Submit your post

Follow Us

यूपी में करारी हार के बाद मुलायम सिंह ने अखिलेश यादव को क्या-क्या सुनाया?

लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद समाजवादी पार्टी में विचार का दौर चल रहा है. बसपा और राष्ट्रीय लोकदल के साथ मिलकर सपा ने चुनाव लड़ा. परिवार की दो सीटें, धर्मेन्द्र यादव की बदायूं और अक्षय प्रताप यादव की सीट फिरोजाबाद, भी गंवा बैठे. डिम्पल यादव भी कन्नौज से चुनाव हार गयीं. पार्टी के बहुतेरे बड़े नाम भी अपना चुनाव बचा नहीं सके.

सोमवार को पार्टी के लखनऊ कार्यालय में हार को लेकर मंथन मीटिंग हो रही थी. राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पार्टी में थे. पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव भी मीटिंग में पहुंचे. सूत्रों की मानें तो मुलायम सिंह यादव ने नाकामी के लिए पार्टी के नेताओं की जमकर क्लास लगायी.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

झमाझम

दूध पीते बच्चे की इस तस्वीर को क्यूं 'पिक्चर ऑफ़ दी ईयर' घोषित किया जाना चाहिए

संसद में हो रही बहस के बीच स्पीकर मॉडरेट करते रहे और साथ में बच्चे को दूध पिलाते रहे.

पाकिस्तानी बॉलर हसन अली के अलावा इन पाक खिलाड़ियों ने भी इंडियन लड़कियों से शादी की है

इधर इंडिया-पाकिस्तान में तनाव है, उधर पाक क्रिकेटर ने इंडियन लड़की से शादी कर ली.

क्या अब लड़कियां भी 21 की उम्र के बाद की शादी कर पाएंगी?

दिल्ली हाई कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस देकर पूछा है, 'उम्र क्यों न बढ़ा दी जाए'.

वो रेल हादसा जो नीलगाय की वजह से हुआ, जिसमें 300 से ज्यादा लोग मारे गए

ड्राइवर ने खुद ड्यूटी नहीं निभाई, सोचा दूसरा निभाएगा.

ईसाई धर्म में संत बनना आसान नहीं है, कई चमत्कार करने के बाद मिलती है ये उपाधि

संत बनने के लिए जो शर्ते हैं, उनकी पूरी लिस्ट.

क्या कुछ दिनों बाद आपके डेबिट कार्ड्स किसी काम के नहीं रहने वाले हैं?

ये बात एसबीआई के सबसे बड़े अधिकारी के बयान के बाद उठ रही है.

जिस वायरल लड़के की तारीफ शिवराज सिंह ने की थी, पहली रेस में उसका क्या हुआ?

एमपी के उसैन बोल्ट का पहली रेस में रिजल्ट अच्छा नहीं रहा.

पानी से डूबे आदमी को नमक से बचाने की वायरल पोस्ट पर क्या कहते हैं डॉक्टर्स?

महाराष्ट्र से एक ऐसी खबर आ रही जिसके बाद एक्सपर्ट्स की बातें आपको जाननी चाहिए.

दी लल्लनटॉप शो

पी. चिदंबरम CBI की रिमांड में सॉलिसिटर जनरल के इन तर्कों की वजह से हैं|दी लल्लनटॉप शो|Episode 286

न सिब्बल के तर्क काम आए न अभिषेक मनु संघवी के.

जो सीबीआई पी.चिदंबरम को रिपोर्ट करती थी, उसी ने गिरफ्तार क्यों किया?|दी लल्लनटॉप शो|Episode 285

क्या है ये आईएनएक्स मीडिया केस?

INX मीडिया केस में पी. चिदंबरम अब सीबीआई और ईडी के घेरे में फंसे|दी लल्लनटॉप शो|Episode 284

किस मामले में फंसना पी.चिदंबरम को महंगा पड़ा?

पाकिस्तान से PoK आज़ाद कराने के राजनाथ और जितेंद्र सिंह के बयान की कहानी|दी लल्लनटॉप शो|Episode 283

मोदी सरकार क्या कश्मीर के बाद PoK पर फैसला लेने के मूड में है?

न्यूक्लियर पॉलिसी को लेकर राजनाथ सिंह के दिए बयान के क्या मायने हैं? |दी लल्लनटॉप शो|Episode 282

क्या है CDS जो सेना को बदल डालेगा?

नेहरू-पटेल और मेनन की तिकड़ी ने भारत का नक्शा कैसे तैयार किया?

70 साल बाद भारत ऐसा दिखेगा, तब के लोग सोच भी नहीं सकते थे.

इमरान खान ने स्पीच में बालाकोट का ज़िक्र किया, भारत की तरफ से हमले का डर सामने आया|दी लल्लनटॉप शो|Episode 280

इमरान खान के भाषण में डर की मात्रा काफी ज्यादा है.

जम्मू कश्मीर पर पाक के विरोध को झटका, भारत के आगे चीन की भी नहीं चलेगी|दी लल्लनटॉप शो|Episode 279

जम्मू कश्मीर में क्या हालात सामान्य होने की ओर है?

पॉलिटिकल किस्से

नरेंद्र मोदी ने भारत रत्न से पहले प्रणब मुखर्जी से क्या अफसोस जताया?

भारत रत्न के ऐलान से पहले प्रणब मुखर्जी और नरेंद्र मोदी में ये बात हुई.

नरेंद्र मोदी के सरकारी बंगले की सुरंग कहां जाती है?

आखिरी में सुरंग का दूसरा दरवाजा भी खुल जाएगा.

राजीव और सोनिया के करीबी बूटा सिंह, जिनके कृपाण से चीफ मिनिस्टर्स डरते थे

वो नेता जो देश का राष्ट्रपति बनते-बनते रह गए.

कहानी MQM के अल्ताफ हुसैन की, जिसे सपोर्ट करने का आरोप भारत पर लगता था

पाकिस्तान की हुकुमत का एक ऐसा दुश्मन, जिससे पड़ोसी मुल्क के हुक्मरान सख्त नफरत करते हैं.

इंदिरा गांधी का वो मंत्री जिसने संजय गांधी को कहा- मैं तुम्हारी मां का मंत्री हूं

जिसे टॉर्चर किया गया, जिसके फेफड़े गल गए और जो ज़्यादा दिन ज़िंदा न रह सकी.

घनश्याम तिवारी और वसुंधरा की अदावत की असल कहानी

तिवारी जब तक पार्टी में रहे वसुंधरा से भिड़ते रहे, लेकिन हर बार वसुंधरा ही भारी पड़ीं.

पत्रकार मार्क टली ने खोले कई रोचक राज़

किताब 'Up Country Tales' से कुछ मजेदार बातें.

बीजेपी के वो दो नेता जिन्होंने लोकसभा में पार्टी का खाता खोला

ये दोनों नेता अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी नहीं थे.