Submit your post

Follow Us

यूपी चुनाव 2017: सबसे कम अंतर से जीतने वाले विधायक

उत्तर प्रदेश में चुनावों के नतीजे आ गए हैं. जीतने वाले कैंडिडेट एक्सटेंडेड होली मना रहे हैं. खासकर भाजपा+ के 325 कैंडिडेट. इनमें से कई ने कल दोपहर से ही रंग खेलना शुरू कर दिया था. लेकिन कुछ कैंडिडेट ऐसे थे जो रंग के पैकेट जेब में लिए शाम तक नाखून चबा रहे थे. गणना स्थल पर ढोल वाले धतड़-ततड़ धुन बजाने को तैयार थे, लेकिन उन्हें इशारा नहीं हो रहा था. मिठाई वाले सोच रहे थे कि नेता जी ऑर्डर उठाने क्यों नहीं पहुचे. दरअसल कई कैंडिडेट ऐसे थे, जो आगे चल रहे थे, लेकिन इतनी कमज़ोर लीड के साथ कि डरे हुए थे कि कहीं मामला पलट न जाए. आखरी राउंड तक पसीना पोछ-पोछ कर गिनती कंफर्म कर रहे थे. और जब जीते तो इतने कम अंतर से कि कुछ देर खुद को भी भरोसा नहीं हुआ होगा. हम बता रहे हैं ऐसे कुछ कैंडिडेट्स के बारे में जो बाल बराबर अंतर से जीते.

#1 राघवेंद्र प्रताप सिंह

इन चुनावों में राघवेंद्र प्रताप सिंह ने वो रिकॉर्ड बनाया जो कोई अपने नाम नहीं चाहता. वे पूरे उत्तर प्रदेश में सबसे कम अंतर से चुनाव जीते हैं, डुमरियागंज सीट से. इन नतीजों को इस तरह भी लिया जा सकता है कि बसपा की सैयदा खातून जीतते-जीतते रह गईं. कहा भी जा रहा था कि उनका हारना मुश्किल है. लेकिन मुकाबला फंस गया. अवतार जीत गए. लेकिन सिर्फ 171 वोटों से.

डुमरियागंज अंतिम नतीजेः
राघवेंद्र प्रताप सिंह (भाजपा) 67227
सैयदा खातून (बसपा) 67056
राम कुमार (सपा) 52222

#2 अवतार सिंह भड़ाना 

अवतार सिंह भड़ाना
अवतार सिंह भड़ाना

अवतार सिंह भड़ाना इस मामले में दूसरे नंबर पर रहे. वैसे अवतार को लंबा ‘अनुभव’ है. भाजपा में आने से पहले कांग्रेस के टिकट पर चार बार सांसद रह चुके हैं. हरियाणा में राजनीति कर चुके हैं, उत्तर प्रदेश में भी. लेकिन मुजफ्फरनगर की मीरापुर सीट से जीतने में इन्हें पसीना आ गया. अपनी रैलियों में कहते थे कि वोट मांगने में शर्म आती है. शायद यही वजह रही कि इन्हें वोट भी शर्मा-शर्मा के पड़ा. सपा के लियाकत अली इनसे सिर्फ 193 वोटों से हारे.

मीरापुर अंतिम नतीजेः
अवतार सिंह भड़ाना (भाजपा) 69035
लियाकत अली (सपा) 68842
नवाज़िश आलम खान (बसपा) 39689

#3 श्याम सुंदर शर्मा

श्याम सुंदर शर्मा
श्याम सुंदर शर्मा

मथुका की मांट सीट को इनका इलाका समझा जाता है. यहां से यही जीतते आ रहे हैं. श्याम सुंदर शर्मा ने ढेर सारी पार्टियां बदली हैं, मगर जीते हर बार वही हैं. चो उपचुनाव जीतकर वे पिछली विधानसभा में पहुंचे थे, वो उन्होंने ममता दीदी की तृणमूल कांग्रेस से लड़ा था. यूपी में तृणमूल! इस बार आठवीं बार विधायक बने शर्मा सांसदी भी लड़कर जीत चुके हैं. माने इलाके में पकड़ है. पर मोदी लहर का असर कहिए या कुछ एंटी इन्कमबेंसी, अंतिम नतीजों की घोषणा तक श्याम सुंदर कुल पांच सौ की लीड भी नहीं बना पाए थे. रालोद के योगेश चौधरी ने इन्हें लगभग कवर कर लिया था.जीत का अंतर रहा 432.

मांट अंतिम नतीजेः
श्याम सुंदर शर्मा (बसपा) 65862
यागेश चौधरी (रालोद) 65430
सतीश कुमार शर्मा (भाजपा) 59871

#4 राम फेरन पांडेय

राम फेरन (फोटोःट्विटर)
राम फेरन (फोटोः ट्विटर)

राम फेरन पांडेय पिछले विधानसभा चुनावों में तीसरे नंबर पर रहे थे. इस लिहाज़ से ये चुनाव इनके लिए अच्छा रहा. टिकट भी मिला और जीत भी गए. लेकिन चूंकि लीड सिर्फ 445 की रही, ऐसा लगता है कि मोदी के नाम पर वोट न पड़े होते तो ये शायद जीत नहीं पाते.

श्रावस्ती अंतिम नतीजे

राम फेरन (भाजपा) 79437
मोहम्मद रमज़ान (सपा) 78992
सुभाष (बसपा) 53014

#5 अंबरीश सिंह पुश्कर

अंबरीश पुश्कर (फोटोःट्विटर)
अंबरीश पुश्कर (फोटोः ट्विटर)

सपा लखनऊ शहर से कोई सीट नहीं जीत पाई. मोहनलाल गंज (लखनऊ की ही तहसील है) की इस सीट पर सपा के अंबरीश सिंह पुश्कर जीत गए. आसपास की सीटों पर भाजपा के पक्ष में जिस तरह का माहौल रहा, उसने अंबरीश की लीड को 530 पर निपटा दिया. यहां उल्लेख तीसरे नंबर पर रहे आर के चौधरी का भी किया जाएगा, जिन्होंने निर्दलीय पर्चा भरा था लेकिन भाजपा का उन्हें खुला समर्थन था.

मोहनलालगंज अंतिम नतीजेः

अंबरीश सिंह पुश्कर (सपा) 71574
राम बहादुर (बसपा) 71044
आर के चौधरी (निर्दलीय) 55684

इन पांच प्रत्याशियों के अलावा तीन और प्रत्याशी ऐसे रहे जिनकी लीड 1000 से कम रही. ये हैंः

# मोहम्मदाबाद गोहना सीट से भाजपा के श्रीराम सोनकर जिन्होंने बसपा के राजेन्द्र कुमार को 538 वोट से हराया.

# रामपुर मनिहारन सीट से भाजपा के देवेन्द्र कुमार निम जिन्होंने बसपा के रवींद्र कुमार मोल्हू को 595 वोटों से हराया.

# मुबारकपुर सीट से बसपा के शाह आलम (गुड्डू जमाली) जिन्होंने सपा के अखिलेश यादव को 688 वोटों से हराया.


चुनाव नतीजों की पूरी कवरेज ये रहीः

UP रिजल्ट: सपा से चार गुना सीटों पर BJP आगे, बहुमत की ओर

पंजाब रिज़ल्ट: इस सूबे की राजनीति में आज भूकंप आने वाला है

Uttarakhand Results 2017 Live: उस राज्य का फैसला, जहां भाजपा दो साल से कांग्रेस के धुर्रे बिखेर रही है

Manipur Results 2017 Live: मणिपुर से सामने आया पहला रुझान, इबोबी आगे

Goa Results 2017 Live: बीजेपी को चुनेगा गोवा या ‘आप’ को, फैसला आज

यूपी चुनाव परिणाम, यूपी चुनाव नतीजे 2017, चुनाव नतीजे ऑनलाइन, 2017 इलेक्शन नतीजे, UP election results, UP election results live, UP election results 2017, election results UP, election results 2017 UP, live election result 2017, UP assembly election results, election results live, 2017 election results, UP result, election live results, UP election results live update, lucknow election result, varanasi election result, vidhan sabha election results, india today, aaj tak, live results, live tv

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

ग्राउंड रिपोर्ट

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

उस नेता का नाम बहुत कम लोग जानते हैं.

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

दी लल्लनटॉप की टीम न सिर्फ अपडेट दे रही है, बल्कि नतीजों के पीछे की पूरी कहानी भी बतला रही है.

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

इस सीट पर वो नेता मैदान में है जो 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा.

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

इतने सारे रोड शो का असर सीधा पड़ेगा या उल्टा

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

पोलिंग से एक दिन पहले यहां का वोटर एकदम साइलेंट हो गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

यहां के लोग गर्व से कहते हैं, 'मुंबई वाले हमारी एक बोरी बालू में 6 बोरी पतला बालू और एक बोरी सीमेंट मिलाकर यूज करते हैं.'

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

यूपी के इस आखिरी छोर पर सियासत बहुत पीछे छूट जाती है.

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

यहां बीजेपी के सूर्य प्रताप शाही के लिए एक वोटर रियासत अली कहते हैं, 'अबकी इनका वनवास खत्म कराना है'.

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

पेश है बाहुबलियों की सीट का हाल.

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

यहां बीजेपी नेता के लिए नारा था, 'राम नगीना बड़ा कमीना, फिर भी वोट उसी को देना'.