Submit your post

Follow Us

अखिलेश तो जजंतरम ममंतरम के 'जावेद जाफरी' निकले, कांग्रेस को बौना बना दिया

साल 2003 में एक फिल्म आई थी. नाम था जजंतरम ममंतरम. लीड में थे जावेद जाफरी. और विलेन बने थे गुलशन ग्रोवर. ये फिल्म जोनाथन स्विफ्ट के ‘गुलीवर ट्रैवल्स’ कहानी पर आधारित थी. फिल्म में दिखाया गया कि जावेद जाफरी ऐसे द्वीप पर पहुंच जाते हैं. जहां सब बौने नजर आते हैं. और जावेद जाफरी एक लहीम शहीम आदमी. यूपी में चुनाव की तैयारी हो रही है और मुझे बार-बार इसी फिल्म के सीन याद आ रहे हैं. क्योंकि मौजूदा दौर में अखिलेश जजंतरम ममंतरम के जावेद जाफरी हो गए हैं. और कांग्रेस पार्टी बौना बना दिया है. ये कांग्रेस का बौनापन ही तो है. जो गठबंधन में अब तक ज्यादा से ज्यादा सीटें मांग रही थी और अब उसे इतनी बड़ी पार्टी होने के बावजूद अखिलेश के सामने झुकना पड़ गया. और महज़ 105 सीटों पर ही गठबंधन कर लिया.

दरअसल गठबंधन को लेकर कांग्रेस गलत फहमियां पाल बैठी थी. उसने सोचा कि बाप से झगड़ा हो गया है. अब हम इस लड़के के सिर पर एक पड़ोसी की तरह शफ़क्क़त का हाथ फेरेंगे और हमदर्दी जताते जताते ज्यादा से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ लेंगे. और बीजेपी को जीतने से रोक लेंगे. इसी तरह जब जजंतरम ममंतरम में जावेद जाफरी उस द्वीप पर जा पहुंचते हैं, जहां सब बौने हैं और वो बौने एक दैत्य (हमारा वाला आशीष दैत्य नहीं) से परेशान हैं. तो वो लहीम शहीम आदमी को देखकर खूब उछल कूद करते हैं. उन्हें लगता है कि हम इसके ज़रिये दैत्य से निपट सकते हैं.

कांग्रेस को भी ये ही लगता है कि हम अखिलेश के जरिये सत्ता में आ सकते हैं. फिल्म में दिखाया गया कि गुलशन ग्रोवर झामुंडा नाम के दैत्य का इस्तेमाल अपना राज स्थापित करने के लिए करते हैं. उसी तरह कांग्रेस ने सोचा था कि वो अखिलेश को झामुंडा बनाकर बाकी विरोधियों को हजम कर जाएगी. मगर अखिलेश यादव कांग्रेस का झामुंडा नहीं बल्कि उसके लिए जावेद जाफरी निकले. और कांग्रेस को हजम कर गए.

गठबंधन होगा. या नहीं होगा, इसको लेकर जो समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच खींचातनी हुई उसकी कई वजहें रहीं. इनमें से एक वजह यह भी रही कि कांग्रेस अखिलेश यादव का राजनीतिक कद भांप नहीं पाई. यानी उन्होंने अखिलेश को काफी हल्के में ले लिया था. दूसरी वजह ये भी रही कि कांग्रेस की तरफ से गठबंधन से जुड़ी सारी बातें करने के लिए ना तो राहुल गांधी आगे आए, और ना ही प्रियंका गांधी. बल्कि उनकी तरफ से प्रशांत किशोर और IAS ऑफिसर रह चुके धीरज श्रीवास्तव को इसके लिए अखिलेश के पास भेजा गया था.

अखिलेश को हल्के में लेना कांग्रेस की बेवकूफी थी. वो भी उस वक्त जब अखिलेश यादव समाजवादी कुनबे में खिलाफत करके एक विजेता के रूप में सामने आए. जो खुद को एक बड़े लीडर के रूप में पेश कर रहा हो उसे ये कैसे बर्दाश्त होता कि कांग्रेस की तरफ से कोई छोटा मोटा आदमी आए गठबंधन की गांठ लगाकर चला जाए. अखिलेश को लगा होगा कि राहुल या प्रियंका न सही कम से कम पार्टी का कोई और दिग्गज नेता या फिर कांग्रेस वर्किंग कमेटी का कोई शख्स उनके पास आएगा. लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

जब गठबंधन न होने के आसार दिखाई दिए तब आखिर में प्रियंका गांधी ने डिंपल यादव को फोन लगाया. क्योंकि गठबंधन करना कांग्रेस के लिए अब मजबूरी बन गया था. वजह वही अखिलेश का जजंतरम ममंतरम का जावेद जाफरी बन जाना.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव के पास शुक्रवार या शनिवार की रात को एक बजे के करीब प्रियंका गांधी का फोन आया. उन्होंने कहा कि अखिलेश ने फोन बंद किया हुआ है. दोनों के बीच क्या बात हुई इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता. जबकि अखिलेश ने पहले ही कांग्रेस से कह रखा था कि गठबंधन की बात वे लोग डिंपल से कर सकते हैं. लेकिन अखिलेश को लगा था कि प्रियंका किसी सीनियर नेता को भेजेंगी, लेकिन उन्होंने प्रशांत किशोर को भेज दिया.

एक सपा नेता का कहना था, ‘यूपी की राजनीति में अखिलेश का कद काफी बड़ा है. कांग्रेस इस बात को नहीं समझ पाई. इससे उनका घमंड और बेपरवाह रवैया साफ तौर पर देखा जा सकता है.’ फिर भी बातचीत के आखिर तक अखिलेश यादव कांग्रेस को चुनाव के लिए 99 सीट देने के लिए तैयार थे. इसमें भी 25 ऐसे कैंडिडेट शामिल थे, जो सपा के थे, लेकिन कांग्रेस के निशान पर चुनाव लड़ने वाले थे. अखिलेश ने प्रशांत से कहा था कि 99 लकी नंबर है. लेकिन कांग्रेस राजी नहीं हुई.

कांग्रेस की हालत अखिलेश ने इतनी पतली कर दी कि गठबंधन उनकी मजबूरी बना दिया. फिर खबर आई कि अखिलेश यादव कांग्रेस को बस 105 सीटें देने को राज़ी हैं, और आखिर में कांग्रेस को हार माननी पड़ी जहां वो पहले 130 से ज्यादा सीट की मांग कर रही थी. वहीं अब उसे 105 सीट पर ही गठबंधन करना पड़ा. यूपी में अब कांग्रेस का हाथ साइकिल चलाएगा. ये गठबंधन राजनीति में क्या गुल खिलाएगा इसके लिए तो अभी इंतजार ही करना पड़ेगा.


ये भी पढ़ें

आखिरकार अखिलेश यादव ने बाप की बेइज्जती का बदला ले ही लिया

UP के उस ज़िले से ग्राउंड रिपोर्ट, जहां चारों विधायक समाजवादी पार्टी के हैं

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

ग्राउंड रिपोर्ट

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

उस नेता का नाम बहुत कम लोग जानते हैं.

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

दी लल्लनटॉप की टीम न सिर्फ अपडेट दे रही है, बल्कि नतीजों के पीछे की पूरी कहानी भी बतला रही है.

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

इस सीट पर वो नेता मैदान में है जो 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा.

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

इतने सारे रोड शो का असर सीधा पड़ेगा या उल्टा

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

पोलिंग से एक दिन पहले यहां का वोटर एकदम साइलेंट हो गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

यहां के लोग गर्व से कहते हैं, 'मुंबई वाले हमारी एक बोरी बालू में 6 बोरी पतला बालू और एक बोरी सीमेंट मिलाकर यूज करते हैं.'

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

यूपी के इस आखिरी छोर पर सियासत बहुत पीछे छूट जाती है.

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

यहां बीजेपी के सूर्य प्रताप शाही के लिए एक वोटर रियासत अली कहते हैं, 'अबकी इनका वनवास खत्म कराना है'.

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

पेश है बाहुबलियों की सीट का हाल.

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

यहां बीजेपी नेता के लिए नारा था, 'राम नगीना बड़ा कमीना, फिर भी वोट उसी को देना'.