Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

जानिए पांच बातें मराठी नाटककार विजय तेंडुलकर के बारे में

तेंडुलकर. ये शब्द सुनकर एक ही छवि दमाग में कौंधती है. सचिन तेंडुलकर. क्रिकेट का भगवान. लेकिन एक और तेंडुलकर हुआ था, जो अपने ‘क्लास’ के लिए जाना जाता था. नाम था – विजय तेंडुलकर. दुनिया विजय तेंडुलकर को एक मशहूर मराठी नाटककार और आलोचक की तरह देखती है. पर उन्होंने फिल्मों और टीवी के लिए भी लिखा. एक पत्रकार और सोशल कमेंटेटर के रूप में भी उन्हें जाना गया है. बीते 50 सालों में उन्हें मराठी का सबसे बड़ा नाटककार माना गया है. जानते हैं उनके जीवन से जुड़ी पांच बातें:

1. 6 जनवरी, 1928 में कोल्हापुर में जन्म हुआ. पिता छोटे से प्रकाशक थे. इस नाते तेंडुलकर को घर में लिखने के लिए बढ़िया माहौल मिला. 6 साल की उम्र में ही उन्होंने अपनी पहली कहानी लिखी. करियर के शुरूआती दिनों में मुंबई की एक चाल में रहते थे. गरीबी और समाज के संगीन चेहरे हो करीबी से देखा. नाटक देखते हुए बड़े हुए. 11 साल की कच्ची उम्र में अपना पहला नाटक सिर्फ लिखा ही नहीं, उसे डायरेक्ट कर उसमें रोल भी किया.

2. 14 साल की उम्र में 1942 के अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो अभियान में कूद पड़े. परिवार, पढाई, दोस्त, सब छूट गए. लिखने में ही सुकून पाया.

3. अखबारों के लिए लिखना शुरू किया. शुरूआती नाटक फ्लॉप रहे. जब ‘गृहस्थ’ नाम का नाटक छपने पर निराशा के अलावा कुछ न मिला तो कसम खायी कि दोबारा न लिखेंगे. अच्छा ही रहा कि 1956 में न लिखने का प्रण वापस लिया और ‘श्रीमंत’ लिखा. श्रीमंत ने उन्हें वो सफलता दिलाई जो वो डिजर्व करते थे. नाटक ने धूम मचा दी क्योंकि कहानी एक अविवाहित मां की थी. उस समय इन मुद्दों पर कम ही लोग बात करने की हिम्मत रखते थे.

4. 2002 के गोधरा दंगों के बाद उन्होंने स्टेटमेंट दिया: “अगर मेरे पास पिस्टल होती तो चीफ मिनिस्टर नरेंद्र मोदी को गोली मार देता.” नरेंद्र मोदी के समर्थकों ने विजय तेंडुलकर के खिलाफ नारे लगाए और पुतले जलाए. कुछ समय बाद तेंडुलकर ने अपने शब्द वापस लेते हुए कहा कि वो गुस्से में बहक गए थे, और किसी भी तरह की हिंसा के खिलाफ हैं.

5. अपने राइटिंग करियर में 2 उपन्यास, 30 से भी ज्यादा नाटक, 3 अनुवाद, और लगभग 15 फिल्मों के लिए स्क्रीनप्ले लिखा. पद्मभूषण समेत 12 राष्ट्रीय स्तर के अवार्ड्स इन्हें मिले. ‘शांतत! कोर्ट चालू आहे’ और ‘घाशीराम कोतवाल’ इनके सबसे पॉपुलर नाटकों में रहे. 19 मई 2008 को इनका निधन हुआ.

 

ghashirsam k
घाशीराम कोतवाल का एक सीन

* ज़्यादातर जगह सचिन और विजय के नाम के साथ ‘तेंदुलकर’ लिखा मिलता है. लेकिन सही शब्द ‘तेंडुलकर’ है.


 

ये भी पढ़ेंः

मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

अश्लील, फूहड़ और गन्दा सिनेमा मतलब भोजपुरी सिनेमा

चेतन भगत क्या वाकई बुरे लेखक हैं?

इकबाल के सामने जमीन पर क्यों बैठे नेहरू?

वो गायिका जिनकी आवाज़ में बगावत धड़ धड़ धड़कती है

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

राजेश खन्ना ने किस नेता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

अगर ये शो देखा है तभी इस क्विज में कूदना. नहीं तो सिर्फ टाइम बरबाद होगा.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

पिच्चर आ रही है 'दी ब्लैक प्रिंस', जिसमें कोहिनूर की बात हो रही है. आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल लेते हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

कौन है जो राहुल गांधी से जुड़े हर सवाल का जवाब जानता है?

क्विज है राहुल गांधी पर. आगे कुछ न बताएंगे. खेलो तो बताएं.

Quiz: संजय दत्त के कान उमेठने वाले सुनील दत्त के बारे में कितना जानते हो?

जिन्होंने अपनी फ़िल्मी मां से रियल लाइफ में शादी कर ली.

कांच की बोतल को नष्ट होने में कितना टाइम लगता है, पता है आपको?

पर्यावरण दिवस पर बात करने बस से न होगा, कुछ पता है इसके बारे में?

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

विजय, अमिताभ बच्चन नहीं, जितेंद्र थे. क्विज खेलो और जानो कैसे!

आज जितेंद्र का बड्डे है, 75 साल के हो गए.

पापा के सामने गलती से भी ये क्विज न खेलने लगना

बियर तो आप देखते ही गटक लेते हैं. लेकिन बियर के बारे में कुछ जानते भी हैं. बोलो बोलो टेल टेल.

न्यू मॉन्क

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.

जानिए जगन्नाथ पुरी के तीनों देवताओं के रथ एक दूसरे से कैसे-कैसे अलग हैं

ये तक तय होता है कि किस रथ में कितनी लकड़ियां लगेंगी.

सीक्रेट पन्नों में छुपा है पुरी के रथ बनने का फॉर्मूला, जो किसी के हाथ नहीं आता

जानिए जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा के लिए कौन-कौन लोग रथ तैयार करते हैं.

श्री जगन्नाथ हर साल रथ यात्रा पर निकलने से पहले 15 दिन की 'सिक लीव' पर क्यों रहते हैं?

25 जून से जगन्नाथ पुरी की रथ यात्रा शुरू हो गई है.

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

राजा इंद्रद्युम्न की कहानी, जिसने जगन्नाथ रथ यात्रा की स्थापना की थी.

उपनिषद् का वो ज्ञान, जिसे हासिल करने में राहुल गांधी को भी टाइम लगेगा

जानिए उपनिषद् की पांच मजेदार बातें.

असली बाहुबली फिल्म वाला नहीं, ये है!

अगली बार जब आप बाहुबली सुनें तो सिर्फ प्रभाष के बारे में सोच कर ही ना रह जाएं.