Submit your post

Follow Us

जापान वालों ने ऐसा टॉयलेट बनाया जिसे देख आप कहोगे- अरे इसमें तो सब दिखता है!

जापान ऐसा पब्लिक टॉयलेट बनाया है जिसके आर पार दिखाई देता है. मतलब एक तो पब्लिक टॉयलेट, कि नाम सुनकर ही नाक-भौं सिकोड़ने लगे आदमी, ऊपर से ट्रांसपैरेंट. मतलब कोई बड़ी हिम्मत से यहां जाए भी तो दिखने के डर में वापस निकल आए. पर जापान तो जापान ठहरा. “जो दिखता है वही बिकता है” टाइप की क्लीशे लाइन कहीं पढ़ी होगी. तो ऐसा टॉयलेट ही बना दिया जिसमें अंदर से बाहर और बाहर से अंदर दिखता है. ताकि बाहर से ही दिख जाए कि अंदर साफ है या नहीं. इन पब्लिक टॉयलेट्स में दीवारों और दरवाज़ों के नाम पर केवल रंग-बिरंगी शीशे की दीवारे हैं. पूरी खबर देखें वीडियो में.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

बिहार चुनाव: गया में पकौड़ा बेचते इस ग्रेजुएट की बातें पीएम मोदी को सुननी चाहिए!

पांच साल में बीए की डिग्री मिली, अब पकौड़ा बेट रहा है कुंदन.

बिहार चुनाव: दुनिया भर में मशहूर हाजीपुर की खैनी बनती कैसे है, जान लीजिए

'रंजीत खैनी दुकान' वाले ने विस्तार से समझाया है.

बिहार चुनाव: इस पुलिस अधिकारी ने बताया, मुंगेर हथियारों के लिए फेमस क्यों है?

'18वीं सदी से ही मुंगेर में बनते हैं हथियार'

बिहार चुनाव: कहानी उस गांव की, जहां एक रात में 58 दलितों को मार दिया गया

एकमात्र जीवित बचे शख्स ने 'लल्लनटॉप' से बात की है.

बिहार चुनाव: इस लड़के ने पीएम मोदी से हाथ जोड़कर क्यों कहा कि वो 18 घंटे काम न करें

नीतीश कुमार के BJP के साथ आने की ये वजह जानकर दंग हो जाएंगे आप.

बिहार चुनाव: मोदी सरकार के बार-बार कहने पर भी नीतीश सरकार ITI में खाली पदों को क्यों नहीं भर रही?

राज्य में 149 सरकारी ITI हैं, जिनमें 2476 के बजाय सिर्फ 216 नियमित अनुदेशक कार्यरत हैं.

बिहार चुनाव: नीतीश कुमार के तीन कार्यकाल, पहला-दूसरा अच्छा पर तीसरा कैसा रहा, खुद सुनिए

अस्पताल, सड़क जैसी आधारभूत सुविधाओं पर सरकार ने ध्यान नहीं दिया!

बिहार चुनाव: लालू का 'जंगल राज' कहा जाने वाला समय नीतीश के शासन से अच्छा क्यों था, इनसे जानिए

शराबबंदी और शिक्षा पर इस बुजुर्ग ने जो कहा, जरूर सुनिए.

दी लल्लनटॉप शो

असम सरकार का टैक्सपेयर्स के पैसों से क़ुरान पढ़ाने से इनकार कितना सही?

धार्मिक शिक्षा पर क्या कहता है भारत का संविधान?

चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली लॉ स्टूडेंट ने अब क्या कहा?

बिहार: परीक्षाओं और भर्तियों में गड़बड़ी की युवाओं ने खोली पोल

बजाज और पार्ले 'टॉक्सिक हेट' के खिलाफ खड़े हुए तो टाटा का तनिष्क़ हार क्यों मान गया?

पार्ले और बजाज जैसी कंपनियां क्या संदेश दे रही हैं?

मुख्यमंत्री जगनमोहन ने सुप्रीम कोर्ट के जज रमना की चीफ जस्टिस से क्या शिकायत की?

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने सुप्रीम कोर्ट के जज पर लगाए गंभीर आरोप

तबलीग़ी जमात केस में 'अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता' की बात करती मोदी सरकार का ट्रैक रिकॉर्ड कैसा है?

पत्रकारों पर क्यों नहीं रुक रही है FIR?

UGC की फर्जी यूनिवर्सिटी की लिस्ट में हर बार ये नाम शामिल, फिर भी बदस्तूर जारी कैसे?

UGC 26 साल में फर्जी यूनिवर्सिटी बंद क्यों नहीं करवा पाई?

सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच में AIIMS और CBI को क्या मिला?

क्या सुशांत मामले को बेवजह तूल दिया गया?

अन्ना आंदोलन से चर्चा में आए लोकपाल और लोकायुक्त आजकल कहां हैं?

सुप्रीम कोर्ट में हाथरस केस पर क्या बोली योगी सरकार?

पॉलिटिकल किस्से

अटल के मंत्री जसवंत सिंह को परवेज मुशर्रफ ने कैसे धोखा दिया?

भारत के इस विदेश मंत्री पर अमेरिका का पिट्ठू होने का आरोप क्यों लगा?

नरसिम्हा राव की सरकार में प्रणव मुखर्जी के मंत्री पद छोड़ने का असली कारण क्या था?

क्या वही अफसर, जो कहता था, ‘मैं अपने ब्रेकफास्ट में नेताओं को खाता हूं'?

लोकसभा चुनाव हारने के बाद इंदिरा गांधी ने प्रणब मुखर्जी के लिए उम्मीद से उलट काम किया था

1974 में प्रणब मुखर्जी पहली बार केन्द्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल किए गए थे.

बैंकों के राष्ट्रीयकरण पर प्रणब मुखर्जी का वो भाषण जिसे सुनकर इंदिरा गांधी मुग्ध हो गईं

दूसरी बार वित्त मंत्री बनाए जाने की कहानी भी जान लीजिए.

प्रणब मुखर्जी ने ऐसा भी क्या कर दिया था कि उन्हें कांग्रेस से ही निकाल दिया गया?

खुद प्रणव मुखर्जी ने इस बारे में विस्तार से लिखा है.

सात साल के प्रणव मुखर्जी और उनके पिता को जब अंग्रेज अफसर ने 'टाइगर' कह दिया

सुनिए प्रणव मुखर्जी के जीवन से जुड़ा यह अनसुना किस्सा.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में पहली बार नेतृत्व चयन की दिलचस्प कहानी

डॉ. हेडगेवार के बाद इस तरह सरसंघचालक चुने गए थे माधव राव सदाशिव राव गोलवलकर.

जब मायावती के इस दांव ने अटल बिहारी बाजपेयी को चारों खाने चित्त कर दिया था

संजय गांधी, जो यूपी के सीएम होते होते रह गए.