Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

2019 फतह करने के लिए पीएम मोदी को तोड़ना होगा इस नेता का तिलिस्म

ऐसा माना जा रहा था कि पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ 2019 तक कोई विपक्ष खड़ा ही नहीं होगा.

पर एक नाम सामने आ रहा है. 2014 के बेंच पर के प्रधानमंत्री उम्मीदवार नीतीश कुमार ने बेहद सधी हुई शुरुआत कर दी है. राष्ट्रपति चुनाव को लेकर जद यू नेता नीतीश गांधी परिवार के घर 10 जनपथ जाकर सोनिया गांधी से मिले हैं. पर ये मीटिंग सिर्फ इसी चुनाव को लेकर नहीं है. कुछ बातें हुई हैं. हाल के दिनों में भाजपा के विजय-रथ के सामने विपक्ष औंधे मुंह लेटा हुआ नजर आ रहा है. पर नीतीश एक तगड़ी उम्मीद जगा रहे हैं.

34829-mlojdhdkhr-1492705433

ये रही 5 वजहें जो बताती हैं क्यों 2019 में नीतीश कुमार एक तगड़ी चुनौती पेश करेंगे:

1. नीतीश कुमार ने वो गलती नहीं की है, जो अरविंद केजरीवाल समेत बाकी नेता कर चुके हैं

एक दूर की कौड़ी के तौर पर अरविंद केजरीवाल को भविष्य में विपक्ष के पीएम उम्मीदवार के रूप में देखा जा रहा था. पर लगातार नरेंद्र मोदी पर हमले कर के अरविंद पीछे हो गए हैं. फिर पंजाब और गोवा में करारी हार के बाद उनकी राजनीति पर निशान लग गया है. राजौरी गार्डन के उपविधानसभा चुनाव में आप पार्टी की जमानत जब्त हो गई. पर नीतीश कुमार ने बुद्धिमता का परिचय दिया है. नरेंद्र मोदी के कामों की बड़ाई कर उन्होंने जनता को अपने खिलाफ नहीं होने दिया है. वो बार-बार ये दिखाते रहते हैं कि विकास को लेकर वो चिंतित हैं.

kejriwal-nitish-kumar

डिमॉनीटाइजेशन के मुद्दे पर भी उन्होंने नरेंद्र मोदी की बड़ाई की. बाकी नेताओं ने आलोचना कर जनता को अपने खिलाफ कर लिया. नीतीश कुमार जनता के मूड को भांपने में कामयाब रहे हैं.

2. विपक्ष के पास ऐसा कोई नेता नहीं है, जो भाजपा के एजेंडे का सामना कर सके

विपक्ष ने अपना ध्यान मोदी पर ही रखा है. वहीं मोदी लगातार फैसले लेकर विपक्ष को पीछे धकेल देते हैं. सोनिया गांधी से अपनी मुलाकात के बाद नीतीश कुमार ने ये कहा कि विपक्ष को अपना एजेंडा बदलना चाहिए. भाजपा की ताकत को नीतीश बखूबी समझते हैं. वो समझते हैं कि विपक्ष को अपने मुद्दे अलग करने चाहिए. सेक्युलर राजनीति की परंपरागत परिभाषा से विपक्ष को घाटा हुआ है. नीतीश कुमार सोशल इंजीनियरिंग के मास्टर हैं. वहीं अगर विपक्ष के बाकी नेताओं को देखें तो अखिलेश यादव, मायावती, ममता बनर्जी और राहुल गांधी अपनी पार्टी में तो ऊपर हैं, लेकिन बाकी पार्टियां उनको लेकर संशय में हैं. नीतीश पर विपक्ष तैयार हो सकता है.

3. नीतीश एजेंडा तय करना जानते हैं

लालू प्रसाद यादव को हराने के लिए नीतीश ने विकास का मॉडल गढ़ा था. विकास का मॉडल लेकर नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बन गए. पर नीतीश के तीसरे कार्यकाल में विकास का शब्द थोड़ा पीछे हो गया है. पर उन्होंने शराबबंदी को अपनी सफलता में शामिल कर लिया है. इस चीज को नरेंद्र मोदी ने भी मुख्यमंत्री रहते हुए खूब भुनाया था. नीतीश ने तो दूसरे राज्यों में भी इसका प्रचार किया है. एक तरफ शराब पीना किसी व्यक्ति की चॉइस है, पर ये भी सच है कि समाज का एक बड़ा तबका शराब की समस्या से ग्रसित है. खास तौर से कामगार समाज में महिलाएं मर्दों की शराब की आदतों से त्रस्त रहती हैं. उनके लिए शराबबंदी काफी राहत देने वाली चीज है.

modi-nitish.Sub_.01

4. नीतीश कुमार ने अपनी योग्यता को साबित किया है

बिहार चुनाव से पहले ऐसा लग रहा था कि नरेंद्र मोदी को रोक सकना असंभव है. पर नीतीश ने एक असंभव सा कदम उठाकर लालू प्रसाद यादव के साथ हाथ मिला लिया. ये भले उनकी राजनीतिक विचारधारा के खिलाफ गया, पर राजनीति के हिसाब से बेहद चतुर कदम था. भाजपा लगातार अपनी धुर विरोधी कांग्रेस के नेताओं को पार्टी में शामिल करती जा रही है. ना सिर्फ शामिल किया है, बल्कि असम, उत्तराखंड के चुनावों में जीत भी हासिल की है. यहां तक कि बूढ़े नेता एस एम कृष्णा को भी शामिल कर लिया. इस राजनीति को नीतीश खूब समझते हैं. यूपी के चुनाव में अखिलेश यादव और मायावती यही काम नहीं कर पाए. पर अब दोनों ही विपक्ष के गठबंधन में शामिल होने के हिंट देते रहते हैं.

5. सबसे बड़ी चीज है नीतीश का अंदाज

NITISH AT SAMPARK YATRA

अभी राजनीति में तेज बोलने वाले लोग खूब छा रहे हैं. हर नेता चिल्लाना चाहता है. अगर आप दिल्ली एमसीडी चुनावों के प्रचार को देख लें तो ये पता चल जाता है कि लगभग हर दूसरा नेता नरेंद्र मोदी की तरह बोलना चाह रहा है. अरविंद केजरीवाल भी इसी तरह बोलते हैं. पर कम शब्दों में आराम से बात करने वाले नेता बहुत कम हैं. नीतीश कुमार इन चीजों में आगे हैं. उनका अंदाज भरोसा जताने वाला है. गंभीरता से अपनी बात रखना जानते हैं. पॉलिटिकली करेक्ट नेता हैं. उन पर फालतू बोलने का कोई आरोप नहीं लगा है. पीएम उम्मीदवार के रूप में उनकी बिहार वाली स्ट्रैटजी काम कर सकती है कि बाकी नेता अंधाधुंध हमले करें और नीतीश अपने अंदाज में क्रेडिबिलिटी बढ़ाते जाएं.

Also Read:

चंबल का ये गांव नदी से तैरती हुई लाशें हटा कर पानी भरता है

जिनको ‘क्रूरता’ के लिए याद रखा गया, उन्होंने लता मंगेशकर को सोने का कुंडल इनाम दिया

क्या न्यूक्लियर युद्ध में सब मारे जाएंगे? पढ़िए एटम बम से जुड़े दस बड़े झूठ

वो 9 लोग जो पिछले तीन साल से पीएम मोदी के सारे काम देख रहे हैं

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मेट्रो में सीट पाने वाले ऑस्ट्रेलियाई पीएम टर्नबुल एहसान भूले, भारत के साथ खेल कर दिया

यहां मंदिर में सीढ़ियों पर बैठकर फोटो खिंचाई थी. वहां पहुंचकर भारतीयों का पत्ता काट गए.

दो जगह हुई बछड़ोंं की मौत और पंचायत ने दिए दंग करने वाले फैसले

एक जगह दलित निशाना बना तो दूसरी जगह दो बच्चे.

क्या है कश्मीर में सैनिकों के अत्याचार के वीडियो का सच?

एक के बाद एक वीडियो वायरल हो रहा है. किसी वीडियो को शेयर करने से पहले इसे ज़रूर पढ़ें.

कॉलेज के कैंपस प्लेसमेंट से सरकारी नौकरी मिलनी बंद होने वाली है

कानून मंत्रालय का फैसला. 'डे फोर' तक रुको या सालभर कंपनी नहीं आएगी.

जिसे आप मशहूर हिरोइन समझते थे, वो तस्कर निकली

आंध्र के जंगल से हॉन्ग कॉन्ग पहुंचने तक लकड़ी की कीमत 20 गुना बढ़ जाती है.

अमेरिका ने अफगानिस्तान पर गिराया सारे बमों का बाप, जानें 5 बातें

इस एक बम की लागत होती है 110 करोड़ रुपये.

राजौरी गार्डन हार के बाद AAP को अगली बुरी खबर कुमार विश्वास से मिलेगी!

कुमार विश्वास की गतिविधियां इशारा कर रही हैं कि वह कोई बड़ा राजनीतिक फैसला ले सकते हैं.

उपचुनाव 2017ः दिल्ली में आम आदमी पार्टी की ज़मानत ज़ब्त

आठ राज्यों में उप चुनावों के रुझान आने शुरू हो गए हैं.

क्या सजा-ए-मौत के पहले ही पाकिस्तान ने कुलभूषण को मार डाला है?

क्या मौत की सजा सच्चाई को दफनाने के लिए एक ढोंग भर है?

पाकी टॉकी

जब आप भीड़ बनते हैं, तब आपके अंदर का राक्षस जल्दी बाहर आता है

पाकिस्तान में ईशनिंदा के शक़ में छात्र को पीट-पीट कर मार डाला गया.

यहां गलती मर्द करे, हर्जाना औरत या बच्ची को शादी करके चुकाना पड़ता है

क्या है ये 'वानी' रस्म, जिसमें अपनी घर की लड़की या बच्ची को दुश्मन के हवाले कर दिया जाता है

ये पाकिस्तानी बंदा कुलभूषण को फांसी के खिलाफ है और गाली खा रहा है

कहीं आप भी इस बंदे का मजाक तो नहीं उड़ाते थे?

पेट दर्द का बहाना लेकर देश से भाग जाने की फ़िराक में है पाकिस्तानी पीएम!

क्या सच में शरीफ बहाना ले रहे हैं.

अप्रैल फ़ूल पर सबसे गंदा मजाक पाकिस्तान के पूर्व मंत्री से हुआ है

एक साथ तीन लोगों के साथ कांड हो गया. आपको पता चला?

उसने कहा- हम पर ज़ुल्म हो रहा है, अगले दिन उसे मार दिया गया

इनके लिए खुद को मुसलमान कहने का मतलब है मौत को दावत देना.

इस पाकिस्तानी औरत का घर है या फिर 'मुग़ल गार्डन'?

लुबाबा अब्बास पौधों को ऐसे रखती हैं जैसे बच्चों को.

पाकिस्तान में एक खास तरह के पोस्ट डिलीट कर रहा फेसबुक

25 एक्सपर्ट्स की एक टीम लगी है काम पर.

भारत के खिलाफ पाकिस्तान में झूठ फैला रहे थे, इलाहाबाद पुलिस ने धो दिया

ट्वीट करने वाले साहब खुद को खैबर पख्तूनख्वा सरकार का चेयरमैन बताए हैं.

असली शेर पर सवार होकर बारात में पहुंचा दूल्हा, लेकिन एक लोचा हो गया

पूरा सोने के गहनों से लद फंद के छम्मा छम्मा करते हुए गए थे. वीडियो देखो.

भौंचक

रातोरात 40 लाख लोग अंधेपन से मुक्त हुए, ऐसा क्या कर दिया मोदी सरकार ने

अचानक अंधे लोगों की संख्या 1.2 करोड़ से घटकर 80 लाख हो गई है.

झारखंड का 'गूगल बॉय', जिसकी याददाश्त हैरान करने वाली है

होनहार वीरवान के होत चीकने पात.

गुमशुदा हुई सड़क को ढूंढ निकालने पर 10 हज़ार रुपये का इनाम

दिल्ली की एक सड़क तीन साल से लापता है.

राष्ट्रपति, चिप, हाई कोर्ट, सिम कार्डः ये इस गांव के लोगों के नाम हैं

और आपको लगता था कि 'टैंजेंट' और 'डेफिनेट' ही क्रांति लाएंगे.

अब रविंद्र गायकवाड़ वो काम कर रहे हैं, जो 70s का विलेन करता था

आसमान में उड़ना तो दूर, उनका जमीन पर चलना भी मुश्किल हो गया है.

12वीं की किताब जब महिलाओं का बेस्ट फिगर बताने लगे तो इस सिस्टम को सलाम

ये किताब लिखने वाले ने एजूकेशन के सिस्टम में क्रांतिकारी परिवर्तन किया है.

जंगल वो जगह है, जहां बिल्ली भी लोमड़ी को घुड़क देती है

तस्वीरों में देखिए, जंगल कितना सुंदर होता है.

इंजीनियर का दिमाग घूम जाए तो वो कुछ भी कर सकता है

प्यार मोहब्बत की तलाश से इतने तंग आ गए कि इन्होंने कांड कर दिया.

कितने लोग PM ऑफिस पर भरोसा करते हैं, इसका आंकड़ा चौंकाने वाला है

एक सर्वे हुआ है जिसके नतीजे चौंकाने वाले हैं.