Submit your post

Follow Us

मायावती ने अपने भरोसेमंद मुस्लिम नेता, उनके बेटे को पार्टी से बाहर कर दिया

1.48 K
शेयर्स

बहुजन समाज पार्टी ने अपने सीनियर नेता नसीमुद्दीन सिद्दिकी और उनके बेटे अफजल सिद्दिकी को पार्टी से बाहर कर दिया है. एक समय पार्टी के सबसे विश्वसनीय नेताओं में शुमार सिद्दिकी को लोगों से काम के बदले पैसा लेने के आरोप में निष्काषित किया है. पार्टी के जनरल सेक्रेटरी और राज्य सभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा के हवाले से यह खबर आई है. मिश्रा ने यह भी कहा है कि पार्टी में किसी भी तरह की अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

पिछले महीने पार्टी में बड़े फेरबदल करते हुए मायावती ने सिद्दीकी को यूपी प्रभारी के पद से हटा दिया था. उसके बाद से इस बड़े मुस्लिम चेहरे को मध्य प्रदेश का इंचार्ज बनाया गया था. पार्टी को हाल ही में हुए चुनावों में बड़ी हार मिली है. 403 सीटों वाली यूपी विधानसभा में मायावती की इस पार्टी को सिर्फ 19 सीटें मिलीं थी. वहीं 2014 के लोक सभा चुनाव में 80 में से एक भी सीट नहीं मिली थी.

चुनावों से पहले 28 साल के अफजल सिद्दीकी को पार्टी ने काफी प्रमोट किया था. बसपा ने  अपने चुनावी कैंपेन को धर्म की धार लगाई थी. और मायावती ने इसकी जिम्मेदारी सौंपी थी अपने नंबर-2 नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी के बेटे अफज़ल सिद्दीकी को. और इलाका दिया गया था वेस्ट यूपी का. यानी आगरा, अलीगढ़, मेरठ, सहारनपुर, मुरादाबाद और बरेली. इन 6 जोन में अफज़ल ने मुसलमानों को ‘मोबिलाइज़’ करने की कोशिश भी की थी.

इस सबक की शुरुआत खुद मायावती ने की थी. तारीख़ थी 9 अक्टूबर. जगह थी लखनऊ. रैली में उन्होंने कहा था,

‘मुस्लिम बहुल इलाक़ों में मुसलमानों और दलितों के वोट मिलने से ही बीएसपी के उम्मीदवार चुनाव जीत जाएंगे. मुसलमान उन सीटों पर अपना वोट सपा और कांग्रेस को देकर मुस्लिम समाज के वोट न बांटें. ऐसा करने से पिछले लोकसभा चुनाव की तरह बीजेपी को ही फ़ायदा होगा.’

मुसलमानों को जोड़ने के लिए  बसपा सबसे ज्यादा आक्रामक और बेचैन दिखी थी. वेस्ट यूपी के जिन 6 ज़ोन की जिम्मेदारी अफज़ल सिद्दीकी को सौंपी गई थी, वहां 140 विधानसभा सीटें हैं. ये मुस्लिम बहुल इलाके हैं. यहां कुछ सीटों पर मुस्लिम वोट 70 फीसदी तक है. और इस बार के चुनावों में बसपा ने 125 मुसलमानों को उम्‍मीदवार बनाया था. इन 125 में से आधे तो इन 6 जोन से चुनाव लड़े. बिजनौर जिले की आठ में छह सीटों पर बसपा ने मुसलमानों को खड़ा किया था. जबकि बाकी की दो सीटें आरक्षित थीं. बिजनौर की 4 सीटों पर मुस्लिमों का होना इस बात को भी जाहिर कर रहा था कि वो दंगों का खौफ दिखाकर मुसलमानों को अपने दामन में समेट लेने की कोशिश में थे.

28 साल के अफजल सिद्दीकी बैठक में जाते और कहते थे, ‘समाजवादियों का असली चेहरा सामने आ गया है. उनके पास मत जाओ. ना भूले हैं, ना भूलने देंगे. आप लोगों को लव जिहाद और गोहत्‍या के नाम पर पीटा गया. अब एक होने का वक्त है. यह आपकी मौजूदगी की लड़ाई है.’

तस्वीर पुरानी है. Source facebook

अफजल राजनीति में चार साल पहले ही एक्टिव हुए थे. 2012 विधानसभा चुनावों में मायावती की रैलियों की जिम्‍मेदारी उनके ही पास थी. इस चुनाव में भले ही बसपा हारी हो, लेकिन अफजल सिद्दीकी के काम करने की काबिलियत ने मायावती का दिल जीत लिया. अफजल की स्‍कूली पढ़ाई देहरादून के बोर्डिंग स्‍कूल में हुई. इसके बाद नोएडा से लॉ की पढ़ाई की. और फिर मीट सप्लायर बन गए. उन्‍हें सेना से भी सप्‍लाई कॉन्‍ट्रैक्‍ट मिला. उनके यूपी और हरियाणा में स्लाटर हाउस हैं. अफजल अपने भरोसे के 20 लोग साथ रखते हैं. ये सब मिलकर बसपा के लिए सोशल मीडिया पर भी काम करते हैं. अफजल ने 2014 में फतेहपुर सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा. लेकिन हार गए.

चुनाव प्रचार से पहले ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक अफजल के रणनीतिकारों का मानना है कि मुसलमानों ने पहले भी मायावती को वोट किया है लेकिन एक बड़ा हिस्‍सा सपा को गया है. बसपा को यह बात पता है कि यूपी के कुल मतों के 40 प्रतिशत मुसलमान और दलित हैं और अगर ये साथ आ जाएं, तो खेल बदला जा सकता है. इसीलिए मुस्लिमों पर फोकस किया जा रहा है.

ये अफज़ल का ही दिमाग था, जो पिछले दिनों बसपा नेताओं ने चुनावी बैठकों में कुरान के हवाले दिए. हदीसों को बयान किया. ताकि मुसलमानों के दिमाग सोचना बंद कर दें और चुनाव में ठप्पा बसपा पर लगाएं. धर्म का इतने सही ढंग से इस्तेमाल चुनाव के लिए शायद ही किसी ने किया हो. अफज़ल रैली या बैठकों के लिए ऐसी जगह चुनते हैं जो मुसलमानों के लिए बेहद अहम हो.

अमरोहा जिले में अफजल की रैली होने वाली थी. उसके लिए उन्होंने जगह चुनी थी ईदगाह. लेकिन वहां ये रैली नहीं हो पायी. ये कहकर प्रशासन ने मना कर दिया कि ईदगाह की जमीन किसी राजनीतिक काम के लिए नहीं दी जा सकती. रैली के लिए ईदगाह की जगह का चुनाव करके जो मैसेज उन्हें मुसलमानों को देना था, वो दे दिया. भले ही दूसरी जगह रैली करनी पड़ी.


ये भी पढ़ें

बसपा ने कुरान पढ़ना शुरू कर दिया है

अखिलेश यादव का सामान कमरे से निकाल फ़ेंका था शिवपाल ने!

 

 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
BSP reaches out to Muslims via loyalist’s 28-year-old afzal khan

ग्राउंड रिपोर्ट

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

उस नेता का नाम बहुत कम लोग जानते हैं.

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

दी लल्लनटॉप की टीम न सिर्फ अपडेट दे रही है, बल्कि नतीजों के पीछे की पूरी कहानी भी बतला रही है.

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

इस सीट पर वो नेता मैदान में है जो 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा.

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

इतने सारे रोड शो का असर सीधा पड़ेगा या उल्टा

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

पोलिंग से एक दिन पहले यहां का वोटर एकदम साइलेंट हो गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

यहां के लोग गर्व से कहते हैं, 'मुंबई वाले हमारी एक बोरी बालू में 6 बोरी पतला बालू और एक बोरी सीमेंट मिलाकर यूज करते हैं.'

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

यूपी के इस आखिरी छोर पर सियासत बहुत पीछे छूट जाती है.

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

यहां बीजेपी के सूर्य प्रताप शाही के लिए एक वोटर रियासत अली कहते हैं, 'अबकी इनका वनवास खत्म कराना है'.

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

पेश है बाहुबलियों की सीट का हाल.

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

यहां बीजेपी नेता के लिए नारा था, 'राम नगीना बड़ा कमीना, फिर भी वोट उसी को देना'.