Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

इस आदमी को मॉल में घुसने से रोका गया, वजह जानकर माथा पीट लोगे

कोलकाता में क्वेस्ट मॉल है. मॉल माने मस्ती का अड्डा, सभी जाते ही हैं. इसी मॉल में आशीष अविकुंतक नाम के शख्स को घुसने नहीं दिया गया. आशीष फिल्मकार हैं. उनकी दोस्त देबलीना सेन ने फेसबुक पर पोस्ट लिखकर सारा मामला क्लियर किया.

देबलीना ने लिखा है कि रेस्टोरेंट्स ने पहले मना किया था, अब एक मॉल ने किसी की एंट्री पर रोक लगाई है. धोती कुर्ता पहन रखे शख्स को मॉल में नहीं घुसने दिया गया. इस मॉल में धोती या लुंगी पहनकर अंदर आना मना है. ये बेहद घिनौना भेदभाव है. मॉल के बाहर गार्ड्स ने उनके दोस्त को रोका. फिर वॉकी टॉकी पर बात की. मेरा दोस्त इंगलिश में बहस करने लगा. उसके बाद उसे अंदर जाने दिया गया. अंदर मैनेजमेंट के लोगों ने भी यही कहा कि धोती या लुंगी पहनकर हम किसी को अंदर आने नहीं देते. वो फेसबुक देख ली जाए. वहां गार्ड्स ने वीडियो शूट करने से भी मना किया था लेकिन देबलीना ने कर लिया.

इतना ड्रेस कोड तो मंदिर में भी नहीं होता है भाई. वहां कोई भी कुछ भी पहन के जाता है. लुंगी या धोती तो बेहद खुली होती है यार. उसमें कोई बम भी नहीं छिपा के ला सकता. मॉल वालों को धोती से क्या दिक्कत हो सकती है. कहीं उनको ये तो नहीं लगता कि जो चीज हमारे मॉल में बिक नहीं रही है वो पहन के कोई आ भी नहीं सकता. धोती पहनने से मॉल में घुसने की योग्यता आदमी खो देता है, ये लॉजिक तो कसम से जानलेवा है.

मुंबई मेरी जान नाम की एक फिल्म आई थी. उसमें इरफान खान अपनी फैमिली के साथ मॉल में जाता है. वो बेहद गरीब आदमी होता है इसलिए गार्ड्स उस पर खास नजर रखते हैं. वो जब परफ्यूम छि़ड़कने लगता है तो उसे उठाकर बाहर फेंक दिया जाता है. क्योंकि उसने अपनी औकात से बाहर का सपना देख रखा होता है. फिर वो बदला लेने के लिए मॉल में बम की अफवाह फैला देता है. लेकिन इतने अमानवीय घटनाक्रम में भी उसे गले में रुमाल लपेटने की वजह से मॉल में न घुसने दिया गया हो, ऐसा नहीं होता.


ये भी पढ़ें:

लल्लनटॉप की ‘फेक’ फोटो का सच

क्या ये गाने सच में इतने मुश्किल थे जो हमने हमेशा गलत गाए!

इस बच्ची का शरीर बीमारी की वजह से पेड़ जैसा बनता जा रहा है

क्या बीजेपी का ऑफिशियल ट्विटर हैंडल कोई गौरक्षक चला रहा है?

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इन 10 बातों में जानें कहानी 'बरेली की बर्फी' और उसके बनने की

गुदगुदाने वाली इस फिल्म में आयुष्मान खुराना, राजकुमार राव और कृति सेनन ने काम किया है.

गीता दत्त के 20 बेस्ट गाने, वो वाला भी जिसे लता ने उनके सम्मान में गाया था

इन महान गायिका को बरसी पर याद कर रहे हैं.

आडवाणी ने वेंकैया नायडू से इस मीटिंग में पूछे दर्द भरे सवाल!

वेंकैया नायडू उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनने के बाद काफी भावुक हैं.

सैफ अली खान की फिल्म 'कालाकांडी' की असल कहानी ये है!

छह क्विक बातों में जानें फिल्म के बारे में सबकुछ. नाम जितनी ही टेढ़ी है ये नई फिल्म.

तो इन पांच वजहों से मोदी ने वेंकैया नायडू को बनाया है उप-राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार

पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने घोषणा की है कि उप-राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए बीजेपी ने वेंकैया नायडू को उम्मीदवार बनाया है.

क्या ये गाने सच में इतने मुश्किल थे जो हमने हमेशा गलत गाए!

आपको याद है कि आपने किन गानों के लिरिक्स की टांग तोड़ी थी?

बार-बार सुनेंगे सतिंदर सरताज के ये 16 गानेः जिनके आगे हनी सिंह और बादशाह नहीं ठहरते

हवा सा गतिमान, ठंडा, हल्का और मिंट फ्रैश महसूस करने के लिए आज सुनिए - ये प्लेलिस्ट.

भारतीय सेना की अनूठी कहानियों पर एक-दो नहीं, 8 फिल्में बन रही हैं!

हर प्रोजेक्ट प्रॉमिसिंग है. आर्मी फैंस के लिए सेलिब्रेशन का मौका है.

ना बंगाल में दंगे होते ना जुनैद मरता, अगर सब लोग इस बात को मान लेते

'आग की तरह' अगर किसी चीज़ को फैलाना है, तो वो यही है.

पीएम मोदी और नेतन्याहू के बीच हुई वो बातें, जो मीडिया में नहीं आई हैं!

पीएम की वहां जो खातिरदारी हुई वो तो ऐतिहासिक है, लेकिन कुछ और भी है.

पोस्टमॉर्टम हाउस

क्या 'पहरेदार पिया की' चोरी का माल है?

'सोनी टीवी' पर प्रसारित हो रहे विवादित शो का पूरा सच.

कौन हैं किरण यादव, जिनके फेसबुक पर 10 लाख फॉलोअर्स हैं?

इस अकाउंट की 3 बातें ख़ास तौर से नोटिस में आती हैं.

भारतीय टीवी ने ये सीरियल बनाकर घिनापे की हद पार कर दी है

पति 10 साल का हो और पत्नी लगभग मां की उम्र की, तो रिश्ता 'पवित्र' कैसे होगा?

राज कपूर का नाती फिल्मों में आ रहा है लेकिन लोग पहले ही उससे चिढ़े हुए हैं

कभी किसी नए एक्टर के साथ ऐसा नहीं हुआ है. लेकिन रणबीर कपूर के छोटे भाई के साथ हो रहा है.

फ़िल्म रिव्यू : जग्गा जासूस

अनुराग बासु 5 साल के बाद अपनी फ़िल्म लेकर आए हैं.

मां होना असल में क्या होता है, श्रीदेवी हमें बताती हैं

वो ऐसी बेटी के लिए लड़ती हैं, जो उन्हें मां मानती भी नहीं.

फ़िल्म रिव्यू : गेस्ट इन लंडन

कपिल शर्मा की जूठन से बने जोक्स के दम पर बनी फ़िल्म.

फ़िल्म रिव्यू : मॉम

श्रीदेवी की कम-बैक फ़िल्म.

गब्बर को ठाकुर बलदेव सिंह ने नहीं, कैंसर ने मारा था!

अहमद को रहीम चाचा ने खुद मार दिया था.

श्रीदेवी की फिल्म 'मॉम' की वो बातें जो इसकी कहानी का खुलासा करती हैं

क्या आप जानते हैं फिल्म में नवाजुद्दीन ने अपने कैरेक्टर के बोलने का ढंग किस जाने-माने हिंदी फिल्म एक्टर के एक्सेंट से लिया है?