Submit your post

Follow Us

मर्दों के भी रेप होते हैं, और उसे 'सोडोमी' मत कहिए

दिल्ली में 4 लड़कों ने 26 साल के एक लड़के का रेप किया. रेप का अर्थ, उसे जबरन सोडोमाइज किया. उसके बाद उसे पत्थरों से पीटा. ये घटना 29 जनवरी को गोविंदपुरी इलाके में हुई.

पीड़ित लड़के के मुताबिक उसे चार लड़के जबरन पकड़कर एक जंगल जैसे इलाके में ले गए. और वहां रेप किया. रेप के बाद लड़के ने किसी तरह पुलिस को सबकुछ बताया. एम्स में अब लड़के का इलाज चल रहा है. और पुलिस ने सेक्शन 377 के तहत केस दर्ज किया है.

ये पहली बार नहीं हुआ है कि किसी पुरुष का रेप हुआ है. ऐसा भी नहीं कि ऐसा पहला केस रिपोर्ट हुआ हो. जो बात आश्चर्यचकित करने वाली है वो ये कि ये लोगों को हास्यास्पद लगता है.

रेप एक पावर का क्राइम है. पावर का अर्थ यहां सत्ता से है. जब किसी को ये मालूम होता है कि उसके पास अगले व्यक्ति से ज्यादा ताकत है, वो उसके साथ हिंसा करने से पहले नहीं सोचता है. बल्कि वो अपनी सत्ता का प्रदर्शन करने के लिए किसी अकेले या कमजोर व्यक्ति के शरीर पर मात्र ‘उत्पीड़न’ ही नहीं, ‘यौन उत्पीड़न’ करता है. क्योंकि यौन उत्पीड़न तमाम तरह के टॉर्चर के परे एक फुल स्टॉप सा है. कि ये हुआ तो अगला व्यक्ति आत्मा तक घायल होगा.

जब बात पावर यानी सत्ता की होती है, तो हमारी सोच से लेकर भाषा तक हम पुरुष और पौरुष के बारे में सोचते हैं. ये हमारी कोई खामी नहीं, हमारी ट्रेनिंग है. हमें लगता है कि शोषण करने वाला पुरुष ही होगा. क्योंकि औरतें कमजोर होती हैं. और रेप की बात सुनते ही हमारे दिमाग में जो तस्वीर बनती है, वो एक पुरुष की एक स्त्री पर खुद को जबरन थोपते हुए कि बनती है. चूंकि हमारे समाज में ‘इज्जत’ औरतों में बसती है, पुरुषों में नहीं, पुरुष के पास कुछ लुटने का होता ही नहीं है.

इसलिए अगर कभी सत्ता औरत के हाथ में आती है, हमें लगता है कुछ अलग हो गया है. जब ये सत्ता औरत के हाथों पुरुष पर हुई हिंसा के रूप में दिखती है, हमें ये हास्यास्पद लगता है. और ये न भूलें कि औरत का पुरुष पर हमला करना कोई क्रांतिकारी या नारीवादी बात है. ये हिंसक है. अमानवीय है. और जो पुरुषवादी सोच औरतों को पीटने को जस्टिफाई करती है, वही पुरुष के पिटने पर कहती है, ‘औरत से पिट गए?’

हालांकि दिल्ली में लड़के का गैंगरेप औरतों नहीं, पुरुषों ने किया था. इसी सत्ता के प्रदर्शन में. कि हम चार लड़के मिलकर एक कमज़ोर लड़के का रेप कर सकते हैं.

जरूरी बात ये है कि हमारा कानून जिस तरह रेप को परिभाषित करता है, उसमें शोषित व्यक्ति को कहीं पुरुष माना ही नहीं गया है. इंडियन पीनल कोड का सेक्शन 375, जो रेप की परिभाषा देता है, ये कहता है:

एक ‘पुरुष’ ने रेप किया है, ये हम तब कहते हैं जब वो एक ‘औरत’ से सेक्शुअल संबंध इन हालातों में बनाता है…’

इसके बाद कानून हमें बताता है कि किन किन हालातों में हुए सेक्स को रेप कहा जा सकता है, जिसमें लड़की की ‘हां’, उससे जबरन निकलवाई गई ‘हां’, उसके 16 से कम उम्र का होना या उसका नशे में होना दिया गया है. कहीं पर भी इस बात का जिक्र नहीं है कि शोषित अगर औरत नहीं, पुरुष, समलैंगिक या ट्रांसजेंडर हो. और इस तरह औरतों के अलावा किसी और से रेप होने पर कानून में कोई सजा नहीं है.

अगर पुरुष खुद से हुए रेप की शिकायत करता है, तो वो सेक्शन 377 में आता है. सेक्शन 377 कहता है कि किसी भी ‘अननेचुरल’ तरीकों से किया गया सेक्स गुनाह है. मगर ध्यान रहे, यहां शब्द ‘सेक्स’ है, रेप नहीं. इसलिए सेक्शन 377 समलैंगिक संबंधों को भी गैरकानूनी साबित कर देता है. सेक्शन 377 कहीं ‘कंसेंट’ यानी सेक्स करने वाले सेक्स करना चाहते हैं या नहीं, की कोई बात नहीं है.

अधिकतर अखबारों में पुरुष के रेप के लिए ‘सोडोमी’ शब्द का इस्तेमाल होता है. ‘सोडोमी’ का शाब्दिक अर्थ एनल सेक्स, ओरल सेक्स या जानवरों के साथ सेक्स है. सोडोमी शब्द ‘सोडोम’ से आता है, जिसका जिक्र बाइबल और क़ुरान दोनों में है. सोडोम एक शहर था जिसे पापों के लिए जाना गया. यानी सोडोमी एक ‘पाप’ है. और इसी मान्यता की झलक हमें अपने कानून में मिलती है. जब हम रेप को ‘सोडोमी’ कहते हैं, हम भूल जाते हैं कि एनल सेक्स में भी पुरुष की स्वीकृति मिलनी चाहिए. अगर स्वीकृति नहीं है, तो वो सोडोमी या एनल सेक्स नहीं, रेप है.

जब किसी के हाथ किसी को अनचाहे तरीके से छूते हैं, बुरा महसूस होता है. फिर चाहे सताया जाने वाला औरत हो या पुरुष. दिल्ली में जो हुआ वो देश-दुनिया में हर जगह, हर शहर में हो रहा है. पुरुष अगर बच्चा है तो फिर भी उसे POCSO के तहत कानूनी मदद मिलती है. लेकिन अगर वयस्क है तो लोग हंसते है. लोग उसके पीड़ित होने पर हंसते हैं, उसके एक ताकतवर पुरुष न होने पर हंसते हैं. इस डिजिटल दौर में जब हम किसी भी मुद्दे से अछूते नहीं रहे हैं, जरूरी है कि हम इस बात को मानें कि पुरुषों के भी रेप होते हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

अरूसा आलम: जनरल रानी की बेटी, जिसने हिंदुस्तानी पंजाब की राजनीति के समीकरण बदल दिए

अरूसा आलम: जनरल रानी की बेटी, जिसने हिंदुस्तानी पंजाब की राजनीति के समीकरण बदल दिए

इस कहानी के पात्र हैं- पत्रकार अरूसा आलम, पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पूर्व ISI चीफ जनरल फैज़ हमीद.

लता ने पल्लू खोंसा और बोलीं, 'दोबारा दिखा तो गटर में फेंक दूंगी, मराठा हूं'

लता ने पल्लू खोंसा और बोलीं, 'दोबारा दिखा तो गटर में फेंक दूंगी, मराठा हूं'

जानिए लता मंगेशकर के उस रूप के बारे में, जिससे बहुत कम लोग परिचित हैं.

यूपी का वो गैंगस्टर, जिसने रन आउट होते ही अंपायर को गोली मार दी

यूपी का वो गैंगस्टर, जिसने रन आउट होते ही अंपायर को गोली मार दी

फिल्मी कहानी से कम नहीं खान मुबारक की जिंदगी?

देश के 13वें उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश को इमरजेंसी की देन हैं

देश के 13वें उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश को इमरजेंसी की देन हैं

इन्होंने अटल के लिए सड़क बनाई थी और मोदी के लिए किले. अब उपराष्ट्रपति हैं.

मुख़्तार अंसारी, सुनहरा चश्मा पहनने वाला वो 'नेता' जो मीडिया के सामने बैठकर पिस्टल नचाता था

मुख़्तार अंसारी, सुनहरा चश्मा पहनने वाला वो 'नेता' जो मीडिया के सामने बैठकर पिस्टल नचाता था

गैंग्स्टर से नेता बने मुख़्तार अंसारी के क़िस्से.

जैन हवाला केस क्या है, जिसके आरोपों के छींटे बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के ऊपर पड़ रहे हैं

जैन हवाला केस क्या है, जिसके आरोपों के छींटे बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के ऊपर पड़ रहे हैं

इस केस में आरोप लगने के बाद आडवाणी को इस्तीफा देना पड़ा था.

इलॉन मस्क, जिसे असल दुनिया का आयरन मैन कहा जाता है

इलॉन मस्क, जिसे असल दुनिया का आयरन मैन कहा जाता है

जो स्कूल में बच्चों से पिट जाता था, वो दुनिया के सबसे अमीर इंसानों की लिस्ट में कैसे पहुंचा.

मेसी: पवित्रता की हद तक पहुंच चुका एक सुंदर कलाकार

मेसी: पवित्रता की हद तक पहुंच चुका एक सुंदर कलाकार

दुनिया के सबसे धाकड़ लतमार के जन्मदिन पर एक 'ललित निबंध'. पढ़िए प्यार से. पढ़िए चपलता से.

जिदान को उस रोज़ स्वर्ग से निष्कासित देवता के आदमी बनने की खुशी थी

जिदान को उस रोज़ स्वर्ग से निष्कासित देवता के आदमी बनने की खुशी थी

सामने की टीम का लड़का उसकी कमीज खींच रहा था, इसने कहा चाहिए क्या मैच के बाद देता हूं..

संजय गांधी: जोखिम का इतना शौक कि चप्पल पहनकर ही प्लेन उड़ाने लगते थे

संजय गांधी: जोखिम का इतना शौक कि चप्पल पहनकर ही प्लेन उड़ाने लगते थे

23 जून 1980 को पेड़ काटकर उतारी गई थी संजय गांधी की लाश.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.