Submit your post

Subscribe

Follow Us

'RBI गवर्नर से पूछा गया, आपको पद से क्यों न हटाया जाए और मुकदमा चले?'

नोटबंदी किसका फैसला था नहीं क्लियर हुआ. कभी कहा गया सरकार का फैसला था तो कभी कहा गया आरबीआई का फैसला था. खैर फैसला जिसका भी हो अब इस बात के साफ़ होने के आसार दिख रहे हैं. आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल को अपनी चुप्पी तोड़नी पड़ेगी. क्योंकि संसद की लोक लेखा समिति (पब्लिक अकाउंट्स कमिटी PAC) ने उनको बुलावा भेजा है. आरबीआई गवर्नर के रेगुलेशंस में पिछले दो महीनों में जितने बदलाव आए हैं, उनपर जानकारी मांगी गई है. कांग्रेस नेता केवी थॉमस की अगुवाई वाली समिति ने पटेल से पूछा है कि अगर ऐसा कोई कानून नहीं है तो उन पर पॉवर का गलत इस्तेमाल करने के लिए मुकदमा क्‍यों न चले और उन्‍हें हटाया क्‍यों न जाए.

इसके अलावा 9 और सवालों के जवाब देने हैं जो PAC की भेजी लिस्ट में हैं. गवर्नर उर्जित पटेल ने लंडन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स, येल यूनिवर्सिटी और ऑक्सफ़ोर्ड से इकोनॉमिक्स की पढ़ाई की है. आईएमएफ में भी काम किया है. लेकिन रिज़र्व बैंक से जो सवाल पूछे गए हैं, और जिस डिटेल में पूछे गए हैं उनका जवाब देना उर्जित के लिए मुश्किल होगा. इसलिए नहीं कि क्या बोलें, बल्कि इसलिए कि क्या नहीं बोलें.

meem1
PAC के मुखिया वरिष्ठ कांग्रेसी नेता के वी थॉमस हैं. उनके अलावा PAC में और भी गैर भाजपा सदस्य हैं. इसलिए रिज़र्व बैंक से किए गए एक-एक सवाल में ये बात बाकायदा रिफ्लेक्ट हो रही है कि कोई छूट मिलने की उम्मीद न करें:

सवाल 1
केंद्र में मंत्री पीयूष गोयल ने संसद में कहा है कि नोटबंदी का फैसला रिज़र्व बैंक बोर्ड का था. सरकार ने उसे सिर्फ लागू किया. क्या आप सहमत हैं?

सवाल 2
अगर फैसला रिज़र्व बैंक का ही था, तो ये किस तारीख को तय पाया गया कि नोटबंदी देशहित के लिए ज़रूरी है?

सवाल 3
500 और 1000 के नोट रातों-रात चलन से बाहर करने के पीछे क्या ठोस वजह रही?

सवाल 4
नकली नोटों के लिए रिज़र्व बैंक का खुद का आंकड़ा सिर्फ 500 करोड़ तक सीमित है. भारत का कैश टू जीडीपी
रेशियो 12 % था, जो कि जापान (18 %) और स्विट्ज़रलैंड (13 %) से कम है. हाई डिनॉमिनेशन (ऊंची कीमत वाले नोट; 500-1000 के) का देश की मुद्रा में 86 % हिस्सा था. ये भी चीन (90 %) और अमेरिका (81 %) से ज़्यादा हटकर नहीं है. ऐसे में अचानक रिज़र्व बैंक को नोटबंदी की ज़रुरत क्यों महसूस हुई?

सवाल 5
8 नवम्बर को हुई इमरजेंसी मीटिंग के लिए रिज़र्व बैंक बोर्ड के सदस्यों को नोटिस कब भेजे गए? किन सदस्यों ने मीटिंग में हिस्सा लिया और ये मीटिंग कितनी देर चली? इस मीटिंग के मिनट्स (नोट्स) कहां हैं?

सवाल 6
इस मीटिंग के बाद जो नोट कैबिनेट को नोटबंदी पर अमल करने के लिए भेजा गया, क्या उसमें ये साफ़-साफ़ लिखा था, कि इस फैसले से 86 % नोट चलन से बाहर होंगे? रिज़र्व बैंक ने नए नोट छाप कर वापस सिस्टम में पहुंचाने में कितना वक़्त और पैसा लगने की बात की थी?

सवाल 7 (सबसे जबराट यही है)
रिज़र्व बैंक के 8 नवम्बर वाले नोटिफिकेशन में बैंक के कैश काउंटर से एक बार में 10,000 और पूरे हफ्ते में 20,000 निकालने की सीमा बांध दी गई थी. एटीएम से पैसे निकालने पर 2000 की सीमा थी. रिज़र्व बैंक ने किन नियमों और कानूनों के तहत ये बंदिशें लगाई थीं? अगर ऐसे कोई नियम नहीं हैं, तो क्यों ना आप पर (रिज़र्व बैंक गवर्नर पर) कार्रवाई हो और आपको पद के बेजा इस्तेमाल के लिए पद से हटा दिया जाए?

सवाल 8
पिछले दो महीनों में रिज़र्व बैंक के नियमों में इतनी घिचिड़-पिचिड़ क्यों हुई? उस अफसर का नाम बताएं जिसने कैश निकालने वाले लोगों की ऊंगली पर इंक लगाने का सुझाव दिया था. शादी के लिए अलग से विद्ड्रॉल लिमिट वाला सुझाव किसका था? अगर ये नियम रिज़र्व बैंक के बजाए सरकार की तरफ से आए थे, तो क्या ये मान लिया जाए कि रिज़र्व बैंक, वित्त मंत्रालय (फ़ाइनांस मिनिस्ट्री) के तहत एक विभाग है?

सवाल 9
चलन से बाहर हुए नोटों की कुल कीमत का सटीक आंकड़ा बताएं. इसमें से कितना बैंकों में जमा हुआ है?

सवाल 10
रिज़र्व बैंक ने नोटबंदी के फैसले पर दायर RTI का जवाब देने के लिए जो कारण दिए हैं, वो बेहूदा हैं. बैंक जवाब देने से क्यों बच रहा है?

इंडियन एक्सप्रेस के हवाले से खबर है कि राज्य सभा की स्टैंडिंग कमिटी (सबॉर्डिनेट लेजिस्लेशन) ने रिज़र्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल, डिप्टी गवर्नर एन एस विश्वनाथन और डिप्टी गवर्नर आर गांधी से नोटबंदी के फैसले पर सवाल-जवाब किए. इस मीटिंग में जनता दल (यूनाइटेड) के अनवर अली अंसारी ने यहां तक कहा कि लोगों की परेशानियों की जानकारी के बावजूद कदम न उठाना ‘क्रिमिनल नेग्लिजेंस’ (आपराधिक दर्जे की लापरवाही) के बराबर है.

गवर्नर क्या जवाब देंगे ये मालूम नहीं. लेकिन इतना तय है कि उन्होंने सवालों को पढ़ते हुए मार्कर से ‘बेहूदा’ और ‘कार्रवाई’ को ज़रूर हाईलाईट किया होगा.

जवाब देने की डेड-लाइन में अभी 20 दिन हैं. गवर्नर साहब को मेरी शुभकामनाएं.


 

ये भी पढ़ें:

जानिए क्यों उर्जित पटेल ने नहीं, नरेंद्र मोदी ने नोट बैन का ऐलान किया

यहां 500-1000 के पुराने नोटों पर मिल रहा है 10 परसेंट एक्स्ट्रा!

सोनम गुप्ता से पहले ये बन चुके हैं ‘नोट लेखकों’ का निशाना

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

27 साल बाद इस गांव के दलित खेलेंगे होली, क्योंकि अदालत ने इंसाफ दिया है

दलित की मौत पर धरने पर बैठी थीं मायावती, लेकिन सीएम बनने पर भी कुछ किया नहीं. अब 27 साल बाद आया है फैसला.

टी-20 वर्ल्ड कप हराने वाले बॉलर को IPL में सबसे ज़्यादा पैसे मिले हैं!

अफ़ग़ानिस्तान के प्लेयर्स पहली बार दिखेंगे आईपीएल में.

बीफ पर फिर हंगामा, नोटों में चर्बी मिले होने की बात दुहराई गई

ये मामला देश और समाज की बाउंड्री लांघ गया है.

अब राज्यों के बीच का भेदभाव मिटेगा, हम सब 'इंडियन' होंगे

सरकार ला सकती है कानून. फिलहाल सुझाव है, लेकिन बढ़िया है.

ट्रैफिक ने एक आदमी को किडनैपिंग से बचाया

किडनैपरों की बेरहमी CCTV में कैद हो गई.

वेद प्रकाश शर्मा : जिसने साहित्य को बस स्टैंड और गद्दे के नीचे तक पहुंचा दिया

जिसकी एक किताब की बिक्री में हिंदी के लगभग सारे लेखक आ जाएंगे, वो नहीं रहे.

अपनी शादी में पूर्णिया में प्लेन उतारा, अब दूसरों की बग्घी छीन रही हैं

मैरिज बिल को लेकर चर्चा में हैं रंजीत

तो 'स्वच्छ भारत अभियान' की सच्चाई बंधुआ मजदूरी है?

टॉयलेट बनवाने वाले आज बंधक हैं, बिना खाए मजदूरी कर रहे हैं.

गूगल जैसी कंपनियों ने बढ़ाया ये अपराध, पर सुप्रीम कोर्ट ने चला दी इनपे आरी

भारत में इसके लिए कड़े कानून हैं, पर लोग नजर बचा कर निकल जाते हैं.

इस बीजेपी सीएम की बातें सुनकर लग रहा है दिमाग में अफीम के बाग उग आए हैं

एक बार सुनिए. आपके कदम लड़खड़ाने लगेंगे.

पाकी टॉकी

पाक ने हाफ़िज़ सईद को आतंकी माना, बस एक काम बाकी है

खुद की बिल्ली खुद को ही नाखून मारने लगी तो कलस कर पाकिस्तान ने कड़े कदम उठाए.

पाकिस्तान जो अब कर रहा है वो पहले ही कर देना चाहिए था

हमें भी दुआ करनी चाहिए कि जो कर रहा है उसका सफाया हो जाए.

एक दिन 'नैचुरल डेथ' न बन जाए हर पाकिस्तानी का अधूरा सपना!

जिस पाकिस्तान में ओसामा बिन लादेन सेफ नहीं, वहां जनता क्या होगी.

पाकिस्तान में बन रहा नया उसूल, रसूल के नाम पर किसी को जान से ना मारो

पाकिस्तानी सरकार ईशनिंदा कानून पर दोबारा सोच रही है पर हजारों लोग एक हत्यारे की मजार पर शीश नवाने जा रहे हैं.

इससे अच्छी लव स्टोरी इस वैलेंटाइन्स वीक नहीं मिलेगी

सनोबर और उनके पति संघर्ष और जिंदगी की मिसाल हैं.

रिश्तेदार को नहीं पसंद थी परिवार का पेट भरती लड़की, तो गोली मार दी

वहां कसाब जैसा कोई घर से निकलता है तो बुरा नहीं लगता, नौकरी करती लड़की इज्जत में दाग लगाती है.

हाफिज सईद ने बदला अपने ग्रुप का नाम, इशारा सीधा कश्मीर की ओर

पाकिस्तान बेहद खतरनाक तरीके से खुद के साथ भारत को भी फंसा रहा है.

वर्ल्ड का ये पहला मुल्क है जिसका नेता इसे अमेरिका की बैन लिस्ट में डालने को कह रहा है

डॉनल्ड ट्रंप के बैन वाला ये आठवां मुल्क हुआ तो हिंदुस्तान में बहुत प्रसाद बंटेगा.

वो दिन जब 'पाकिस्तान' शब्द से दुनिया वाकिफ हुई थी

क्या आपको पता है कि भारत में इसी नाम की मैजगीन भी निकलती थी?

भौंचक

हल्दी है, चंदन है, रिश्तों का बंधन है, बकरियों के स्वयंवर में आपका अभिनंदन है

'दीपिका' 'कैटरीना' और 'प्रियंका' की शादी हो रही है, 24 तारीख को.

बेलारूस के पत्रकार के रास्ते पर चले तो हमारे कई ऐंकर्स तो बेहाल हो जाएंगे

ये वीडियो भले ही मज़ेदार है लेकिन बंदा सीख दे गया.

नंबरप्लेट पर दारु, कृष, AK56 लिखने वालों को म्यूजियम में काहे नहीं रखवा देते

इन क्रिएटिव लोगों को सुबह-शाम अगरबत्ती दिखाई जानी चाहिए और इनको देखने के लिए टिकट लगना चाहिए.

पहले गोली मारी, फिर फेसबुक लाइव में लाश के पास नाचा-गाया

5 गैंगस्टर की इस हरकत से सहम गया है पंजाब का संगरूर

वैलेंटाइन्स डे पर भगवान कृष्ण को मिल रहा है सरप्राइज गिफ्ट

इंसान जो है, वो हर चीज को अपने जरूरत के हिसाब से देखता है, भगवान भी उन्हीं में से एक हैं.

एक लड्डू खाने से डेढ़ महीने तक देशभक्ति बढ़ी रहती है

दिल्ली एमसीडी के जो फैसले हैं न दोस्त, सुन लो, लॉजिक छितरा जाएंगे.

स्मगलिंग के लिए सबसे भरोसेमंद है भारत की सरकारी डाक

डाकिया डाक लाया, मगर ये क्या लाया? आइला ये तो जानवर है.

वैलेंटाइन्स डे पर छिंदवाड़ा कलेक्टर का आदेश पढ़ने के बाद पत्थर खोज रहा हूं

उनको मारने के लिए नहीं बल्कि वो पत्थर अपना सिर फोड़ लेने के लिए चाहिए.

राहुल द्रविड़ और उनकी टीम को हर शाम खाने का जुगाड़ करना पड़ रहा है

मोदीजी और कोर्ट के फैसले के कॉकटेल का कमाल है.