Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'मनमोहन थे मौन, सोनिया थीं पीएम,' मोदी सरकार के हाथ लग गईं फाइलें

राजनीति में किस्सों को मौत नहीं आती. कब गढ़े मुर्दे उखाड़ कर सामने रख दिए जाएं नहीं पता. और ये मुर्दे आपका पीछा नहीं छोड़ते. अब मोदी सरकार कुछ खुलासा करने वाली है. और ये खुलासा वही है जो आपने खुद कई बार सुना होगा. वो ये कि यूपीए के दौरान प्रधानमंत्री मनमोहन नहीं बल्कि सोनिया गांधी सरकार चला रही थीं. मोदी सरकार को कुछ फाइलें हाथ लग गई हैं.  

मनमोहन सिंह सोनिया गांधी के दबाव में काम कर रहे थे. इस बात को साबित करते हुए मोदी सरकार 710 फाइलें सामने लाने के लिए सोच विचार कर रही है. ये फाइलें सोनिया गांधी की अध्यक्षता में बनी राष्ट्रीय सलाहकार परिषद (NAC) की हैं. जानकारी के मुताबिक इन फाइलों से ये क्लियर हो जाएगा कि मनमोहन किस तरह सोनिया गांधी के दबाव में काम कर रहे थे. और सोनिया गांधी का ये दबदबा पूरे 10 साल बना रहा. काम सोनिया गांधी करती रहीं और गलतियों का ठीकरा मनमोहन सिंह पर फूटता रहा.

2004 से 2014 तक चली राष्ट्रीय सलाहकार परिषद् की चेयरमैन खुद सोनिया गांधी थीं. द न्यू इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक यूपीए सरकार के दौरान में ‘NAC’ कोयला, उर्जा, डिसइन्वेस्टमेंट, रियल एस्टेट, गवर्नेंस, सोशल और इंडस्ट्रियल सेक्टर के लिए बनने वाली सरकारी पॉलिसी में दखलअंदाजी करती थी. यानी सोनिया गांधी बिना किसी जवाबदेही के ही सरकार को पूरी तरह कंट्रोल किए हुए थीं.

खबर में दावा किया गया है कि यूपीए सरकार NAC के ही इशारों पर चल रही थी. NAC सेंटर गवर्मेंट के किसी भी अफसर को 2 मोती लाल नेहरू प्लेस में बने ऑफिस में हाजिर होने का ऑर्डर जारी कर देती थीं. मंत्रियों को लैटर लिखकर उनसे रिपोर्ट मांगी जाती थी. जबकि NAC को गठित करते हुए कहा गया था कि यह सिर्फ सरकार को सलाह देने के लिए बनाई गई है. खबर में ये भी दावा किया गया है कि फाइलों से मिली जानकारी के मुताबिक मनमोहन सरकार के पास NAC के ऑर्डर को मानने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं था. और परिषद की सिफारिशों को लागू कर दिया जाता था.

एक फाइल के हवाले से छापा गया है कि 29 अक्टूबर 2005 को राष्ट्रीय सलाहकार परिषद की बैठक हुई, जिसमें फैसला लिया गया, ‘समिति की तमाम सिफारिशों को लागू कराने की ज़िम्मेदारी सरकारी एजेंसियों और संस्थाओं की होगी. साथ ही इसकी स्वतंत्रतापूर्वक निगरानी और मूल्यांकन भी किया जाएगा.’ सवाल ये भी है कि क्या कांग्रेस अध्यक्ष और NAC की चेयरमैन सोनिया गांधी प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर यकीन नहीं करती थीं, क्योंकि सिफारिशें लागू करने के ऑर्डर के अलावा परिषद उन पर निगरानी भी रखने की बात कहती थी.

फाइलों में स्पष्ट है कि राष्ट्रीय सलाहाकार परिषद कई एजेडों पर अपनी सिफारिशें सरकार को भेजती थी. जैसे 21 फरवरी 2014 में सरकार को एक चिट्ठी लिखी गई, ‘जिसमें लिखा था, ‘NAC चेयरमैन की ओर से नॉर्थ-ईस्ट में खेलों को बढ़ावा देने से संबंधित सिफारिश सरकार को भेज दी गई है.’ रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि देश में सहकारिता के विकास पर भी सिफारिशें सरकार को भेजी जाती रही हैं. जिसे सोनिया गांधी ने इजाज़त दी थी.

ये खुलासे कांग्रेस के लिए मुसीबत खड़ी कर सकते हैं, क्योंकि पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव सिर पर आ गए हैं. ऐसे में गढ़े मुर्दे बाहर आते हैं तो घबराहट बढ़नी तो तय है.


 

पहली बार सोनिया गांधी ने शेयर किए अपने पर्सनल किस्से

इमरजेंसी के ऐलान के दिन क्या-क्या हुआ था, अंदर की कहानी

अंदर की कहानी: जब गांधी परिवार की सास-बहू में हुई गाली-गलौज

क्या सच में इंदिरा गांधी को ‘दुर्गा’ कहा था अटल बिहारी वाजपेयी ने?

खुद को ‘बदसूरत’ समझती थीं इंदिरा गांधी

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

दिल्ली के इस नामी हॉस्टल में पानी के लिए तरस रही हैं लड़कियां

पारा 43 डिग्री और हॉस्टल में एक बूंद पानी नहीं .

जियो ने महाआलसी लोगों के लिए भी प्लान लॉन्च कर दिया है

ये प्लान उनके लिए है जो रोज रिचार्ज कूपन खरीदने दुकान पर नहीं खड़े रहते.

अक्षय कुमार ने अबकी वो काम किया है, जो बॉलीवुड के इतिहास में नहीं हुआ है

बहुत लोगों का जीवन बन जाएगा इस काम से.

खुद गंभीर बता रहे हैं, क्या है दिल्ली का गालियों से रिश्ता

याद है पाकिस्तान के खिलाफ मैच जहां शाहिद आफरीदी की आंखों में आंखें डालकर गंभीर ने कुछ ऐसा बोला था

भगवा दुपट्टा नहीं, ये चीजें लेकर ताजमहल में घुसना वाकई प्लान चौपट कर सकता है

दो दिन इल्जाम लगा कि वहां आई विदेशी लड़कियों से भगवा दुपट्टे उतरवा लिए गए.

Video: जम्मू में बुजुर्ग और बच्ची को गाय के नाम पर पीटा गौ-गुंडों ने

सड़क पर चलता जो भी इंसान गाय के साथ दिख जाए वो इनके लिए गाय का तस्कर ही होगा.

लड़के को पता नहीं था लेबर पेन कैसा होता है, अब पता लग गया

वीडियो: 20 सेकंड भी न टिक सके जनाब.

नेशनल लेवल महिला खिलाड़ी के पति ने फोन पर दिया तलाक

शुमैला ने बेटी को जन्म दिया. पति को अच्छा नहीं लगा.

अब भैंस बेचने वालों को पीटा, मेनका गांधी के NGO पर आरोप

ये मामला किसी दूर गांव का नहीं, साउथ दिल्ली की मेन रोड का है.

इस सरकारी टीचर ने अपनी क्लास के लिए जो किया, वो अद्भुत है

सारे सरकारी मास्साब एक-से नहीं होते. कुछ बहुत अच्छे होते हैं.

पाकी टॉकी

भीड़ इस आदमी को मार डालती, अगर मौलवी और एक जवान उसे नहीं बचाता

वीडियो में उन्मादी भीड़ देखकर खौफ आता है. कौन सी दुनिया रच रहे हैं ये लोग.

इमाम के कहने पर बुर्कापोश तीन बहनों ने 'कथित ईशनिंदा' करने वाले को मार डाला

जिसे मारा, पहले उसके बाप से आशीर्वाद लिया. फिर सामने ही उनके बेटे को गोलियों से भून दिया.

जब आप भीड़ बनते हैं, तब आपके अंदर का राक्षस जल्दी बाहर आता है

पाकिस्तान में ईशनिंदा के शक़ में छात्र को पीट-पीट कर मार डाला गया.

यहां गलती मर्द करे, हर्जाना औरत या बच्ची को शादी करके चुकाना पड़ता है

क्या है ये 'वानी' रस्म, जिसमें अपनी घर की लड़की या बच्ची को दुश्मन के हवाले कर दिया जाता है

ये पाकिस्तानी बंदा कुलभूषण को फांसी के खिलाफ है और गाली खा रहा है

कहीं आप भी इस बंदे का मजाक तो नहीं उड़ाते थे?

पेट दर्द का बहाना लेकर देश से भाग जाने की फ़िराक में है पाकिस्तानी पीएम!

क्या सच में शरीफ बहाना ले रहे हैं.

अप्रैल फ़ूल पर सबसे गंदा मजाक पाकिस्तान के पूर्व मंत्री से हुआ है

एक साथ तीन लोगों के साथ कांड हो गया. आपको पता चला?

उसने कहा- हम पर ज़ुल्म हो रहा है, अगले दिन उसे मार दिया गया

इनके लिए खुद को मुसलमान कहने का मतलब है मौत को दावत देना.

इस पाकिस्तानी औरत का घर है या फिर 'मुग़ल गार्डन'?

लुबाबा अब्बास पौधों को ऐसे रखती हैं जैसे बच्चों को.

पाकिस्तान में एक खास तरह के पोस्ट डिलीट कर रहा फेसबुक

25 एक्सपर्ट्स की एक टीम लगी है काम पर.

भौंचक

पानी को उड़ने से बचाने के लिए मंत्री जी ने डैम को थर्मोकॉल से ढंक दिया

तमिलनाडु के इस मंत्री ने जो किया वो बताता है कि स्कूल में साइंस की क्लास में क्यों सोना नहीं चाहिए.

जर्मनी वालों ने उड़ती कार बना ली, एक 'लेकिन' के साथ

'एक दिन कारें उड़ेंगी' ये सपना है, जो हर साल की शुरुआत में वैज्ञानिक हमें दिखाते हैं.

रातोरात 40 लाख लोग अंधेपन से मुक्त हुए, ऐसा क्या कर दिया मोदी सरकार ने

अचानक अंधे लोगों की संख्या 1.2 करोड़ से घटकर 80 लाख हो गई है.

झारखंड का 'गूगल बॉय', जिसकी याददाश्त हैरान करने वाली है

होनहार वीरवान के होत चीकने पात.

गुमशुदा हुई सड़क को ढूंढ निकालने पर 10 हज़ार रुपये का इनाम

दिल्ली की एक सड़क तीन साल से लापता है.

राष्ट्रपति, चिप, हाई कोर्ट, सिम कार्डः ये इस गांव के लोगों के नाम हैं

और आपको लगता था कि 'टैंजेंट' और 'डेफिनेट' ही क्रांति लाएंगे.

अब रविंद्र गायकवाड़ वो काम कर रहे हैं, जो 70s का विलेन करता था

आसमान में उड़ना तो दूर, उनका जमीन पर चलना भी मुश्किल हो गया है.

12वीं की किताब जब महिलाओं का बेस्ट फिगर बताने लगे तो इस सिस्टम को सलाम

ये किताब लिखने वाले ने एजूकेशन के सिस्टम में क्रांतिकारी परिवर्तन किया है.

जंगल वो जगह है, जहां बिल्ली भी लोमड़ी को घुड़क देती है

तस्वीरों में देखिए, जंगल कितना सुंदर होता है.