Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

ज़ख्मी अमरनाथ यात्रियों को 'खून' देते कश्मीरियों की फोटो पर बवाल क्यों मचा है?

पिछले दिनों अमरनाथ यात्रा के दौरान दो बड़े हादसे हो गए. पहले यात्रियों को ले जा रही एक बस पर आतंकी हमला हो गया जिसमें 8 लोगों की जान गई, फिर संडे को एक बस 100 फीट गहरी खाई में गिर गई. इसमें 17 लोगों की मौत हुई. दोनों हादसों के बाद ज़िम्मेदार एजेंसियां काम पर लगी दिखीं. जो फुर्सत से थे, वो ट्विटर पर लगे रहे – पहले मुसलमानों और कश्मीरियों से आतंकी हमले का हिसाब मांग रहे हैं, अब एक तस्वीर पर झगड़ रहे हैं. वही, जो आपने ऊपर देखी.

ये तस्वीर कश्मीरी अखबार राइज़िंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी ने ट्वीट की थीः

shujat

फोटो के साथ उन्होंने लिखा – युवा कश्मीरी बस हादसे के शिकार हुए अमरनाथ यात्रियों को खून दे रहे हैं और मदद पहुंचा रहे हैं. वेल डन.

शुजात के इस ट्वीट के बाद ट्विटर पर बहस शुरू हो गई कि तस्वीर और शुजात का दिया कैप्शन सही हैं कि नहीं. कुछ लोगों ने सवाल उठाया कि हादसा तो बनिहाल में हुआ था, तो वहां मदद के लिए कश्मीरी कैसे पहुंच गएः

a1

तो कुछ ने कहा कि बात खून देने की हो रही है, और तस्वीर में दिख ग्लूकोज़ की बोतल रही है.

a2

तो ‘देशभक्त’ फॉरेंसिक एक्सपर्ट बन गएः

a3

कुछ लोगों ने इसी बात पर सवाल उठाने शुरू कर दिया कि बनिहाल तो जम्मू डिविज़न में पड़ता है, फिर कश्मीरी लोग वहां कैसे पहुंचेः

a4

 

लेकिन फिर कुछ ट्वीट्स में बात कुछ साफ हुई. बनिहाल और कश्मीरियों में लिंक बताते हुए सज्जाद शाहीन ने ट्वीट कियाः

d1

बनिहाल में कश्मीरियों को लकर हुए ट्वीट्स का जवाब आखिर में शुजात अब्बास ने अपने हैंडल से ट्वीट कियाः

d2

ये भी कहा गया कि तस्वीर में दिख रहे लड़कों ने सलाइन की ही बॉटल पकड़ी थी. लेकिन जब अस्पताल में घायलों को खून देने की बारी आई, तो वहां जाकर खून दिया. 10 जुलाई की रात हुए आतंकी हमले के बाद कश्मीरियों ने घायलों को खून दिया था, जिसे देशभर के मीडिया ने रिपोर्ट भी किया था. ताज़ा मामले में सच क्या है, फिलहाल तय नहीं है. तय बस इतना है कि ट्विटर पर लोगों के पास फुर्सत बहुत है.


ये भी पढ़ेंः

अमरनाथ आतंकी हमला: बस ड्राइवर सलीम ने दी लल्लनटॉप को बताया उस दिन का भयानक एक्सपीरियंस

लल्लनटॉप की ‘फेक’ फोटो का सच

अमरनाथ यात्रा हमले के वक्त बस सलीम चला रहे थे या हर्ष, सच्चाई यहां जानिए

एक अमरनाथ यात्री का आंखों देखा हाल

बजरंग दल के गुंडों से एक हिंदू कुछ कहना चाहता है

इस आदमी की वजह से अमरनाथ यात्रा हमले में बची बहुत से लोगों की जान

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

लकी अली के वो पांच गाने, जिन्हें अक्खा इंडिया गुनगुनाता है

लकी अली ने इंडियन पॉप म्यूजिक की नींव में ईंटे रखी हैं.

48 फिल्म स्टार्स जो अपना असली नाम नहीं बदलते तो बॉलीवुड में नहीं चलते

इनमें साउथ के सितारे भी शामिल हैं. जानें क्या हैं सबके असली नाम. कुछ नाम कल्पना से परे हैं.

हार्दिक पंड्या जब छक्के मारना शुरू करता है, तो मारता ही चला जाता है

एक ही ओवर में तीन-तीन, चार-चार सिक्सर ठोक देता है.

शबाना आज़मी: जिससे नाराज़ नहीं ज़िंदगी, हैरान है!

18 सितंबर यानी शबाना आज़मी का बर्थडे. जानिए क्यों हैं वो आज भी बेमिसाल...

गधों की वो बातें जो उस पर नेतागिरी करने वालों को भी नहीं पता होंगी

आपको पता भी है, गधे का क्या भौकाल था, वो वॉर हीरो बन चुका है, उसका पासपोर्ट बनता है और भी बहुत कुछ.

पहले एयरफोर्स मार्शल अर्जन सिंह के 4 किस्से, जो शरीर में खून की गर्मी बढ़ा देंगे

लाख चाहने के बावजूद अंग्रेज इनके खिलाफ कोर्ट मार्शल में कोई एक्शन नहीं ले पाए थे.

1965 के युद्ध में पाक को धूल चटाने वाले एयर चीफ मार्शल अर्जन सिंह के बारे में 10 बातें

एयर मार्शल अर्जन सिंह का 98 साल की उम्र में निधन हो गया.

वो राइटर, जिसने दिलीप कुमार और शाहरुख़ खान के करियर को पंख लगाए

'देवदास' और 'परिणीता' जैसी नॉवेल्स लिखने वाले शरतचंद्र चट्टोपाध्याय आज ही के दिन पैदा हुए थे.

बिना डिग्री वाले इन इंजीनियर्स ने हमारी गृहस्थी बचा ली!

इंजीनियर्स डे पर इनको भूल न जाना.

पोस्टमॉर्टम हाउस

कमज़ोर सी 'लखनऊ सेंट्रल' क्यों महान फिल्मों की लाइन में खड़ी होती है!

फिल्म रिव्यूः फरहान अख़्तर की - लखनऊ सेंट्रल.

फ़िल्म रिव्यू : सिमरन

दो नेशनल अवॉर्ड विनर्स की एक फ़िल्म.

देवाशीष मखीजा की 'अज्जी' का पहला ट्रेलरः ये फिल्म हिला देगी

इसमें कुछ विजुअल ऐसे हैं जो किसी इंडियन फिल्म में पहले नहीं दिखे.

इस प्लेयर ने KKR के लिए जैसा खेला है वैसा इंडिया के लिए खेले तो जगह पक्की हो जाये

टीम में फिनिशर की कमी है. ये पूरा कर सकता है. हैप्पी बड्डे बोल दीजिए.

फ़िल्म रिव्यू : समीर

मुसलमानों की एक बड़ी मुसीबत को खुले में लाती फ़िल्म.

फ़िल्म रिव्यू : डैडी

मुंबई के गैंगस्टर अरुण गवली के जीवन पर बनी फ़िल्म.

गूगल ने बताया इंडियन मर्द अपनी बीवी के साथ क्या करना चाहते हैं

एक किताब आई है Everybody Lies. इसे लिखा है सेठ स्टीफेंस ने. उसी किताब में लिखी है सारी बातें.

पहलाज को ये लड़की 'नहलानी' थी, इसलिए छोड़ी सरकारी नौकरी!

जूली 2 का ट्रेलर आ गया है, इसके बारे में बता रहे हैं, कान पर हाथ रख लो.