Submit your post

Follow Us

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017: बाबाओं का टोटका चला कि नहीं?

हमारे यहां अपनी महत्वाकांशा पूरी करने के जितने तरीके हैं, उनमें से एक चुनाव भी हैं. और चूंकि ये मौका पांच साल में एक बार आता है, लोग इसे चूकना नहीं चाहते. वे भी नहीं, जिनके बारे में आमतौर पर धारणा होती है कि वे किसी भी मोह-माया से ऊपर हैं- बाबा. इस बार के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में तरह-तरह के बाबा पर्चे भरने सामने आए. कुछ किसी पार्टी से थे, तो जीतने की कुछ आस है. बाकी चुनाव को हठयोग का एक वेरिएंट मान चुके हैं. हर चुनाव में अपनी किस्मत आज़माते हैं, बिना नतीजे की परवाह किए. हम यहां उन कुछ बाबाओं के बारे में बता रहे हैं संसार से विरक्त हैं लेकिन लोकतंत्र से नहीं!

#1. अर्थी बाबा

ARTHI-ONE_200117-111642-400x400

चुनाव लड़ने के लिए नामांकन भरना हो, चुनाव प्रचार करना हो या फिर आंदोलन करना हो, ये वाले बाबा सब काम अर्थी पर ही करते हैं. असल नाम है राजन यादव. बैंकाक में एक मल्टीनेशनल कंपनी में उनकी नौकरी थी, जो बताते हैं कि सामाजिक कार्यकर्ता बनने के लिए छोड़ दी. अर्थी को जीवन का एकमात्र सत्य मानते हैं. घाट पर जलने वाली चिताओं की पूजा भी करते हैं. गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ के खिलाफ 2009 में लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं. 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ सांसदी लड़े. इस बार चौरी चौरा से विधायकी का पर्चा भरा है. बाबा पिछले साल गोरखपुर में एम्स की मांग को लेकर नदी के बीच अर्थी बनाकर उस पर रहते थे. नदी का ही पानी पीते थे. लोगों को घाट पर स्पीच देते हैं. हाथ में हांडी लेकर.  इस बार चुनावों में उन्होंने गन्ना किसानों के भुगतान और सरकारी डॉक्टरों की प्राइवेट प्रैक्टिस का मुद्दा बनाया है. इस बार उन्होंने धमकी दी है कि अगर उनकी मांग नहीं मानी गई तो वो राप्ती नदी में कूदकर ‘जल समाधि’ ले लेंगे. दो दशक में 11 बार चुनाव हारने पर कहते हैं कि ‘चुनाव हारना तो जनता का आशीर्वाद है.’

अर्थी बाबा को इस बार 383 वोट मिले हैं.

चौरी चौरा अंतिम नतीजे

संगीता यादव (भाजपा) – 87863
मनोरंजन यादव (सपा) – 42203
जय प्रकाश (बसपा) – 37478

#2. बाल्टी बाबा

इनका असल नाम जगदीश मिश्रा है. लेकिन जाना उन्हें इंदिरा गांधी के दिए नाम से ही जाता है – बाल्टी बाबा. 70 साल के हैं. इनके तिलिस्म के किस्से चलते हैं. एक वक्त वे अपनी बाल्टी से पर्ची निकाल कर लोगों की समस्याओं का समाधान करते थे. भैरों सिंह शेखावत और भजनलाल एक वक्त बाबा से सलाह मशविरा करते थे. बाल्टी बाबा भाजपा से हैं लेकिन उनका ‘प्रताप’ पार्टी के पार है. कहते हैं कि उत्तर प्रदेश के (पूर्व) मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और डिंपल यादव के काम बाल्टी बाबा ने ही फूंके हैं. 2002 में फाज़िलनगर से विधायक रहे हैं. अब कुशीनगर के तमकुही राज से भाजपा के टिकट पर लड़ रहे हैं. इस बार बाबा हार गए हैं.

तमकुही अंतिम नतीजेः

अजय कुमार लल्लू (कांग्रेस) 61211
बाल्टी बाबा (भाजपा) 43097
बिजय राय (बसपा) 41685

#3. रत्नाकर मिश्रा

रत्नाकर मिश्रा विंध्याचल मंदिर में पुरोहित हैं. मिर्जापुर का ये सिद्ध माना जाता है. यहां आने वाले वीआईपी जब दर्शन करने जाते हैं तो मिश्रा ही पूजा करवाते हैं. कहते हैं कि इसी के चलते ‘बड़े’ लोगों से पहचान हुई और मिज़ापुर नगर विधानसभा सीट से भाजपा का टिकट पा गए. इनकी टक्कर में हैं अखिलेश कैबिनेट में राज्यमंत्री रहे सपा के कैलाश चौरसिया. दो बातें हैं. चौरसिया तीन बार से विधायक बनते आ रहे हैं. और मिश्रा के टिकट के चक्कर में जिन मनोज जायसवाल का टिकट कटा है, वे प्रचार के दौरान खफा बताए जाते थे. लेकिन इन बातों का असर नतीजों पर नज़र नहीं आया. रत्नाकर 50000 की लीड के साथ जीते हैं.

मिर्ज़ापुर अंतिम नतीजेः

रत्नाकर मिश्रा (भाजपा) 109196
कैलाश चौरसिया (सपा) 51784 
परवेज़ खान (बसपा) 23908

#4. फक्कड़ बाबा

मथुरा में ऐसा कोई नहीं जो फक्कड़ बाबा को नहीं जानता. नाम के मुताबिक सड़कों और मंदिरों में रहते हैं. बस एक हठ है, चुनाव लड़ने का. 73 बसंत देख चुके बाबा लोकसभा और विधानसभा के 15 चुनाव लड़ चुके हैं. इस बार भी पर्चा भरा है. दान में मिला सामान बेचकर प्रचार किया है. लेकिन इस बार, माने सोलहवीं बार भी हारेंगे ही. बात ये है कि फक्कड़ बाबा के गुरू ने उनसे कहा था कि तुम चुनाव लड़ो, 20 वां चुनाव जीतोगे. तो बाबा एक-एक कर के गिनती पूरी कर रहे हैं. उन्हें पूरा भरोसा है कि 20 वां चुनाव वो ज़रूर जीतेंगे. तो सोलहवें का क्या?

इस बार फक्कड़ बाबा को 371 वोट मिले हैं.

मथुरा सीट के अंतिम नतीजेः

श्रीकांत शर्मा (भाजपा) 143361
प्रदीप माथुर (कांग्रेस) 42200
योगेश कुमार (बसपा) 31168


चुनाव नतीजों की पूरी कवरेज ये रहीः

UP रिजल्ट: सपा से चार गुना सीटों पर BJP आगे, बहुमत की ओर

पंजाब रिज़ल्ट: इस सूबे की राजनीति में आज भूकंप आने वाला है

Uttarakhand Results 2017 Live: उस राज्य का फैसला, जहां भाजपा दो साल से कांग्रेस के धुर्रे बिखेर रही है

Manipur Results 2017 Live: मणिपुर से सामने आया पहला रुझान, इबोबी आगे

Goa Results 2017 Live: बीजेपी को चुनेगा गोवा या ‘आप’ को, फैसला आज

यूपी चुनाव परिणाम, यूपी चुनाव नतीजे 2017, चुनाव नतीजे ऑनलाइन, 2017 इलेक्शन नतीजे, UP election results, UP election results live, UP election results 2017, election results UP, election results 2017 UP, live election result 2017, UP assembly election results, election results live, 2017 election results, UP result, election live results, UP election results live update, lucknow election result, varanasi election result, vidhan sabha election results
लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

ग्राउंड रिपोर्ट

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

उस नेता का नाम बहुत कम लोग जानते हैं.

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

दी लल्लनटॉप की टीम न सिर्फ अपडेट दे रही है, बल्कि नतीजों के पीछे की पूरी कहानी भी बतला रही है.

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

इस सीट पर वो नेता मैदान में है जो 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा.

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

इतने सारे रोड शो का असर सीधा पड़ेगा या उल्टा

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

पोलिंग से एक दिन पहले यहां का वोटर एकदम साइलेंट हो गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

यहां के लोग गर्व से कहते हैं, 'मुंबई वाले हमारी एक बोरी बालू में 6 बोरी पतला बालू और एक बोरी सीमेंट मिलाकर यूज करते हैं.'

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

यूपी के इस आखिरी छोर पर सियासत बहुत पीछे छूट जाती है.

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

यहां बीजेपी के सूर्य प्रताप शाही के लिए एक वोटर रियासत अली कहते हैं, 'अबकी इनका वनवास खत्म कराना है'.

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

पेश है बाहुबलियों की सीट का हाल.

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

यहां बीजेपी नेता के लिए नारा था, 'राम नगीना बड़ा कमीना, फिर भी वोट उसी को देना'.