Submit your post

Follow Us

यूपी चुनाव : किसी भी अनुमान से पहले ये एग्जिट पोल पढ़ लो

रोड शो हो गए. चुनावी भाषणों से भेदभाव भी ख़त्म हो गए. शामियाने उतर गए. बांस बल्ली उखाड़ कर रख दिए गए. जितना वोटर्स को लुभाना था लुभा लिए अब पांच साल बाद फिर मिलेंगे. अरे नहीं पांच साल नहीं ये तो होता रहेगा. कभी लोकसभा चुनाव में, कभी ज़िला पंचायत तो कभी किसी चुनाव में. और हर बार हर पार्टी विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ना शुरू करेगी. फिर जातियों के आंकड़े फिट करेगी और धर्म पर आकर खत्म कर देगी. अगले चुनाव में फिर वही विकास की बात होगी. ये विकास वही होगा जो इस चुनाव में था मगर हुआ नहीं.

खैर उस डिटेल में नहीं जाना. क्योंकि एग्जिट पोल एग्जिट पोल की चिल पौ होने वाली है. कोई किसी को बहुमत साबित करेगा. कोई किसी के मुख्यमंत्री बनने का दावा पेश करेगा. बस ताजपोशी होनी बाकी रह जाएगी. अगर ताजपोशी का भी ऑप्शन होता तो ये एग्जिट पोल ही करा देते. इस बार क्या होगा वो तो काउंटिंग के बाद ही पता चलेगा. लेकिन साल 2012 के चुनाव में क्या हुआ था वो जान लो. 2012 में भी एग्जिट पोल आए और उसके बाद रिजल्ट भी. लेकिन एग्जिट पोल में किसका दावा कितना करीबी रहा ये रिपोर्ट आपके सामने है.

स्टार न्यूज़- एसी नेल्सन सर्वे
बसपा – 83
सपा- 183
कांग्रेस-आरएलडी- 62
बीजेपी-71
अन्य-4

CNN-IBN-द वीक-सीएसडीएस सर्वे

csds

न्यूज़-24-चाणक्य सर्वे

सपा-202
बसपा-85

इंडिया टीवी-सी वोटर

सपा- 137-145
बसपा- 130
बीजेपी- 79-89
कांग्रेस-आरएलडी- 39-55

एग्जिट पोल किसी का भी कुछ रहा हो. लेकिन साल 2012 में सपा को अकेले दम पर पूर्ण बहुमत हासिल हुआ था. सपा को 224, बसपा को 80 और भाजपा को 47 सीटों पर जीत मिली थी. समाजवादी पार्टी ने मुलायम सिंह यादव की लीडरशिप में बहुजन समाज पार्टी की मायावती सरकार को सत्ता से बाहर कर दिया. जबकि ये पार्टी भी 2007 में पूर्ण बहुमत से आई थी.

अब जो एग्जिट पोल आएं चिल मारना. दिल से मत लगा लेना. क्योंकि सरकार रिजल्ट से बनती है. लोगों के वोट से बनती है. एग्जिट पोल से नहीं. और जिसे वोटर्स ने पसंद किया है. सरकार उसी की बनेगी. अब चाहे भाजपा हो, बसपा हो या फिर सपा. या ये कहिये चाहे आरएलडी हो, AIMIM हो या फिर कोई पीस पार्टी. रिजल्ट आने से पहले इन एग्जिट पोल को लेकर कतई खुश या दुखी न हो.

सच कहूं तो ये महज़ एक अंदाज़ा होते हैं. और जब ये एग्जिट पोल आते हैं तो मुझे ‘दस का दम’ शो याद आ जाता है. ये शो सलमान खान होस्ट करते थे. और सवाल इस तरह होते थे ‘कितने प्रतिशत भारतीय मानते हैं कि सुबह में नाहने से ठंड लगती है.’ या कितने प्रतिशत भारतीय मॉर्निंग वॉक करना चाहते हैं. और लोग अंदाज़े लगाते थे. जिसने सटीक अंदाज़ा लगाया वो जीत जाता था. क्योंकि अंदाज़े भी फिट बैठ जाते हैं. और जिसका अंदाज़ा गलत. वो शो से बाहर. तो सबके एग्जिट पोल देखिए और मौज कीजिए. असली पिक्चर तो इलेक्शन कमीशन ही रिलीज़ करेगा. और वही पिक्चर हिट होगी जो यूपी विधानसभा में चलेगी.

बाकी तो जय जनादेश!


ये भी पढ़िए :

एग्जिट पोल से भी पहले ये रिपोर्ट बताएगी यूपी में किसकी सरकार बनने वाली है

मोहम्मदाबाद ग्राउंड रिपोर्ट: जानिए 40 अपराधों के आरोपी अंसारी परिवार की राजनीति कैसे चलती है

गाजीपुर ग्राउंड रिपोर्ट: ये अफीम का शहर है, यहां पिछले चुनाव के हर कैंडिडेट ने पार्टी बदल ली है

मऊ से ग्राउंड रिपोर्ट: ‘मुख्तार अंसारी को इस बार बस मोदी जी ही बचा सकते हैं’

कैम्पियरगंज ग्राउंड रिपोर्ट: यहां अली अपने लोगों के लिए कहते हैं, ‘हैं चुटकी भर और गंधवाए इतना हैं’

ग्राउंड रिपोर्ट इटवा: जहां सपा के बड़े नेता का काम न करना बोलता है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

ग्राउंड रिपोर्ट

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

उस नेता का नाम बहुत कम लोग जानते हैं.

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

दी लल्लनटॉप की टीम न सिर्फ अपडेट दे रही है, बल्कि नतीजों के पीछे की पूरी कहानी भी बतला रही है.

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

इस सीट पर वो नेता मैदान में है जो 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा.

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

इतने सारे रोड शो का असर सीधा पड़ेगा या उल्टा

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

पोलिंग से एक दिन पहले यहां का वोटर एकदम साइलेंट हो गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

यहां के लोग गर्व से कहते हैं, 'मुंबई वाले हमारी एक बोरी बालू में 6 बोरी पतला बालू और एक बोरी सीमेंट मिलाकर यूज करते हैं.'

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

यूपी के इस आखिरी छोर पर सियासत बहुत पीछे छूट जाती है.

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

यहां बीजेपी के सूर्य प्रताप शाही के लिए एक वोटर रियासत अली कहते हैं, 'अबकी इनका वनवास खत्म कराना है'.

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

पेश है बाहुबलियों की सीट का हाल.

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

यहां बीजेपी नेता के लिए नारा था, 'राम नगीना बड़ा कमीना, फिर भी वोट उसी को देना'.