Submit your post

Follow Us

WhatsApp के ज़माने में, क्यों यहां अब भी SMS की किताबें बिकती हैं?

श्री रेणुका जी मंदिर, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर ज़िले में है. यहां 30 अक्टूबर से 4 नवंबर तक, श्री रेणुका जी मेला 2017 लगा हुआ है. मान्यता ये है कि रेणुका जी भगवान परशुराम की मां थीं. भगवान परशुराम एक रात के लिए यहां रुके थे. स्नान करके फिर वापस गए थे. इस दिन को मनाने के लिए यहां हर साल भव्य मेला लगता है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

डबवाली में पंजाबी जुत्ती के कारीगरों ने बताया कि कैसे चमड़ा लाते हुए लिंचिंग कर दी जाती है

कारीगरों के मुताबिक चमड़े के काम में हर वक्त लिंचिंग का डर सताता है.

हरियाणा के जींद में विकास के लिए सबसे पहले क्या चाहिए, जवाब इस वीडियो में है

जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने पर दूसरी क्लास की बच्ची की कविता सुनिए.

हरियाणा सरकार की पॉलिसी से लेकर क्राइम, सरकारी नौकरी और राम रहीम पर इस आदमी की बात सुनिए

राम रहीम को लेकर इस आदमी ने कांग्रेस को ही घेर लिया.

कोल्हापुर के होटल 7/12 में घुसते ही आपकी आंखें हैरानी से चौड़ी हो जाएंगी

मटन की इतनी वैरायटी कि नॉन वेज प्रेमियों के मुंह में पानी आ जाए.

कोल्हापुर के गुड़ बनानेवालों, ब्रोकर और व्यापारियों ने जैगरी ट्रेड की पोल खोल दी

कोल्हापुर सिर्फ चप्पलों के लिए ही नहीं गुड़ के लिए भी फेमस है.

हरियाणा की डबवाली सीट पर आदित्य चौटाला क्यों जीत रहे हैं, इस बुजुर्ग ने बता दिया

चौटाला परिवार की पार्टी क्यों दो भागों में बंटी, इस बुजुर्ग ने असली वजह बताई.

पुणे की MIT यूनिवर्सिटी के छात्रों को सुनिए, जो भविष्य के पीएम और सीएम बन सकते हैं

नेतागीरी की पढ़ाई कर रहे छात्र आज के नेताओं को लेकर ऐसा ख्याल रखते हैं.

कोल्हापुर में नेता जी के गजब खुलासे, शरद पवार की पार्टी में रहकर नरेंद्र मोदी के लिए ऐसा काम किया

ईवीएम को लेकर नेताजी की बात आपने नहीं सुनी, तो कुछ भी नहीं सुना.

दी लल्लनटॉप शो

नरेंद्र मोदी सरकार गरीबी के अंत के लिए नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी की बात मान लें

अर्थशास्त्र के नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी की पूरी कहानी

प्रकाल प्रभाकर ने क्यों मोदी सरकार को 'राव-सिंह' इकॉनमिक आर्किटेक्चर अपनाने की सलाह दी?

वित्तमंत्री के पति ने सरकार की आलोचना क्यों की?

महाबलीपुरम में ऐसा क्या है जो मोदी-जिनपिंग की अनौपचारिक मुलाकात वहीं हुई?। Episode 322

मोदी-जिनपिंग की मुलाकात हुई, क्या बात हुई?

मुर्शिदाबाद में आरएसएस वर्कर के परिवार की हत्या के बाद बीजेपी के ममता सरकार पर आरोप, पुलिस ने क्या कहा?

आरएसएस कार्यकर्ता के परिवार की हत्या में ममता सरकार का कितना दोष?

कांग्रेस ने राजनाथ सिंह को रफाल की शस्त्र पूजा पर घेरा, नींबू को लेकर पहले क्या बोले थे मोदी?

मोदी के बयान में कुछ ऐसा है जिसका इस्तेमाल कांग्रेस वाले बीजेपी के ही खिलाफ कर रहे हैं.

दशहरे पर 2019 के रावण के 10 सिर पहचानिए, जो खतरनाक ही नहीं जानलेवा भी हैं । Episode 319

युद्ध-युद्ध चिल्लाती, नारे उछालती, महिलाओं का अपमान करती भीड़ रावण की निशानी है.

टीएमसी सांसद नुसरत जहां की दुर्गा पूजा पर बवाल, लेकिन उलमा, वीएचपी वालों की बात में एक धोखा है। Episode 318

नुसरत जहां की दुर्गा पूजा पर बवाल क्यों हो रहा है?

संजय निरुपम राहुल गांधी के करीब, इसलिए सोनिया गांधी समर्थकों के निशाने पर हैं? |Episode 317

क्या राहुल और सोनिया गांधी के ही समर्थकों में तकरार है?

पॉलिटिकल किस्से

बाबरी गिरने के बाद बीजेपी नेता कल्याण सिंह के तिहाड़ जेल का किस्सा, सीबीआई उनसे पूछताछ करना चाहती है

कल्याण सिंह ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे.

अमित शाह के खास स्वतंत्र देव सिंह की RSS से होते हुए यूपी बीजेपी चीफ बनने की कहानी

जानिए एक पत्रकार रहे कांग्रेस सिंह कैसे बने यूपी बीजेपी चीफ स्वतंत्र देव सिंह.

अटल के मंत्री जसवंत सिंह को परवेज मुशर्रफ ने कैसे धोखा दिया?

भारत के इस विदेश मंत्री पर अमेरिका का पिट्ठू होने का आरोप क्यों लगा?

नरेंद्र मोदी ने भारत रत्न से पहले प्रणब मुखर्जी से क्या अफसोस जताया?

भारत रत्न के ऐलान से पहले प्रणब मुखर्जी और नरेंद्र मोदी में ये बात हुई.

नरेंद्र मोदी के सरकारी बंगले की सुरंग कहां जाती है?

आखिरी में सुरंग का दूसरा दरवाजा भी खुल जाएगा.

राजीव और सोनिया के करीबी बूटा सिंह, जिनके कृपाण से चीफ मिनिस्टर्स डरते थे

वो नेता जो देश का राष्ट्रपति बनते-बनते रह गए.

कहानी MQM के अल्ताफ हुसैन की, जिसे सपोर्ट करने का आरोप भारत पर लगता था

पाकिस्तान की हुकुमत का एक ऐसा दुश्मन, जिससे पड़ोसी मुल्क के हुक्मरान सख्त नफरत करते हैं.

इंदिरा गांधी का वो मंत्री जिसने संजय गांधी को कहा- मैं तुम्हारी मां का मंत्री हूं

जिसे टॉर्चर किया गया, जिसके फेफड़े गल गए और जो ज़्यादा दिन ज़िंदा न रह सकी.