Submit your post

Follow Us

अमर सिंह सपा को बाद में संभालेंगे, पहले अपना विकीपीडिया पेज संभाल लें

अमर सिंह नेता हैं, समाजवादी पार्टी में कभी बड़ा भौकाल रहा. अमिताभ बच्चन के क्लोजमक्लोज रहे. आज़म से तो टॉम एंड जेरी वाला रिलेशन है. फिर ऐसा टाइम आया था कि टीं बोल गए. अभी समाजवादी पार्टी में वापसी हुई है. उससे पहले करीब छह साल तक अमर सिंह पॉलिटिक्स से दूर रहे. इत्ते में एक अर्धकुंभ हो जाता है, मार्वल वाले एक्समेन की तीन पिच्चर रिलीज कर देते हैं. अमर सिंह इस दौरान बीमार भी थे. ख़ुद की पार्टी भी बनाई लेकिन 2012 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में पार्टी भी टीं ही बोल गई.

अब जब आए हैं तो दहकुच्च मचाए हैं, सपा के घर में कपारफोड़ कार्यक्रम चल रहा है. मुलायम सिंह के घर के किचन गार्डेन में इस आदमी ने धनिया बो रखी है. अब इलेक्शन भी है तो लग रहा ये आदमी और फुटेज खाएगा.

लेकिन, लेकिन, लेकिन. ठहरिए. इस्पीड अच्छी है लेकिन थोड़ा इधर हटो-बचो वाला भी हिसाब रखिए. विकीपीडिया पर अमर सिंह ने अपना पेज देखा है? अंग्रेजी वाला नहीं हिंदी वाला. हिंदी के विकीपीडिया पेज में उनके लिए गलत शब्दों का इस्तेमाल किया गया है. इत्ता स्कैन्ड्लाइज्ड मत होइए. उन्हें ‘दलाल’ लिखा गया है.

amar singh

उसी पेज में जो लिंक्स लगी हैं वो भी महान ही हैं. वोट के लिए नोट स्कैंडल का जिक्र है साथ ही वो खबर है, जिसमें लिखा है ‘कलमाड़ी, राजा और मधु कोड़ा के बीच तिहाड़ में हैं अमर सिंह’ मतलब इस पूरे पेज में उनके बारे में कुछ अच्छा नहीं लिखा है.

amar scsc

विकीपीडिया पर पेज कोई भी एडिट कर सकता है. अमर सिंह को ये बात नहीं पता है क्या? खुद ही कर लें. आखिरी बार 8 सितंबर 2014 को उनका पेज एडिट हुआ था. और तो और जिसने भी ये लिखा है, बहुत गलत लिखा है, माने गलत सही लिखो कोई दिक्कत नहीं. लेकिन इतना टाइपो न करो. 16-17 से कम क्या ही टाइपो होंगे.

अब अमर जी से उम्मीद है कि वो इस तरफ भी नज़र फिराएंगे.यूपी और सपा तो ठीक ही है, पहले अपना विकीपीडिया पेज दुरुस्त कर लेंगे. काहे कि डिजिटल का जोर है, और देश सुने हैं बदल रहा है.


 

बीजेपी से हो गया था ब्लंडर मिस्टेक, सुधारा तो रंग लिया गेरुआ!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

ग्राउंड रिपोर्ट

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

उस नेता का नाम बहुत कम लोग जानते हैं.

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

दी लल्लनटॉप की टीम न सिर्फ अपडेट दे रही है, बल्कि नतीजों के पीछे की पूरी कहानी भी बतला रही है.

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

इस सीट पर वो नेता मैदान में है जो 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा.

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

इतने सारे रोड शो का असर सीधा पड़ेगा या उल्टा

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

पोलिंग से एक दिन पहले यहां का वोटर एकदम साइलेंट हो गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

यहां के लोग गर्व से कहते हैं, 'मुंबई वाले हमारी एक बोरी बालू में 6 बोरी पतला बालू और एक बोरी सीमेंट मिलाकर यूज करते हैं.'

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

यूपी के इस आखिरी छोर पर सियासत बहुत पीछे छूट जाती है.

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

यहां बीजेपी के सूर्य प्रताप शाही के लिए एक वोटर रियासत अली कहते हैं, 'अबकी इनका वनवास खत्म कराना है'.

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

पेश है बाहुबलियों की सीट का हाल.

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

यहां बीजेपी नेता के लिए नारा था, 'राम नगीना बड़ा कमीना, फिर भी वोट उसी को देना'.