Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

मोदीभक्तों से बहुत बड़ा भक्त था ये भोला पांडे, जिसका नाम उमा भारती ने लिया

बाबरी विवादित ढांचे में उमा भारती सहित आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी पर भी आपराधिक केस चलेगा, सुप्रीम कोर्ट ने कहा है. इसके बाद उमा भारती ने मीडिया से बात करते हुए सोनिया गांधी समेत पूरी कांग्रेस पर भी सवाल उठाए. ये भी वादा किया कि वो अयोध्या जाएंगी. कहा कि कुछ छुपा नहीं है, कोई साजिश नहीं है, सब खुल्लमखुल्ला किया था. पर इसी में उन्होंने भोला पांडे का भी नाम लिया.

भोला पांडे वो शख्सियत हैं, जो भक्ति की सीमा पार कर गए थे.

आपको पुराने जमाने का एक किस्सा सुनाते हैं. जिससे आपको मोदी भक्तों का कद एकदम से छोटा होता दिखेगा.

बात सन 1978 की है. देश के प्रधानमंत्री थे मोरार जी देसाई. गृहमंत्री चौधरी चरण सिंह के आदेश पर इंदिरा गांधी को अरेस्ट कर लिया गया था. हालांकि उन पर जो चार्ज लगे वो कोर्ट में प्रूफ नहीं हो सके. इंदिरा को अरेस्ट कराने के पीछे मुख्य वजह थी संसद से निकालना. तो गिरफ्तारी के साथ ही संसद से छुट्टी हो गई उनकी. इसी पृष्ठभूमि पर आगे की कहानी है.

20 दिसंबर की शाम. 5 बजकर 45 मिनट पर लखनऊ एयरपोर्ट से एक जहाज उड़ा. इंडियन एयरलाइन्स का जहा बोइंग 737. इसमें 126 पैसेंजर सवार थे. इनमें दो बेहद खास लोग थे. पिछली इंदिरा सरकार में इमरजेंसी के दौरान मंत्री रहे एके सेन और धरम वीर सिन्हा. दिल्ली के लिए प्लेन ने उड़ान भरी.

सब कुछ बिल्कुल सही जा रहा था. दिल्ली के पालम एयरपोर्ट पर लैंड करने से 15 मिनट पहले खेल शुरू हो गया. सीटों की पंद्रहवीं लाइन से दो नौजवान निकले. और कॉकपिट की तरफ बढ़ चले. इनके नाम पैसेंजर लिस्ट में दर्ज थे, भोलानाथ पांडे और देवेंद्र पांडे के नाम से. भोला की उमर 27 और देवेंद्र की 28. दोनों दोस्त थे, रिश्तेदार नहीं. आगे बढ़कर फ्लाइट खजांची जीवी डे से आहिस्ते से बोले “हम कॉकपिट में जाना चाहते हैं. आप इंतजाम कर देंगे?” डे ने कहा कि रुको एक मिनट. आपकी रिक्वेस्ट हम कैप्टन एम एन बट्टीवाला तक पहुंचा देते हैं.

डे साहब आगे बढ़े, कॉकपिट की तरफ. इतने में वहां एयर होस्टेस इंदिरा ठकुरी आ गई. तो एक पांडे जी ने उसका हाथ पकड़कर किनारे कर दिया. उधर डे ने दरवाजा खोला और उनको धक्का देकर दोनों आदमी अंदर. दरवाजा ऑटोमेटिक होता ही है, बंद हो गया.

अब तक यात्रियों और कैबिन क्रू को यही पता था कि कुछ हुआ है. लेकिन सीरियस बात नहीं है. अंदर से कुछ ही मिनट में पहला एनाउंसमेंट शुरू हुआ. पैसेंजर चौकन्ने हो गए कि क्या हुआ. आवाज आई “हम हाईजैक हो गए हैं. पटना जा रहे हैं.” सबको सांप सूंघ गया. हलचल शुरू होने से पहले दूसरा एनाउंसमेंट आया. कहा गया कि हम बनारस में लैंड करने वाले हैं.

प्लेन हाईजैक करने वालों को प्लेन का P नहीं पता था

अंदर कैबिन में 6 फिट के जवान हट्टे कट्टे कैप्टन बट्टीवाला की हालत खराब. मतलब घबराहट की बात नहीं. उनको प्लेन उड़ाने और लैंड करने की ABCD समझाने में पसीने छूट रहे थे. धेले भर का दिमाग नहीं था उनके पास. हाईजैक करने वाले खुद नर्वसाए हुए थे. शुरू से आखिरी तक कैप्टन का दिमाग चाट गए. दोनों इनकी कनपटी पर पिस्टल टिकाए थे और ये उनको ये समझाने में खर्च हुए जा रहे थे कि एयरक्राफ्ट ऐसे नहीं उड़ता. पहले तो उन्होंने डिमांड की कि इसको उड़ाकर नेपाल ले चलो. उनको बताया कि भैया इत्ता तेल नहीं है इसमें कि काठमांडू पहुंच जाएं. तो कहने लगे कि “फिर बांग्लादेश चलो.” ऐसा लगता था स्कूल में भूगोल नहीं पढ़े थे और चल दिए थे प्लेन हाईजैक करने.

बाहर बैठे लोग पहले कुछ अकुलाए. परेशान हुए. फिर शांत हो गए. जैसे ही दोनों लोग उनके सामने आए, उनमें से कुछ हंसी के मूड में आ गए. कहा कि बनारस नहीं दादा, काठमांडू ले चलो. लेकिन पांडे लोग जोक के मूड में नहीं थे. उनके पास बरबाद करने के लिए टाइम ही कहां था. पैसेंजर्स के सामने खड़े हुए. और वीर रस से सनी स्पीच शुरू कर दी. कहा कि “हम यूथ इंदिरा कांग्रेस के मेंबर हैं. इंदिरा गांधी को गिरफ्तार करके जनता पार्टी ने बदला लेने की कोशिश की है. हम गांधीवादी हैं. अहिंसा के रास्ते पर चलने वाले. हम पैसेंजर्स को बिल्कुल नुकसान नहीं पहुंचाएंगे. बस हमारी मांगें पूरी होनी चाहिए. इंदिरा गांधी को रिहा करो. इंदिरा गांधी जिंदाबाद. जिंदाबाद जिंदाबाद.”

indira

प्लेन हाईजैक को लेकर सीरियस नहीं थे लोग

तो इंदिरा और संजय गांधी जिंदाबाद पर नारेबाजी थमी. कुछ पैसेंजर्स ने चुपके से तालियां भी बजाईं. जाहिर है पैसेंजर्स के साथ किसी तरह की मार पीट नहीं हुई थी. उनमें से ज्यादातर इस कांड को बिल्कुल सीरियसली नहीं ले रहे थे. सीरियस मामला ये था कि किसी को टॉयलेट यूज नहीं करने दिया जा रहा था. सूसू लगी हो तो भरे बैठे रहो. किसी को अपनी जगह से उठना नहीं है. एके सेन जो थे, पूर्व कांग्रेस सरकार के लॉ मिनिस्टर, इतना गुस्सा हो गए कि चिल्लाने लगे. कहा मैं तो जा रहा हूं, तुम्हारी मर्जी हो तो गोली मार दो.

होते करते ये हुआ कि बनारस आ गया. प्लेन लैंड कर लिया. रनवे पर जाकर खड़ा हुआ. तो दोनों पांडे ने पहली डिमांड रखी कि हमको यूपी के सीएम राम नरेश यादव से बात कराओ. सीएम टालमटोल कर रहे थे. तब पीएम मोरार जी देसाई ने टिंचर दिया. समझाया कि हालात को समझो जूनियर. तब सीएम साहब अपना प्लेन लिए और उड़े वाराणसी के लिए. इतने भर में हाईजैकर्स ने बनारस के जिला अफसरों को अपनी चार डिमांड समझा दी थीं. मेन यही थी कि इंदिरा को रिहा करो, बिना शर्त.

तब के सीएम राम नरेश यादव
तब के सीएम राम नरेश यादव

तो सीएम साहब से सौदेबाजी शुरू हुई. अरे निगोसिएसन. दुन्नो पांडे ने कहा कि बात करने के लिए प्लेन में आओ. सीएम ने कहा कि कम से कम विदेशी मेहमानों और बच्चों, महिलाओं को जाने दो. तो ये कहने लगे कि पहले आओ तो. जब सीएम राम नरेश यादव आए तो एसके मोदी नाम के पैसेंजर ने पीछे वाला दरवाजा खोल दिया. और खुद भी चुप्पे से कूद कर निकल गया. इधर प्लेन में बतकही सारी रात चलती रही. सीएम पीएम से सलाह करके बतियाते रहे. सख्त निर्देश ये था कि इनकी एक भी डिमांड माननी नहीं है.

तब के पीएम मोरार जी देसाई
तब के पीएम मोरार जी देसाई

पापा ने गुब्बारा फोड़ दिया

बातचीत चल रही थी. सुबह के 6 बज गए. लेकिन अंधेरा था. इधर सर्दियों में इतनी जल्दी सूरज नहीं उगता. प्लेन के अंदर माहौल बहुत खराब था. लोग एकदम उकता गए थे. भयंकर बोर हो गए थे. अरे नौटंकी घंटे दो घंटे अच्छी लगती है. पूरी रात थोड़ी. तो सुबह हुई. हाईजैकर्स ने कहा कि पीछे वाला दरवाजा खोल दो. कैप्टन ने लीवर खींचा. पीछे जो हाइड्रोलिक वाली ट्राली जैसा दरवाजा होता है, वो खुल गया. आधे लोग उतर गए.

इतने में गड़बड़ हो गई. इनमें से एक जने के पापा एयरपोर्ट पर आ गए. और वायरलेस से अपने पूत से संपर्क साधा. जइसे ही उनकी आवाज सुनी, पुतऊ अकबका गए. सुंदर सपना बीत गया. सारी हीरोपंती हवा हो गई. दोनों लोग इंदिरा गांधी जिंदाबाद करते हुए नीचे उतर आए. नीचे इंतजार कर रहे अफसरों के आगे सरेंडर कर दिया. इस तरह ये हाईजैकिंग का खेला खतम हुआ. बाद में पता चला जो कट्टा ये कैप्टन के अड़ाए थे, वो भी नकली थे. बच्चों के खेलने वाले.

आज कहां हैं दोनों इंदिरा भक्त

दो साल बाद सन 80 में पार्टी की तरफ से उनके किए का ईनाम मिला. टिकट की शक्ल में. दोनों विधायक बन गए. यूपी की विधानसभा में धमक हो गई. भोला दो बार विधायक रहे. एक बार सन 80 से 85 तक और दूसरी बार 89 से 91 तक. बलिया के रहने वाले भोला इंडियन यूथ कांग्रेस के जनरल सेक्रेट्री रहे. हां, लोकसभा की तैयारी में खर्च हुए जा रहे हैं. सन 91, 96, 99, 2004, 2009 और 2014 माने हर पंचवर्षीय ये सलेमपुर से किस्मत आजमाते हैं. कामयाबी नहीं मिलती.

देवेंद्र पांडे भी खाली नहीं बैठे हैं. काफी दिन तक उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के जनरल सेक्रेट्री रहे. आने वाले चुनाव के लिए दौड़ही लगाए हुए हैं. टिकट मिल जाए फिर कार में पीछे बड़े से सफेद अक्षरों में लिखाकर घूमें ‘विधायक.’

अब आखिरी बुरी खबर

मंगलवार 23 नवंबर 2016 को आई ये बुरी खबर. कि उस प्लेन हाईजैक कांड में निगोशिएट करने वाले उस वक्त के मुख्यमंत्री राम नरेश यादव की डेथ हो गई है. फिलहाल ये मध्य प्रदेश में कांग्रेस के बड़े नेता थे. कुछ ही दिन पहले मध्य प्रदेश के राज्यपाल पद से रिटायर हुए थे. लंबी बीमारी के बाद लखनऊ में उन्होंने आखिरी सांस ली. मध्य प्रदेश के सीएम ने ट्वीट भी किया.

CM


ये भी पढ़ें:

पहली बार सोनिया गांधी ने शेयर किए अपने पर्सनल किस्से

अंदर की कहानी: जब गांधी परिवार की सास-बहू में हुई गाली-गलौज

क्या इंदिरा गांधी को ‘दुर्गा’ कह कर पलट गए थे अटल बिहारी?

इमरजेंसी के ऐलान के दिन क्या-क्या हुआ था, अंदर की कहानी

खुद को ‘बदसूरत’ समझती थीं इंदिरा गांधी

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

राधिका आप्टे से जब पूछा गया आप उस हीरो के साथ सो लेंगी?

उन्होंने जो जवाब दिया, सराहनीय है. हैप्पी बर्थडे है इनका.

प्रियंका तनेजा उर्फ़ हनीप्रीत: गुरमीत की 'गुड्डी', जिसके बिना उसका एक मिनट भी नहीं कटता

मुंहबोली बेटी के लिए राम रहीम ने कोर्ट से चौंकाने वाली अपील की है.

जिसे हमने पॉर्न कचरा समझा वो फिल्म कल्ट क्लासिक थी

अठारह वर्ष से ऊपर वाले दर्शकों/पाठकों के लिए.

17 साल की लड़की ने सड़क पर बच्चा डिलीवर किया, इसका जिम्मेदार कौन है?

विचलित करने वाला ये वीडियो हमारे समाज की नंगई दिखाता है.

इंसानी पाद के बारे में सबसे महत्वपूर्ण जानकारियां

जिन्हें लगता है कि लड़कियां नहीं पादतीं, वो ये ज़रूर पढ़ें.

'गुप्त रोगों' के इलाज के नाम पर की गई वो क्रूरता, जिसे हमेशा छिपाया गया

प्रेगनेंट औरतों, बीमार पुरुषों और अनाथ बच्चों के साथ अंग्रेज और अमेरिकी करते थे जघन्य हरकत.

औरत बने आदमी, और आदमी बनी औरत के बीच हुई अनोखी शादी

दो ऐसे लोगों की प्रेम कथा, जिन्हें आप आम भाषा में 'हिजड़ा' कह भगा देते हैं.

ट्विंकल खन्ना की ये क्रूरता बहुत घृणित है

अगर यही इन हाई-सोसायटी के महानगरी लोगों की संवेदनशीलता है तो बहुत निराश करने वाली है.

नर्म लफ्ज़ों वाले गुलज़ार ने पत्नी राखी को पीट-पीट कर नीला कर दिया था?

वो ख़बर जिसमें गुलज़ार को क्रूर आदमी बताया गया है.

'थाईलैंड की लड़कियों से मालिश करवाएं', वादा करने वाले 'मसाज पार्लर्स' का भद्दा सच

'हाई क्लास' और 'पॉश' इलाकों में बसे हुए अड्डों में ये मिला.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.

ऐसा क्या करें कि हम भी जेएनयू के कन्हैया लाल की तरह फेमस हो जाएं?

कोई भी जो किसी की तरह बना, कभी फेमस नहीं हो पाया. फेमस वही हुआ, जो अपनी तरह बना. सचिन गावस्कर नहीं बने. विराट सचिन नहीं बने. मोदी अटल नहीं बने और केजरीवाल अन्ना नहीं बने.

तुम लोग मुझे मुल्ले लगते हो या अव्वल दर्जे के वामपंथी जो इंडिया को इस्लामिक मुल्क बनाना चाहते हो

हम क्या हैं. ये पूछा आपने. वही जो आप हैं. नाम देखिए आप अपना.

एक राइटर होने की शर्तें?

शर्तें तो रेंट एंग्रीमेंट में होती हैं. जिन्हें तीन बार पढ़ते हैं. या फिर किसी ऐप या सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने में, जिसकी शर्तों को सुरसुराता छोड़कर हम बस आई एग्री वाले खांचे पर क्लिक मार देते हैं.

मुझे कानूनी कार्रवाई करनी है. क्या करूं.

करने को तो बहुत कुछ है. हाथ हैं. बहुत लंबे. आपके नहीं. कानून के. बाकी क्लिक करो. सब पता चल जाएगा.