Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'मनमोहन थे मौन, सोनिया थीं पीएम,' मोदी सरकार के हाथ लग गईं फाइलें

राजनीति में किस्सों को मौत नहीं आती. कब गढ़े मुर्दे उखाड़ कर सामने रख दिए जाएं नहीं पता. और ये मुर्दे आपका पीछा नहीं छोड़ते. अब मोदी सरकार कुछ खुलासा करने वाली है. और ये खुलासा वही है जो आपने खुद कई बार सुना होगा. वो ये कि यूपीए के दौरान प्रधानमंत्री मनमोहन नहीं बल्कि सोनिया गांधी सरकार चला रही थीं. मोदी सरकार को कुछ फाइलें हाथ लग गई हैं.  

मनमोहन सिंह सोनिया गांधी के दबाव में काम कर रहे थे. इस बात को साबित करते हुए मोदी सरकार 710 फाइलें सामने लाने के लिए सोच विचार कर रही है. ये फाइलें सोनिया गांधी की अध्यक्षता में बनी राष्ट्रीय सलाहकार परिषद (NAC) की हैं. जानकारी के मुताबिक इन फाइलों से ये क्लियर हो जाएगा कि मनमोहन किस तरह सोनिया गांधी के दबाव में काम कर रहे थे. और सोनिया गांधी का ये दबदबा पूरे 10 साल बना रहा. काम सोनिया गांधी करती रहीं और गलतियों का ठीकरा मनमोहन सिंह पर फूटता रहा.

2004 से 2014 तक चली राष्ट्रीय सलाहकार परिषद् की चेयरमैन खुद सोनिया गांधी थीं. द न्यू इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक यूपीए सरकार के दौरान में ‘NAC’ कोयला, उर्जा, डिसइन्वेस्टमेंट, रियल एस्टेट, गवर्नेंस, सोशल और इंडस्ट्रियल सेक्टर के लिए बनने वाली सरकारी पॉलिसी में दखलअंदाजी करती थी. यानी सोनिया गांधी बिना किसी जवाबदेही के ही सरकार को पूरी तरह कंट्रोल किए हुए थीं.

खबर में दावा किया गया है कि यूपीए सरकार NAC के ही इशारों पर चल रही थी. NAC सेंटर गवर्मेंट के किसी भी अफसर को 2 मोती लाल नेहरू प्लेस में बने ऑफिस में हाजिर होने का ऑर्डर जारी कर देती थीं. मंत्रियों को लैटर लिखकर उनसे रिपोर्ट मांगी जाती थी. जबकि NAC को गठित करते हुए कहा गया था कि यह सिर्फ सरकार को सलाह देने के लिए बनाई गई है. खबर में ये भी दावा किया गया है कि फाइलों से मिली जानकारी के मुताबिक मनमोहन सरकार के पास NAC के ऑर्डर को मानने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं था. और परिषद की सिफारिशों को लागू कर दिया जाता था.

एक फाइल के हवाले से छापा गया है कि 29 अक्टूबर 2005 को राष्ट्रीय सलाहकार परिषद की बैठक हुई, जिसमें फैसला लिया गया, ‘समिति की तमाम सिफारिशों को लागू कराने की ज़िम्मेदारी सरकारी एजेंसियों और संस्थाओं की होगी. साथ ही इसकी स्वतंत्रतापूर्वक निगरानी और मूल्यांकन भी किया जाएगा.’ सवाल ये भी है कि क्या कांग्रेस अध्यक्ष और NAC की चेयरमैन सोनिया गांधी प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर यकीन नहीं करती थीं, क्योंकि सिफारिशें लागू करने के ऑर्डर के अलावा परिषद उन पर निगरानी भी रखने की बात कहती थी.

फाइलों में स्पष्ट है कि राष्ट्रीय सलाहाकार परिषद कई एजेडों पर अपनी सिफारिशें सरकार को भेजती थी. जैसे 21 फरवरी 2014 में सरकार को एक चिट्ठी लिखी गई, ‘जिसमें लिखा था, ‘NAC चेयरमैन की ओर से नॉर्थ-ईस्ट में खेलों को बढ़ावा देने से संबंधित सिफारिश सरकार को भेज दी गई है.’ रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि देश में सहकारिता के विकास पर भी सिफारिशें सरकार को भेजी जाती रही हैं. जिसे सोनिया गांधी ने इजाज़त दी थी.

ये खुलासे कांग्रेस के लिए मुसीबत खड़ी कर सकते हैं, क्योंकि पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव सिर पर आ गए हैं. ऐसे में गढ़े मुर्दे बाहर आते हैं तो घबराहट बढ़नी तो तय है.


 

पहली बार सोनिया गांधी ने शेयर किए अपने पर्सनल किस्से

इमरजेंसी के ऐलान के दिन क्या-क्या हुआ था, अंदर की कहानी

अंदर की कहानी: जब गांधी परिवार की सास-बहू में हुई गाली-गलौज

क्या सच में इंदिरा गांधी को ‘दुर्गा’ कहा था अटल बिहारी वाजपेयी ने?

खुद को ‘बदसूरत’ समझती थीं इंदिरा गांधी

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

जब नेहरू जी को रहना पड़ा था मवेशियों के रहने की जगह पर

पेन चुराने के लिए पड़ी थी मार.

BCCI कुम्बले से नाराज़ है, इस खबर का सच क्या है?

कुम्बले को काहे निकालने की प्लानिंग कर रहे हो मियां?

2019 में यूपी नहीं, इन जगहों पर है अमित शाह की नजर, जानिए पूरा प्लान

भारत के 6 हिस्सों में भाजपा अपनी पकड़ बनाने की कोशिश कर रही है.

पीएम मोदी के अफसरों के लिए बुरी खबर, कुछ भी करने से पहले 100 बार सोचेंगे!

पीएम मोदी अपने अफसरों पर बहुत भरोसा जताते हैं.

शोएब मलिक, आपको मोहम्मद शमी के धर्म को बीच में लाने की क्या ज़रूरत थी?

अपनी भद्द खुद ही पिटवाने का ठेका ले लिया है तो और बात है.

एटीएम के बारे में व्हाट्सैप पर फैल रहे मेसेज की सच्चाई क्या है?

आपसे अनुरोध है कि मोदी सरकार को लानतें भेजने से पहले गूगल कर लिया करें.

फेसबुक की ये दोस्ती शर्मनाक है

13 साल के लड़के ने मां बाप का सेक्स वीडियो बनाकर फेसबुक फ्रेंड को भेज दिया. ये खबर सबके लिए नसीहत भी है.

आर्मी में भर्ती होने के लिए 'फर्जी सिख' क्यों बन रहे हैं हरियाणवी

आर्मी अफसरों का कहना है ये खतरनाक ट्रेंड है.

हिंदुस्तान के इस सबसे लंबे पुल का आज फीता कटा है

इस पर आपकी लूना के साथ फौज के टैंक भी मस्त दौड़ सकते हैं.

जेवर गैंगरेप के बाद ये लगने लगा है कि यूपी में भाजपा सरकार बननी चाहिए

"बहुत हुआ महिलाओं पर वार, अबकी बार भाजपा सरकार."

पाकी टॉकी

क्या पाकिस्तान से कुलभूषण जाधव की मौत की खबर आने वाली है?

पाकिस्तान की हरकतें इसी तरफ इशारा कर रही हैं.

पाकिस्तान में रमज़ान को लेकर ऐसा कानून बनाया गया है जो बेहूदा है

'पाकिस्तान में आतंकी घूम सकते हैं, लेकिन रोजेदार के सामने कुछ खाया तो जेल में होगा.'

'द गॉडफादर' ने इस्लामिक पाकिस्तान की राजनीति में बवाल मचा दिया

पाक पीएम नवाज़ शरीफ के लिए ये नई मुसीबत है.

आज जिसको पहला पाकिस्तानी बताया जा रहा है, वो बैल की चमड़ी में सिलकर सीरिया भेजा गया था

पाक के मुताबिक मुहम्मद अली जिन्ना नहीं थे पहले पाकिस्तानी.

भीड़ इस आदमी को मार डालती, अगर मौलवी और एक जवान उसे नहीं बचाता

वीडियो में उन्मादी भीड़ देखकर खौफ आता है. कौन सी दुनिया रच रहे हैं ये लोग.

इमाम के कहने पर बुर्कापोश तीन बहनों ने 'कथित ईशनिंदा' करने वाले को मार डाला

जिसे मारा, पहले उसके बाप से आशीर्वाद लिया. फिर सामने ही उनके बेटे को गोलियों से भून दिया.

जब आप भीड़ बनते हैं, तब आपके अंदर का राक्षस जल्दी बाहर आता है

पाकिस्तान में ईशनिंदा के शक़ में छात्र को पीट-पीट कर मार डाला गया.

यहां गलती मर्द करे, हर्जाना औरत या बच्ची को शादी करके चुकाना पड़ता है

क्या है ये 'वानी' रस्म, जिसमें अपनी घर की लड़की या बच्ची को दुश्मन के हवाले कर दिया जाता है

ये पाकिस्तानी बंदा कुलभूषण को फांसी के खिलाफ है और गाली खा रहा है

कहीं आप भी इस बंदे का मजाक तो नहीं उड़ाते थे?

पेट दर्द का बहाना लेकर देश से भाग जाने की फ़िराक में है पाकिस्तानी पीएम!

क्या सच में शरीफ बहाना ले रहे हैं.

भौंचक

आपको पता है इंडियन रेलवे ने सबसे महंगा टिकट कितने का बेचा है?

और जो अमाउंट है, वो इतना कि सुनकर आप यकीन भी न कर पाएंगे.

रेप करने चला था औरत ने लिंग काट लिया

और महिला पर कोई केस भी नहीं होगा क्योंकि उसने जो भी किया खुद को बचाने के लिए किया.

ये सद्दाम हुसैन लादेन के लिए आधार कार्ड बनाने चले थे

कि कहीं वो ज़िंदा हुआ तो उसे जियो की सिम लेने में तकलीफ न हो.

एक दिन में सबसे ज़्यादा रन तब मारे गए थे, जब फटाफट क्रिकेट का नामोनिशान भी नहीं था

ये काम करना क्रिस गेल, वॉर्नर जैसे बल्लेबाज़ों के भी बस का नहीं. आज ही के दिन हुआ था ये कारनामा.

गायकवाड़ पार्ट 2ः शिवसेना पार्षद ने विधायक 'बन' कर किसानों की सभा ले ली

शिवसेना हमशक्लों वाली पार्टी बनती जा रही है.

सेल्फी खींच लो, कहीं आग बुझ ना जाए

उन्हें लगा होगा कि आग-वाग तो बुझती रहेगी, लेकिन ऐसा मौका कहां मिलता है? तुरंत जेब से फोन निकाला और चट्ट से सेल्फी खींच ली.

'फैन' पिक्चर देखी है? ये उसकी रियल लाइफ कहानी है

भारी पड़ गया एक लड़के को इस मशहूर व्यक्ति जैसा दिखना.

नाक की गूजी खाएंगे तो सेहत अच्छी रहेगी, सच में

गाली देने के पहले खबर पढ़ लेना.