Submit your post

Follow Us

मत फेंकिए क्योंकि स्याही कालिख नहीं होती

591
शेयर्स

कहते हैं इराक वालों ने कलम कोई 5 हजार साल पहले बना ली थी. मगरिब का खलीफा था, मोहम्मद अल मुइज उसने सन 973 में एक कमाल की चीज बनाई. हम फिलहाल उसे फाउन्टेन पेन बुला लेते हैं. एक जर्मन ने सैकड़ों सालों बाद उस फाउन्टेन पेन में निब लगा दी.

ये जो कलम थी वो यूं ही तो चल न जाती. उसमें कुछ डालना भी था. क्या डालते? इसका जवाब छुपा है हर्षवर्धन के राज में. सन 600 के करीब. ‘हर्षचरित’ और ‘कादम्बरी’ वाले बाणभट्ट जब तक संस्कृत में कुछ कबार पाते. तब तक एक बड़ा नाम मार्केट में आ गया था, सुबंधु का. उन सुबंधु ने ‘वासदत्ता’ में एक भली सी चीज का जिक्र किया, वो थी स्याही. वही स्याही जो आज केजरीवाल पर फेंकी गई.

पुराणों के हिसाब से चलें तो तीन हजार और नौ सौ साल पहले की बात सुनिए . किसी रोज भगवान कृष्ण के पैर के नीचे एक स्याही लगा पत्ता छुपा था. बर्बरीक का तीर उस स्याही लगे पत्ते को तलाशता भगवान कृष्ण का पैर चीर गया था. बर्बरीक अपनी शक्तियां न संभाल पाता. इसलिए उसका सिर मांग लिया गया. आप स्याही नहीं संभाल पाते आपसे क्या मांगे?

स्याही होती है लिखने के लिए, लिखने को स्याही थी. कलम न मिली तो भगवान गणेश ने अपना दांत तोड़ कलम बना ली. उनने भी न सोचा होगा स्याही का ऐसा इस्तेमाल होगा.

तो ये बताया कि स्याही कितनी पुरानी है. बस इसलिए ताकि ये पूछ सकें कि हम अब तक स्याही का सही इस्तेमाल क्यों नहीं सीख पाए हैं. स्याही लिखने को होती है. फेंकने के लिए नहीं. आपको समस्या क्या है? किससे है? नेताओं से? अपनी बात कहनी है? कहिए न. वो जो स्याही फेंक दी उसी को कलम में भरिए, लिखिए बात इस तरीके से भी पहुंचाई जा सकती है. इंक से इंकलाब आ सकता है दोस्त. ये क्या कि किसी पर जूता फेंक दिया, किसी पर स्याही मल दी, किसी को थप्पड़ मार दिया.

हमें केजरीवाल के लिए बुरा नहीं लग रहा, हरगिज नहीं. ये वही केजरीवाल हैं जिनकी पार्टी ने चिदंबरम पर जूता फेंकने वाले को अपनी पार्टी का टिकिट दिया था. बूमरैंग जानते हैं न आप? हां, वही जो लौट कर आता है.

स्याही फेंकना प्रतीक है कोई? आप चेताना चाहते हैं जैसे ये स्याही बही कल को खून भी बह सकता है. इस स्याही की जगह तेज़ाब हो सकता है. आप अगले के मर जाने की कामना कर रहे हैं, स्याही फेंककर?

हमे बुरा स्याही के लिए लगता है. बुरा लगता है जब स्याही को कालिख बुलाया जाता है. स्याही कालिख नहीं होती. जो ये कहते हैं झूठ कहते हैं. ये विरोध का कौन सा तरीका हुआ? क्या स्याही कोई घृणित चीज है? बुरी है स्याही. जिसे फेंककर सामने वाले का अनिष्ट कर रहे हैं. बुरी है तो फिर हम अपनी कलमों से स्याही बहा दें, या मल दें किसी के चेहरे पर बीच चौराहे पर. क्योंकि आपको तो यही लगता है कि स्याही लिखने के लिए नहीं होती.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.