Submit your post

Subscribe

Follow Us

'मनमोहन थे मौन, सोनिया थीं पीएम,' मोदी सरकार के हाथ लग गईं फाइलें

राजनीति में किस्सों को मौत नहीं आती. कब गढ़े मुर्दे उखाड़ कर सामने रख दिए जाएं नहीं पता. और ये मुर्दे आपका पीछा नहीं छोड़ते. अब मोदी सरकार कुछ खुलासा करने वाली है. और ये खुलासा वही है जो आपने खुद कई बार सुना होगा. वो ये कि यूपीए के दौरान प्रधानमंत्री मनमोहन नहीं बल्कि सोनिया गांधी सरकार चला रही थीं. मोदी सरकार को कुछ फाइलें हाथ लग गई हैं.  

मनमोहन सिंह सोनिया गांधी के दबाव में काम कर रहे थे. इस बात को साबित करते हुए मोदी सरकार 710 फाइलें सामने लाने के लिए सोच विचार कर रही है. ये फाइलें सोनिया गांधी की अध्यक्षता में बनी राष्ट्रीय सलाहकार परिषद (NAC) की हैं. जानकारी के मुताबिक इन फाइलों से ये क्लियर हो जाएगा कि मनमोहन किस तरह सोनिया गांधी के दबाव में काम कर रहे थे. और सोनिया गांधी का ये दबदबा पूरे 10 साल बना रहा. काम सोनिया गांधी करती रहीं और गलतियों का ठीकरा मनमोहन सिंह पर फूटता रहा.

2004 से 2014 तक चली राष्ट्रीय सलाहकार परिषद् की चेयरमैन खुद सोनिया गांधी थीं. द न्यू इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक यूपीए सरकार के दौरान में ‘NAC’ कोयला, उर्जा, डिसइन्वेस्टमेंट, रियल एस्टेट, गवर्नेंस, सोशल और इंडस्ट्रियल सेक्टर के लिए बनने वाली सरकारी पॉलिसी में दखलअंदाजी करती थी. यानी सोनिया गांधी बिना किसी जवाबदेही के ही सरकार को पूरी तरह कंट्रोल किए हुए थीं.

खबर में दावा किया गया है कि यूपीए सरकार NAC के ही इशारों पर चल रही थी. NAC सेंटर गवर्मेंट के किसी भी अफसर को 2 मोती लाल नेहरू प्लेस में बने ऑफिस में हाजिर होने का ऑर्डर जारी कर देती थीं. मंत्रियों को लैटर लिखकर उनसे रिपोर्ट मांगी जाती थी. जबकि NAC को गठित करते हुए कहा गया था कि यह सिर्फ सरकार को सलाह देने के लिए बनाई गई है. खबर में ये भी दावा किया गया है कि फाइलों से मिली जानकारी के मुताबिक मनमोहन सरकार के पास NAC के ऑर्डर को मानने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं था. और परिषद की सिफारिशों को लागू कर दिया जाता था.

एक फाइल के हवाले से छापा गया है कि 29 अक्टूबर 2005 को राष्ट्रीय सलाहकार परिषद की बैठक हुई, जिसमें फैसला लिया गया, ‘समिति की तमाम सिफारिशों को लागू कराने की ज़िम्मेदारी सरकारी एजेंसियों और संस्थाओं की होगी. साथ ही इसकी स्वतंत्रतापूर्वक निगरानी और मूल्यांकन भी किया जाएगा.’ सवाल ये भी है कि क्या कांग्रेस अध्यक्ष और NAC की चेयरमैन सोनिया गांधी प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर यकीन नहीं करती थीं, क्योंकि सिफारिशें लागू करने के ऑर्डर के अलावा परिषद उन पर निगरानी भी रखने की बात कहती थी.

फाइलों में स्पष्ट है कि राष्ट्रीय सलाहाकार परिषद कई एजेडों पर अपनी सिफारिशें सरकार को भेजती थी. जैसे 21 फरवरी 2014 में सरकार को एक चिट्ठी लिखी गई, ‘जिसमें लिखा था, ‘NAC चेयरमैन की ओर से नॉर्थ-ईस्ट में खेलों को बढ़ावा देने से संबंधित सिफारिश सरकार को भेज दी गई है.’ रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि देश में सहकारिता के विकास पर भी सिफारिशें सरकार को भेजी जाती रही हैं. जिसे सोनिया गांधी ने इजाज़त दी थी.

ये खुलासे कांग्रेस के लिए मुसीबत खड़ी कर सकते हैं, क्योंकि पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव सिर पर आ गए हैं. ऐसे में गढ़े मुर्दे बाहर आते हैं तो घबराहट बढ़नी तो तय है.


 

पहली बार सोनिया गांधी ने शेयर किए अपने पर्सनल किस्से

इमरजेंसी के ऐलान के दिन क्या-क्या हुआ था, अंदर की कहानी

अंदर की कहानी: जब गांधी परिवार की सास-बहू में हुई गाली-गलौज

क्या सच में इंदिरा गांधी को ‘दुर्गा’ कहा था अटल बिहारी वाजपेयी ने?

खुद को ‘बदसूरत’ समझती थीं इंदिरा गांधी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

27 साल बाद इस गांव के दलित खेलेंगे होली, क्योंकि अदालत ने इंसाफ दिया है

दलित की मौत पर धरने पर बैठी थीं मायावती, लेकिन सीएम बनने पर भी कुछ किया नहीं. अब 27 साल बाद आया है फैसला.

टी-20 वर्ल्ड कप हराने वाले बॉलर को IPL में सबसे ज़्यादा पैसे मिले हैं!

अफ़ग़ानिस्तान के प्लेयर्स पहली बार दिखेंगे आईपीएल में.

बीफ पर फिर हंगामा, नोटों में चर्बी मिले होने की बात दुहराई गई

ये मामला देश और समाज की बाउंड्री लांघ गया है.

अब राज्यों के बीच का भेदभाव मिटेगा, हम सब 'इंडियन' होंगे

सरकार ला सकती है कानून. फिलहाल सुझाव है, लेकिन बढ़िया है.

ट्रैफिक ने एक आदमी को किडनैपिंग से बचाया

किडनैपरों की बेरहमी CCTV में कैद हो गई.

वेद प्रकाश शर्मा : जिसने साहित्य को बस स्टैंड और गद्दे के नीचे तक पहुंचा दिया

जिसकी एक किताब की बिक्री में हिंदी के लगभग सारे लेखक आ जाएंगे, वो नहीं रहे.

अपनी शादी में पूर्णिया में प्लेन उतारा, अब दूसरों की बग्घी छीन रही हैं

मैरिज बिल को लेकर चर्चा में हैं रंजीत

तो 'स्वच्छ भारत अभियान' की सच्चाई बंधुआ मजदूरी है?

टॉयलेट बनवाने वाले आज बंधक हैं, बिना खाए मजदूरी कर रहे हैं.

गूगल जैसी कंपनियों ने बढ़ाया ये अपराध, पर सुप्रीम कोर्ट ने चला दी इनपे आरी

भारत में इसके लिए कड़े कानून हैं, पर लोग नजर बचा कर निकल जाते हैं.

इस बीजेपी सीएम की बातें सुनकर लग रहा है दिमाग में अफीम के बाग उग आए हैं

एक बार सुनिए. आपके कदम लड़खड़ाने लगेंगे.

पाकी टॉकी

पाक ने हाफ़िज़ सईद को आतंकी माना, बस एक काम बाकी है

खुद की बिल्ली खुद को ही नाखून मारने लगी तो कलस कर पाकिस्तान ने कड़े कदम उठाए.

पाकिस्तान जो अब कर रहा है वो पहले ही कर देना चाहिए था

हमें भी दुआ करनी चाहिए कि जो कर रहा है उसका सफाया हो जाए.

एक दिन 'नैचुरल डेथ' न बन जाए हर पाकिस्तानी का अधूरा सपना!

जिस पाकिस्तान में ओसामा बिन लादेन सेफ नहीं, वहां जनता क्या होगी.

पाकिस्तान में बन रहा नया उसूल, रसूल के नाम पर किसी को जान से ना मारो

पाकिस्तानी सरकार ईशनिंदा कानून पर दोबारा सोच रही है पर हजारों लोग एक हत्यारे की मजार पर शीश नवाने जा रहे हैं.

इससे अच्छी लव स्टोरी इस वैलेंटाइन्स वीक नहीं मिलेगी

सनोबर और उनके पति संघर्ष और जिंदगी की मिसाल हैं.

रिश्तेदार को नहीं पसंद थी परिवार का पेट भरती लड़की, तो गोली मार दी

वहां कसाब जैसा कोई घर से निकलता है तो बुरा नहीं लगता, नौकरी करती लड़की इज्जत में दाग लगाती है.

हाफिज सईद ने बदला अपने ग्रुप का नाम, इशारा सीधा कश्मीर की ओर

पाकिस्तान बेहद खतरनाक तरीके से खुद के साथ भारत को भी फंसा रहा है.

वर्ल्ड का ये पहला मुल्क है जिसका नेता इसे अमेरिका की बैन लिस्ट में डालने को कह रहा है

डॉनल्ड ट्रंप के बैन वाला ये आठवां मुल्क हुआ तो हिंदुस्तान में बहुत प्रसाद बंटेगा.

वो दिन जब 'पाकिस्तान' शब्द से दुनिया वाकिफ हुई थी

क्या आपको पता है कि भारत में इसी नाम की मैजगीन भी निकलती थी?

भौंचक

हल्दी है, चंदन है, रिश्तों का बंधन है, बकरियों के स्वयंवर में आपका अभिनंदन है

'दीपिका' 'कैटरीना' और 'प्रियंका' की शादी हो रही है, 24 तारीख को.

बेलारूस के पत्रकार के रास्ते पर चले तो हमारे कई ऐंकर्स तो बेहाल हो जाएंगे

ये वीडियो भले ही मज़ेदार है लेकिन बंदा सीख दे गया.

नंबरप्लेट पर दारु, कृष, AK56 लिखने वालों को म्यूजियम में काहे नहीं रखवा देते

इन क्रिएटिव लोगों को सुबह-शाम अगरबत्ती दिखाई जानी चाहिए और इनको देखने के लिए टिकट लगना चाहिए.

पहले गोली मारी, फिर फेसबुक लाइव में लाश के पास नाचा-गाया

5 गैंगस्टर की इस हरकत से सहम गया है पंजाब का संगरूर

वैलेंटाइन्स डे पर भगवान कृष्ण को मिल रहा है सरप्राइज गिफ्ट

इंसान जो है, वो हर चीज को अपने जरूरत के हिसाब से देखता है, भगवान भी उन्हीं में से एक हैं.

एक लड्डू खाने से डेढ़ महीने तक देशभक्ति बढ़ी रहती है

दिल्ली एमसीडी के जो फैसले हैं न दोस्त, सुन लो, लॉजिक छितरा जाएंगे.

स्मगलिंग के लिए सबसे भरोसेमंद है भारत की सरकारी डाक

डाकिया डाक लाया, मगर ये क्या लाया? आइला ये तो जानवर है.

वैलेंटाइन्स डे पर छिंदवाड़ा कलेक्टर का आदेश पढ़ने के बाद पत्थर खोज रहा हूं

उनको मारने के लिए नहीं बल्कि वो पत्थर अपना सिर फोड़ लेने के लिए चाहिए.

राहुल द्रविड़ और उनकी टीम को हर शाम खाने का जुगाड़ करना पड़ रहा है

मोदीजी और कोर्ट के फैसले के कॉकटेल का कमाल है.