Submit your post

Follow Us

आज़म खान ने अमर सिंह के सवाल पर सुनाई कुत्ते के गोश्त की कहानी

5
शेयर्स

आज़म खान और अमर सिंह. एकदम सचिन और अख्तर वाली बात. खेल एक ही खेलते हैं, लेकिन टांके नहीं फंसते. अमर सिंह का नाम ले लो, तो आज़म खान पिनक जाते हैं. मंगलवार को अमर सिंह के बारे में पूछा गया तो कहानी सुनाने लगे. ये कहानी उस इंटरव्यू के बाद आई है, जो अमर सिंह ने ‘आज तक’ को दिया था. वहां अमर सिंह ने कहा कि वो राज्य सभा के सांसद के तौर पर इस्तीफ़ा देने की सोच रहे हैं. अमर सिंह ने यहां तक कह दिया कि अखिलेश यादव ग़लत लोगों से घिरे हुए हैं. उन्होंने बताया कि अखिलेश के पास उनसे मिलने तक का वक़्त नहीं है.

खैर, आज़म खान की कहानी की ओर आते हैं. आजम ने कहा कि एक परिवार के पास खाने को कुछ भी नहीं था. घर में सब भूखे थे. जब मां को कुछ नहीं सूझा, तो उसने सामने जा रहे कुत्ते को पकड़ा और उसी को काट कर खाने के लिए पका दिया. जब बाप घर लौटा तो उसने अपने बच्चे से पूछा कि आज घर में खाने में क्या बना है. बच्चा सोच में पड़ गया कि क्या कहे. उसने सोचा कि अगर सच बोलूंगा तो मां को मार खानी पड़ेगी और अगर झूठ बोलता हूं तो पिता को कुत्ता खाना पड़ेगा. आजम खान ने कहा कि अमर सिंह के सवाल पर पार्टी में मेरी स्थिति उसी बच्चे जैसी है.

दो पैरा की खबर लेकिन अपने आप में बहुत कुछ कहती है. पार्टी के बारे में भी और आने वाले चुनावों में मचने वाली भसड़ का अंदेशा भी लगाया जा सकता है. ये वो टाइम है, जब सब अपने-अपने नम्बर बनाने में लगे हैं. लोग रूठेंगे, उन्हें मनाया जाएगा. कई ऐसे भी होंगें, जिन्हें नहीं मनाया जाएगा. ऐसे में अमर सिंह को ये भी डर होना चाहिए कि वो रूठे और उन्हें कोई मनाने को ही न आये तो?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

ग्राउंड रिपोर्ट

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

उस नेता का नाम बहुत कम लोग जानते हैं.

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

दी लल्लनटॉप की टीम न सिर्फ अपडेट दे रही है, बल्कि नतीजों के पीछे की पूरी कहानी भी बतला रही है.

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

इस सीट पर वो नेता मैदान में है जो 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा.

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

इतने सारे रोड शो का असर सीधा पड़ेगा या उल्टा

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

पोलिंग से एक दिन पहले यहां का वोटर एकदम साइलेंट हो गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

यहां के लोग गर्व से कहते हैं, 'मुंबई वाले हमारी एक बोरी बालू में 6 बोरी पतला बालू और एक बोरी सीमेंट मिलाकर यूज करते हैं.'

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

यूपी के इस आखिरी छोर पर सियासत बहुत पीछे छूट जाती है.

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

यहां बीजेपी के सूर्य प्रताप शाही के लिए एक वोटर रियासत अली कहते हैं, 'अबकी इनका वनवास खत्म कराना है'.

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

पेश है बाहुबलियों की सीट का हाल.

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

यहां बीजेपी नेता के लिए नारा था, 'राम नगीना बड़ा कमीना, फिर भी वोट उसी को देना'.