप्ट के बाद दूसरे अटेंप्ट में मेरे साथ बहुत मेहनत की और उसकी वजह से ही ये रिज़ल्ट आया है. शुरू से ही मेरे मन में यही था कि मैं जयपुर में अपने घर में रहकर इस परीक्षा की तैयारी करूं. बजाय दिल्ली जाने के, जो बहुत लोग करते हैं. मैं लगातार सभी टीचर्स से गाइडेंस लेता रहा. घर पर शांत मन से मैंने तैयारी करी, जो शायद मैं बाहर नहीं कर पाता.”

अभिजीत के पिता अनूप पुलिस अधिकारी हैं और वर्तमान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सुरक्षा में तैनात हैं. अभिजीत की मां सरिता ग्रहणी हैं, जिनका बेटे की सफलता के पीछे अहम योगदान रहा है. अनूप का कहना है कि अभिजीत हमेशा उनकी उम्मीदों पर खरे उतरे हैं. बेटे की उपलब्धि पर मां सरिता और दादी सावित्री ने गर्व जताते हुए कहा कि हम सब बहुत खुश हैं. पहले अटेंप्ट में सफलता नहीं मिली तो बेटे को मोटीवेट किया और हार नहीं मानने की प्रेरणा दी और दूसरी बार में सफलता मिल ही गई.

UPSC परीक्षा क्लीयर करने से पहले अभिजीत ने IIT बॉम्बे से बीटेक किया है. पढ़ाई करते हुए ही उन्हें नौकरी मिल गई थी. बैंगलोर में उन्हें सालाना 35 लाख का पैकेज मिला था. पर 2021 में उन्होंने कुछ अलग करने का मन बना लिया और नतीजा सबके सामने है. 

वीडियो: UPSC की 3rd टॉपर उमा हराथी की ये बात सबको सुननी चाहिए

thumbnail

Advertisement