Submit your post

Follow Us

जिस नेता ने मायावती को गाली दी थी, जीतते ही बीजेपी ने उसे पार्टी में शामिल कर लिया

6.70 K
शेयर्स

भारतीय जनता पार्टी यानी बीजेपी प्रचंड बहुमत से यूपी में जीत गई. अब वो फैसले आसानी से ले सकती है. कोई रुकावट नहीं बनेगा. न ही किसी तरह का दबाव होगा. जीतने के बाद एक फैसला तो ले लिया है. उस नेता को फिर से पार्टी में शामिल कर लिया. जिसको इसलिए निकाला गया था, क्योंकि उन्होंने चुनाव से पहले बसपा सुप्रीमो मायावती को ‘वेश्या’ से बदतर बोला था. ये नेता थे दयाशंकर सिंह. भले ही पार्टी ने उनके बोले गए अपशब्दों की वजह से पार्टी से निकाला हो, लेकिन उनकी पत्नी स्वाति सिंह को टिकट दे दिया था और वो जीत भी गईं.

अब अगर बीवी विधायक हो, तो पति कैसे पार्टी से बाहर रह सकता है. बीजेपी ने जीतते ही दयाशंकर सिंह को फिर से पार्टी में ले लिया. जबकि उन्हें छह साल के लिए निलंबित किया था. दयाशंकर के बयान के बाद बीजेपी के यूपी में पार्टी चीफ केशव मौर्य कन्नी काट ले गए थे. तब उन्होंने कहा था, ‘मुझे नहीं पता कुछ भी. अगर कुछ भी अपमानजनक पाया जाता है, तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.’

चुनाव से पहले दयाशंकर सिंह मायावती के लिए कहा था,

‘जो सपना देखा था कांशीराम जी ने, उस सपने को मायावती चूर-चूर कर रही हैं. आज मायावती जी टिकटों की इस तरह से बिक्री कर रही हैं. एक वेश्या भी अगर किसी से कॉन्ट्रैक्ट करती है जो जब तक पूरा नहीं कर लेती उसको नहीं तोड़ती है. पर ये देश की हमारी इतनी बड़ी नेता हैं तीन-तीन बार टिकट बदलती हैं. मायावती जी किसी को 1 करोड़ रुपये पर टिकट देती हैं, 1 घंटे बाद कोई 2 करोड़ रुपये देने वाला मिलता है तो उसको टिकट दे देती हैं. और शाम को 3 करोड़ दे देता है तो उसका भी (टिकट) काट करके उसको दे देती हैं. एक वेश्या से भी बदतर चरित्र की आज मायावती जी हो गई हैं.’

हालांकि ये बोलने के बाद दयाशंकर ने माफ़ी मांग ली थी दयाशंकर सिंह ने मायावती से माफ़ी मांग ली थी और आत्मसमर्पण की भी पेशकश की थी. पर तब तक देर हो चुकी थी.

दयाशंकर की पत्नी स्वाति सिंह बीजेपी महिला मोर्चा की अध्यक्ष हैं. और उन्होंने इस बार लखनऊ की सरोजनी नगर विधानसभा सीट से 34,047 वोट से जीत दर्ज की है. साथ ही उनके पति भी अब बीजेपी में वापस आ गए हैं. यानी अच्छे दिन शुरू.

स्वाति सिंह
स्वाति सिंह

केशव मौर्य जी 6 साल तो छोड़िए. अभी तो दयाशंकर के निलंबन को एक साल भी नहीं हुआ था. ज़रा संभल के चलिए. यूपी को अब बीजेपी से बहुत उम्मीदें हैं. आप ने जब दयाशंकर सिंह का निलंबन रद्द कर ही दिया तो वक़्त मिले तो इस वीडियो को फिर से सुन लेना कि आपके नेता जी ने क्या कहा था.

दयाशंकर को बीजेपी ने 6 साल के लिए पार्टी से तो निकाल दिया था. साथ ही उस वक़्त FIR  भी दर्ज हुई थी. पुलिस गिरफ्तार करने घर पहुंची थी, लेकिन दयाशंकर फरार हो चुके थे.

दयाशंकर की पत्नी स्वाति ने उस वक़्त कहा था, ‘उन्हें पोस्ट से हटा दिया गया है, FIR हो गई है, उन पर और कई आरोप लगाए जा रहे हैं और उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया है. इतना करके भी मायावती संतुष्ट नहीं हैं. उनका बस चले तो वो उनका सिर कटवा के ही मंगवा लें.’


ये भी पढ़िए :

‘एक वेश्या से भी बदतर चरित्र की आज मायावती हो गई हैं’

BJP के बैड बॉय दयाशंकर सिंह के बदनाम किस्से

डियर दयाशंकर, मायावती मर्द होतीं तब भी ‘वेश्या’ कहते?

डियर दयाशंकर, मायावती मर्द होतीं तब भी ‘वेश्या’ कहते?

वो शाम, जिसने 21 साल की मायावती की जिंदगी बदल दी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

ग्राउंड रिपोर्ट

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

उस नेता का नाम बहुत कम लोग जानते हैं.

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

दी लल्लनटॉप की टीम न सिर्फ अपडेट दे रही है, बल्कि नतीजों के पीछे की पूरी कहानी भी बतला रही है.

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

इस सीट पर वो नेता मैदान में है जो 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा.

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

इतने सारे रोड शो का असर सीधा पड़ेगा या उल्टा

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

पोलिंग से एक दिन पहले यहां का वोटर एकदम साइलेंट हो गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

यहां के लोग गर्व से कहते हैं, 'मुंबई वाले हमारी एक बोरी बालू में 6 बोरी पतला बालू और एक बोरी सीमेंट मिलाकर यूज करते हैं.'

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

यूपी के इस आखिरी छोर पर सियासत बहुत पीछे छूट जाती है.

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

यहां बीजेपी के सूर्य प्रताप शाही के लिए एक वोटर रियासत अली कहते हैं, 'अबकी इनका वनवास खत्म कराना है'.

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

पेश है बाहुबलियों की सीट का हाल.

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

यहां बीजेपी नेता के लिए नारा था, 'राम नगीना बड़ा कमीना, फिर भी वोट उसी को देना'.