Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'मुझे यकीन नहीं हो रहा, ओम पुरी दुनिया छोड़ कर चले गए'

‘मुझे कोई नहीं मार सकता. न आगे से, न पीछे से…न दाएं से, न बाएं से…न आदमी, न जानवर…न अस्त्र, न शस्त्र’
फिल्म – नरसिम्हा

‘खून जब खौलता है तो मौत का तांडव होता है’
फिल्म – मरते दम तक

‘मज़हब इंसानों के लिए बनता है, मज़हब के लिए इंसान नहीं बनते’
फिल्म  – ओह माई गॉड

‘समाज की गंदगी साफ करने का कीड़ा है मेरे अंदर’
फिल्म  – गुप्त

‘अगर अपने आप पर भरोसा हो तो दोस्ती और भी कामयाब बना देती है…और, अपने पर शक हो बर्बाद भी कर सकती है’
फिल्म – लंदन ड्रीम्स

ये डायलॉग वो हैं, जिनकी अदायगी फिल्मों में ओम पुरी ने की. और ये डायलॉग बार-बार दोहराए जाएंगे. क्योंकि कला मरती नहीं. न कहीं कैद रह पाती है. वो सरहदों को पार कर जाने की हैसियत रखती है. ओम पुरी सिर्फ बॉलीवुड के अदाकार नहीं रहे, बल्कि पाकिस्तानी, ब्रिटिश और हॉलीवुड फिल्मों में भी अपनी बेमिसाल अदाकारी की. इंडिया में पद्मश्री से सम्मानित किये गए. ‘आरोहण’ और ‘अर्धसत्य’ उनकी वो फ़िल्में हैं, जिनके लिए बेस्ट एक्टर का राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया.

ओम पुरी को दिल का दौरा पड़ा. और 66 साल की उम्र में दुनिया से रुखसत हो गए. ओम पुरी उन इंसानों में है जिन्होंने कभी भारत-पाकिस्तान को दो मुल्क नहीं समझा. उन्होंने हमेशा राजनीति और हिंसा से परे इंसान देखे और शांति की बात की. तभी तो उनकी मौत की खबर से पाकिस्तान में भी मायूसी पसर गई.

ओम पुरी ने पिछले साल ही पाकिस्‍तानी फिल्‍म ‘एक्‍टर इन लॉ’ में काम किया था. यह ओम पुरी की पहली पाकिस्‍तानी फिल्‍म थी. इस फिल्‍म में ओम पुरी के साथ पाकिस्तानी एक्‍टर फहाद मुस्‍तफा ने भी काम किया.

फरहद ने ट्विटर पर लिखा, ‘ओम पुरी, एक दिग्‍गज अदाकार और एक ऐसी शख्सियत जो अपने विनम्र और प्रेम भरे व्‍यवहार से सरहदों के पार भी दिल जीत लेते हैं. अल्लाह उनकी रूह को जन्नत में जगह दे.’

मीरा नायर की फिल्‍म ‘ द रिलकटेंट फंडामेंटलिस्‍ट’ में भी ओम पुरी ने काम किया. इसमें उनके साथ शबाना आजमी भी थीं. और कई पाकिस्‍तानी कलाकारों ने भी काम किया. इस फिल्‍म का हिस्‍सा रही पाकिस्‍तानी आर्टिस्‍ट मीशा शफी ने ट्विटर पर लिखा, ‘मुझे यकीन नहीं हो रहा कि वह चले गए हैं. उनकी आत्‍मा को शांति मिले. मैं शुक्रगुजार हूं मीरा नायर की, जिन्‍होंने इस दिग्‍गज अदाकार के साथ मुझे काम करने का मौका दिया.’

पाकिस्तानी अदाकारा माहिरा खान ने ट्वीट किया, ‘ दुनिया ने एक महान कलाकार खो दिया, इंडियन सिनेमा के एक शानदार एक्टर. आत्मा को शांति मिले.’ माहिरा खान बॉलीवुड में शाहरुख खान की फिल्‍म ‘रईस’ से डेब्यू करने जा रही हैं.

हुमायूं सईद ने लिखा, ‘ एक शानदार अदाकार और एक साहसी आदमी, ओम पुरी, जिन्‍होंने अमन-ओ-सुकून के लिए सबसे मुश्किल वक्त में जमीनी काम किए.’ हुमायूं सईद एक्टर होने के साथ साथ प्रोडूसर भी हैं. जब पाकिस्तान में बॉलीवुड की फिल्मों पर पाबंदी लगाई गई, तो उन्होंने इसका खुलकर विरोध किया था. कहा था, अगर इंडियन फिल्मों के दिखाए जाने पर पाबंदी लगती है तो पाकिस्तानी सिनेमा घरों के पास दिखाने के लिए फ़िल्में नहीं होंगी, जिससे बहुत नुकसान होगा.’ और ऐसा हुआ भी.

चाहे इंग्‍लैंड के सिनेमा की बात करें या अमरीकी फिल्‍मों की, ओम पुरी ने अपनी मौजूदगी तक़रीबन हर सिनेमा में दर्ज कराई. ओम पुरी ने ‘माई सन द फैनेटिक’ (1997) और ‘ईस्‍ट इज ईस्‍ट’ (1999) जैसे ब्रिटिश फिल्‍मों में काम किया. इसके अलावा हॉलीवुड फिल्‍म ‘सिटी ऑफ जॉय’, ‘द घोस्‍ट एंड द डार्कनेस’ में भी काम कर चुके हैं. हॉलीवुड कॉमेडी ड्रामा ‘चार्ली विल्सन्स वॉर’ (2007) में ओम पुरी ने पाकिस्तान के राष्ट्रपति जनरल ज़िया-उल-हक़ का रोल किया था. जो पहले पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष हुआ करते थे लेकिन बाद में डिक्टेटर बन गए.


 

पाकिस्तान पर 12 साल राज करने वाला हिंदुस्तानी

माफ़ी मांगकर शहीद की फैमिली का हिस्सा बन गए थे ओम पुरी

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

शहीदों को सम्मान देना है तो गौतम गंभीर से सीखिए मनोज तिवारी जी

गौतम गंभीर की जितनी तारीफ़ की जाये, कम है.

विनोद खन्ना का वो किस्सा, जो अमिताभ खुद से कभी जोड़ना नहीं चाहेंगे

एक वक्त था कि विनोद खन्ना बॉलीवुड के सबसे बड़े स्टार बन रहे थे.

मोदी जी, आपकी ये सांसद जिंदा लोगों की खाल उतरवाना जानती हैं

ये योगी आदित्यनाथ के राज में हुआ है.

लीजेंड्री एक्टर विनोद खन्ना नहीं रहे, मुंबई में निधन

मुंबई के हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली.

अब घर बैठे आप करवा सकेंगे कॉन्डम की फ्री होम डिलीवरी

कॉन्डम भी मुफ्त में मिलेगा. यानी बिना एक भी पैसा दिए करिए सेफ सेक्स.

सिर्फ 25 बरस थी कुपवाड़ा में शहीद हुए कैप्टन आयुष की उम्र

एलओसी के पास आर्मी कैंप पर तड़के हुआ टेररिस्ट अटैक.

ये वो सिस्टम है जिसमें शहीद के शव को रोक सीएम के काफिले को हरी बत्ती दी जाती है

सिर्फ़ लाल बत्ती हटा देने से VIP कल्चर नहीं ख़त्म हो जाता.

टॉप खबर

ये 9 साल की लड़की. इंडिया की अगली तेंदुलकर

कहानी अनादि तागड़े की. इंदौर की नई क्रिकेट वंडर

महिला नक्सलियों ने जवानों के गुप्तांग काटे, सुकमा हमले की दिल दहलाने वाली डिटेल्स

पेड़ पर चढ़कर बरसाई गोलियां और चलाए तीर बम. सुकमा की पूरी कहानी.

सिर्फ इन्हीं तीन वजहों से MCD में जीती बीजेपी

सबके पास हार और जीत के अपने अपने कारण हैं.

3 वजहें, जिन्होंने MCD में AAP की लुटिया डुबो दी

रोना बहुत मचाते हैं यार.

अन्ना हजारे ने बताया केजरीवाल एमसीडी क्यों हारे

हार के बाद आप विधायक अलका लाम्बा ने इस्तीफे की पेशकश कर दी.

ज़ख्मी पुलिस वाले ने बताया, क्या हुआ था जब थाने पर भीड़ ने हमला किया?

आगरा में कथित हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ताओं ने अपने साथियों को छुड़ाने के लिए दो थानों पर हमला किया था.

पहलू खान की मौत पर ज्ञानदेव आहूजा ने दिया शर्मनाक बयान

ये बीजेपी के वही विधायक हैं, जिन्होंने जेएनयू में कॉन्डम गिनकर बताए थे.

पतंजलि के आंवला जूस में गड़बड़, आर्मी कैंटीन ने बिक्री पर लगा दी रोक

जिस लैब ने मैगी की रिपोर्ट दी थी, उसी ने अब पतंजलि की रिपोर्ट दी है!

एग्ज़िट पोल: कौन जीत रहा है MCD?

दिल्ली वालों ने वोटिंग में बड़ी सुस्ती दिखाई है.

भौंचक

106 साल की उम्र में आंध्र प्रदेश की ये नानी यूट्यूब क्वीन हैं

खाना बनाने की विधि यूट्यूब पर डालती हैं.

ये है दुनिया का सबसे बड़ा रुपैया

नोट बहुत बड़ा था लेकिन उसकी कीमत ना बराबर थी. अब ये नोट केवल दीवारों पर सजाने के ही काम आता है.

पानी को उड़ने से बचाने के लिए मंत्री जी ने डैम को थर्मोकॉल से ढंक दिया

तमिलनाडु के इस मंत्री ने जो किया वो बताता है कि स्कूल में साइंस की क्लास में क्यों सोना नहीं चाहिए.

जर्मनी वालों ने उड़ती कार बना ली, एक 'लेकिन' के साथ

'एक दिन कारें उड़ेंगी' ये सपना है, जो हर साल की शुरुआत में वैज्ञानिक हमें दिखाते हैं.

रातोरात 40 लाख लोग अंधेपन से मुक्त हुए, ऐसा क्या कर दिया मोदी सरकार ने

अचानक अंधे लोगों की संख्या 1.2 करोड़ से घटकर 80 लाख हो गई है.

झारखंड का 'गूगल बॉय', जिसकी याददाश्त हैरान करने वाली है

होनहार वीरवान के होत चीकने पात.

गुमशुदा हुई सड़क को ढूंढ निकालने पर 10 हज़ार रुपये का इनाम

दिल्ली की एक सड़क तीन साल से लापता है.

राष्ट्रपति, चिप, हाई कोर्ट, सिम कार्डः ये इस गांव के लोगों के नाम हैं

और आपको लगता था कि 'टैंजेंट' और 'डेफिनेट' ही क्रांति लाएंगे.

अब रविंद्र गायकवाड़ वो काम कर रहे हैं, जो 70s का विलेन करता था

आसमान में उड़ना तो दूर, उनका जमीन पर चलना भी मुश्किल हो गया है.